Tuesday, Mar 31, 2020
delhi riots 42 people lost life

Delhi Riots: कल तक बसती थीं खुशियां जहां...आज है मातम

  • Updated on 2/29/2020

नई दिल्ली/ मानव शर्मा। भजनपुरा (Bhajanpura) से करावल नगर  की ओर बढऩे पर दंगे का वो दर्दनाक मंजर साफ देखने मिल रहा है। आज उस दर्दनाक दिन को बीते पांच दिन गुजर चुके हैं, मगर अभी भी हर गली पर लगे गेटों पर ताले लटके नजर आ रहे हैं, जिस गली में गेट नहीं वहां किसी ओर तरीके से गली को बंद किया हुआ है। इलाके में अजीब सा सन्नाटा पसरा हुआ है और जो लोग आते-जाते दिखाई दे रहे हैं उनके चेहरों पर भी तनाव साफ दिखाई दे रहा है।

यह नजारा है हिंसा से प्रभावित चांद बाग और उससे लगे अन्य कई गलियों की कहानी बयां करता नजर आ रहा है। जहां हिंसा शांत होने के बाद भी लोगों में डर और दहशत का माहौल बना हुआ है। 

दिल्ली हिंसा में आरोपी ताहिर हुसैन की हैरान करने वाली है करोड़पति बनने की कहानी

यमुनापार के भजन पुरा चौक से करावल नगर (Karawal Nagar) को जाने वाला रास्ता अभी पूरी तरह सुरक्षा बलों के कब्जे में हैं। लोगों के लिए मेडिकल की सुविधा इस सड़क पर दिख रही है। जिससे कुछ लोग दवाईयां लेते भी नजर आ जाएंगे। वहीं सड़क के बाएं और दाएं  दोनों तरफ जिन गलियों में गेट लगा है वहां ताला लटका नजर आ रहा है।

बेघर लोगों को मिलेगी आर्थिक मदद : केजरीवाल

जिस गली पर गेट नहीं है वो लक्कड़, मेज, जूस काउंटर आदि, से रोकने का प्रयास किया जा रहा है। भजनपुरा निवासी अफजल अपनी गली के बाहर खड़े होकर पूरा नजारा देख रहे हैं। पूछे जाने पर बताते हैं कि अभी इलाके में डर बना हुआ है। इसी चक्कर में गलियों को बंद कर रखा है। जहां गेट लगा हैं वहां ताला लगाकर उसको बंद किया गया है और जहां गेट नहीं है उसको दुकान वालों ने अपने काउंटर से कवर कर दिया है। अभी पुलिस (Police) भी इसे खोलने से मना कर रही है।

कन्हैया मामले में चिदंबरम बोले- केंद्र की तरह दिल्ली सरकार को भी राजद्रोह कानून की समझ नहीं

मेडिकल की सेवा देने के लिए कई अस्पताल अपनी सेवा देने के लिए इन इलाकों में मोबाइल वैन से चिकित्सा सुविधा मुहैया करा रहे हैं। इन सुविधाओं के लिए लोग घरों से निकल कर बाहर सड़क पर अपनी परेशानी बताकर दवाईयां आदि इनसे लेकर जा रहे हैं। वहीं बच्चों को होने वाली छोटी मोटी परेशानी का इलाज भी यह मोबाइल वैन देती नजर आ रही है। 

comments

.
.
.
.
.