Sunday, Oct 17, 2021
-->
delhi police: it is the responsibility of all of us to protect from corona musrnt

अनलॉक दिल्लीः दिल्ली पुलिस आयुक्त ने कहा- कोरोना से बचाव हम सबकी जिम्मेदारी

  • Updated on 6/7/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोविड की दो माह से ज्यादा तक चली सुनामी के बाद आखिरकार एक बार फिर से राजधानी दिल्ली दौड़ने को तैयार है, हालांकि आंशका है कि दिल्ली अपने ढंग में दोबारा तेजी से दौड़ी तो जल्द ही कोविड के चलते लॉक हो सकती है,नतीजतन इसकी रफ्तार को रोकना साथ ही तीसरी वेब के आने से पहले को अपने और मजबूती से तैयार करना और इसी बीच क्राइम कंट्रोल करना दिल्ली पुलिस के लिए बड़ी चुनौती है।

नतीजतन दिल्ली पुलिस ने अपनी कई नीतियों में बदलाव किया है, इसके चलते जहां राजधानी दौड़ेगी और कोविड सहित क्राइम कंट्रोल के हर मोर्चे पर मात भी देगी। कैसे और कौन कौन सी हैं वे नीतियां, इसी पर शीर्ष अधिकारियों से नवोदय टाइम्स के लिए संजीव यादव ने बातचीत की जिसमें पुलिस अधिकारियों ने बताया कि किस रणनीति के तहत वे दिल्ली को महफूज रखेंगे। 


दिल्ली पुलिस आयुक्त एस.एन.श्रीवास्तव ने इस संबंध में बताया कि बनाई गई कोई भी नीति या योजना तब तक सफल नहीं होती जब तक उसमें आम लोगों की भागीदारी न हो। कोविड के केस भले ही कम हो गए हों,लेकिन खतरा नहीं टला है। अनलॉक हो रही दिल्ली को बचाने की सबसे अहम जिम्मेदारी लोगों की हैं,अगर वे लोग खुद सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। दुकानदार खुद नियमों का सख्ती से पालन करवाएं तो हमारा काम आधा रह जाएगा। खासतौर से सभी प्रमुख बाजारों, मॉल्स व कमर्शल कॉम्प्लैक्स, मेट्रो स्टेशनों, सब्जी मंडियों, जहां अब लोगों की आवाजाही फिर से बढ़ जाएगी। इसके लिए विशेष नीति बनी है,जिसके तहत सभी एसएचओ अपने इलाकों में मार्किट एसोसिएशन, आरडब्लूए व निजी संस्थाओं का सहारा लेंगे।

इसके तहत थानावॉर प्रत्येक एसोएिशन संस्था की जिम्मेदारी तय की जाएगी कि वे अधिक से अधिक लोगों को साथ जोड़ कर कोविड नियमों का पालन करवाएं। साथ ही प्रत्येक एसएचओ लगातार इनके बीच मौजूद रहेंगे और रूटीन चैकिंग के अलावा उनकी गतिविधियों को देखेंगे, साथ ही अगर किसी भी संस्था का कोई सुझाव भी होगा तो उसे अमल में लाया जाएगा। 

उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस ने कोविड के दौरान भी सडकों पर लोगों की हिफाजत की। हर कोशिश की कि लोगों को इससे बचाया जाए। मेडिकल उपकरण लोगों तक पहुंचें। कोशिश की कि हर वो संसाधन मिलें, जिससे लोगों का जीवन बच सके। जिसमें हम लोग कामयाब हुए। लेकिन अब हमारी कोशिश के साथ लोगों का साथ भी जरूर चाहिए। 

श्रीवास्तव ने कहा कि मैंने खुद शनिवार को इस संबंध में दिल्ली के सभी जोन के डीसीपी से बातचीत की और उचित दिशा निर्देश भी जारी किए हैं। लेकिन क्योंकि दिल्ली पुलिस को अब अपनी मुख्य जिम्मेदरियां निभानी हैं, जिसमें क्राइम को कंट्रोल करना प्राथमिकता है। चूंकि जैसे जैसे दिल्ली अनलॉक होगी,आपराधिक ग्राफ बढ़ने लगता है। इसी के चलते मैंने विशेष तौर पर स्ट्रीट क्राइम को लेकर दिशा निर्देश जारी किए हैं।

तीसरी लहर के लिए तैयार कर रहे नई टीम, जो होंगे फ्रंटलाइन वॉरियर
दिल्ली के हर डीसीपी जोन के स्तर पर मिशन स्किल के कार्यक्रम को शुरू किया गया है। जिसके तहत हम लोग पैरामेडिकल स्टाफ और फ्रंट लाइन वॉरियर तैयार कर रहे हैं। हमारी कोशिश है कि अगस्त के अंत तक राजधानी में दिल्ली पुलिस और एनजीओ के सहयोग से करीब 5 हजार से अधिक पैरामेडिकल स्टाफ अतिरिक्त तैयार हो जाएगा जिन्हें विशेष ट्रेनिंग दी गई है।

इनमें हेल्थ वर्कर, जनरल ड्यूटी असिस्टेंट, इमरजेंसी मेडिकल टेक्नीशियन, प्रोग्राम फॉर कोविड प्रोटोकोल, एंबुलेंस ड्राइवर, डोमेस्टिक कोविड हेल्थ वर्कर, होम केयर असिस्टेंट और सीपीआर जैसे अनुभवी लोग शामिल होंगे। ये सभी लोग निजी संस्थाओं के अधीन हैं,और इन संस्थाओं की कई अस्पताल सहित एजेंसियों से बातचीत चल रही है,ताकि जल्द से जल्द इन लोगों को ट्रेनिंग दिलवाकर रोजगार दिलवाया जा सके, वहीं अगर तीसरी लहर आती है तो स्टाफ की कमी भी न हो। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.