Sunday, Apr 05, 2020
delhi police in action on breaking rules in lockdown

Lockdown में नियम तोड़ने पर एक्शन में दिल्ली पुलिस, करीब 1 हजार वाहन जब्त

  • Updated on 3/26/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के अतिरिक्त प्रवक्ता अनिल मित्तल ने बताया कि लॉक डाउन के दौरान घरों से बिना वजह बाहर निकल रहे लोगों के खिलाफ दिल्ली पुलिस लगातार एक्शन ले रही है। बार-बार लोगों से अपील की जा रही है कि वह अपने और परिवार की सुरक्षा के लिए घरों में ही रहें। जो लोग इसका पालन नहीं कर रहे पुलिस उनके खिलाफ कार्रवाई कर रही है।

Corona Effect: दिहाड़ी मजदूर झेल रहे दोहरी मार,छिनी रोजगार और पेट पर पड़ी लात

इसी के तहत दिल्ली पुलिस ने डीपी एक्ट-66 के तहत बृहस्पतिवार शाम पांच बजे तक 930 वाहनों को जब्त कर थानों में जमा कर लिया। इस दौरान जरूरी सेवाएं देने वाले लोगों के लिए बृहस्पतिवार को 13915 कर्फ्यू पास जारी किए गए। दिल्ली पुलिस लगातार लोगों से घरों में ही रहने की अपील कर रही है।

आज 100 से अधिक मामले दर्ज किए गए
दिल्ली पुलिस ने कहा कि कोरोना वायरस लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान सरकारी आदेशों का उल्लंघन करने को बृहस्पतिवार को 100 से अधिक मामले दर्ज किए गए और 4800 लोगों को हिरासत में लिया गया। पुलिस द्वारा साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार, शाम पांच बजे तक भारतीय दंड संहिता (Indian Panel code) की धारा 188 के तहत 130 मामले दर्ज किए गए थे। उन्होंने बताया कि धारा 65 के तहत कुल 4923 लोगों को हिरासत में लिया गया है और 930 वाहनों को दिल्ली पुलिस अधिनियम की धारा 66 के तहत जब्त किया गया है।

लॉकडाउन के बाद भी दिल्ली हिंसा की जांच जारी, गठित की गई तीसरी SIT टीम

बुधवार को 5 हजार से अधिक लोग हिरासत में लिए गए
दिल्ली पुलिस के अनुसार बुधवार को 183 मामले दर्ज किए गए और 5103 लोगों को हिरासत में लिया गया। बुधवार को कुल 956 वाहन जब्त किये गए थे। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देशभर में 21 दिनों के लिए बंद की घोषणा की थी। बता दें, देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) हर दिन अपने पैर पसार रहा है। दिल्ली में अब तक 35 लोगों के संक्रमण की खबरें सामने आई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.