Tuesday, Jan 25, 2022
-->
delhi-record-more-than-1-crore-corona-test-arvind-kejriwal-tweet-kmbsnt

दिल्ली में कोरोना जांच का आंकड़ा 1 करोड़ पार, CM केजरीवाल बोले बनाया नया रिकॉर्ड

  • Updated on 1/21/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली ने कोरोना (Coronavirus) से जंग में एक नया रिकॉर्ड कायम किया है। यहां पर कोरोना जांच (Corona Testing) का कुल आंकड़ा 1 करोड़ पार कर गया है। इस पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) ने खुशी जाहिर की है। उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर कहा है कि दिल्ली ने एक नया रिकॉर्ड बनाया है। सीएम केजरीवाल ने लिखा है कि हमने दिल्ली की 50% आबादी के बराबर 1 करोड़ से अधिक कोरोना परीक्षण किए हैं। बढ़े हुए परीक्षण और उपचार पर ध्यान केंद्रित करने के साथ, दिल्ली ने सफलतापूर्वक कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोका किया है।

दिल्ली में कोरोना वायरस की 1 दिन में 63161 टेस्ट होने के बाद 228 नए मामले आए हैं। लगातार छठे दिन कोरोना के 300 से कम नए मामले आए हैं। वही कोरोना संक्रमण दर थोड़ी बढ़कर 0.36 फीस दी हो गई है, जो फिर भी आधे प्रतिशत से कम है। 1 दिन में कोरोना से 10 लोगों की मौत हुई है।

कोरोना पर चीन की चाल का पर्दाफाश, डॉक्टर जानते थे कितना खतरनाक है वायरस लेकिन...

28 दिनों से संक्रमण दर लगातार 1% से नीचे
पिछले 28 दिनों से संक्रमण दर लगातार 1% से नीचे बनी हुई है। इसके साथ ही कोरोना रिकवरी 97.5 फीसदी हो गई है। जो अब तक की सबसे बड़ी दर है। सक्रिय मरीजों की संख्या अब 2147 रह गई है। जो कुल मामलों का सिर्फ 0.33% है। अब दिल्ली के अस्पतालों में 968 और 16 मरीज इलाज करवा रहे हैं। दिल्ली में अब तक 1 करोड़ से अधिक लोगों की कोरोना जांच हो चुकी है दिल्ली में प्रत्येक 10 लाख की आबादी पर नाच का 5 लाख 29 हजार 431 है। 

95% बेड खाली
दिल्ली में अब तक कोरोना से 10774 लोगों की मौत हो चुकी है। इससे कुल मृत्यु दर 1.70% हो गई है। वहीं नए मामले की तुलना में स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या अधिक होने से दिल्ली के कोविड अस्पतालों के कुल 9208 में से 8232 बेड खाली हैं। इस तरह करीब 95% बेड खाली है हॉटस्पॉट जोन की संख्या घटकर 2168 रह गई है।

कोरोना टीकाकरण: चौथे दिन 5 लाख का आंकड़ा पार, राज्यों को दिए गए ये निर्देश

कोरोना टीकाकरण के रुझान निराशाजनक
वहीं कोरोना टीकाकरण अभियान के 3 दिन पूरे होने के बाद भी कई अस्पतालों ने निर्धारित लक्ष्य हासिल नहीं किया है। इसके पीछे स्वास्थ्य कर्मचारियों में जागरूकता की कमी को बड़ा कारण माना जा रहा है। वहीं दूसरी वजह कोरोना को लेकर भ्रम की स्थिति को माना जा रहा है। दिल्ली मेडिकल काउंसिल के मुताबिक टीकाकरण करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों की तादाद कम होने के पीछे वरिष्ठ डॉक्टर में तकनीकी ज्ञान की कमी भी एक और बड़ी वजह साबित हो रही है। डीएमसी के अध्यक्ष डॉ अरुण गुप्ता का कहना है कि टीकाकरण को लेकर जो रुझान सामने आ रहे हैं वह बेहद निराशाजनक है।

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.