Tuesday, Apr 13, 2021
-->
delhi-riots-delhi-police-opposes-bail-application-of-jnu-girl-students-in-court-rkdsnt

दिल्ली दंगे: दिल्ली पुलिस ने कोर्ट में JNU छात्राओं की जमानत अर्जी का किया विरोध

  • Updated on 4/8/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली पुलिस ने दिल्ली उच्च न्यायालय में मंगलवार को कहा कि जेएनयू की छात्राएं नताशा नरवाल और देवांगना कलिता एक ऐसी बड़ी साजिश का हिस्सा थीं जिससे देश की एकता, अखंडता और समरसता को खतरा हो सकता था। नरवाल और कलिता को पिछले साल उत्तरी दिल्ली में हुए सांप्रदायिक दंगों के संबंध में गिरफ्तार किया गया था। 

 लाइब्रेरी खोलने के मामले में जेएनयू छात्रों के खिलाफ नोटिस, आइसा ने उठाए सवाल

पुलिस ने यह दलील नरवाल और कलिता की ओर से जमानत को लेकर दायर याचिकाओं के जवाब में दी। इन याचिकाओं में एक अदालत के उस आदेश को चुनौती दी गई थी जिसमें कलिता और देवांगना की ओर से दायर जमानत की अर्जी को खारिज कर दिया गया था। उक्त आरोपियों पर दंगों से जुड़े मामले में गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए)के तहत प्राथमिकी दर्ज है। 

केजरीवाल ने की झुग्गी वासियों के लिए फ्लैट निर्माण की समीक्षा

जस्टिस सिद्धार्थ मृदुल और जस्टिस अनूप जयराम भंभानी की पीठ ने मामले की अगली सुनवाई शुक्रवार को करने का आदेश दिया। दिल्ली पुलिस की ओर से पेश हुए विशेष लोक अभियोजक अमित महाजन ने याचिकाओं का विरोध किया और दावा किया कि नरवाल और कलिता को दंगों के दौरान किए जा रहे क्रियाकलाप और उसके परिणामों की पूरी जानकारी थी। 

लालकिला हिंसा में आरोपी दीप सिद्धू ने अदालत में दी सफाई

उन्होंने कहा कि आरोपियों के विरुद्ध मामला न केवल चश्मदीदों के बयान पर आधारित है और इन साजिशों को कैमरे पर रिकॉर्ड नहीं किया जा सकता और यह परिस्थिति जन्य साक्ष्यों से साबित होता है। उन्होंने कहा, अपीलकर्ता उस बड़ी साजिश का हिस्सा थे जिससे देश की एकता अखंडता और समरसता को खतरा पैदा हो सकता था। यह जरूरी नहीं है कि वह हर कृत्य में शामिल रही हों। उन्हें पूरे क्रियाकलाप की जानकारी थी इसलिए उन पर यूएपीए की धारा 15 के तहत मामला बनता है।’’ इसके साथ ही महाजन ने आरोपियों और अन्य के बीच हुई व्हाट््सएप बातचीत भी पढ़कर सुनाई।  

सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच के खिलाफ देशमुख, महाराष्ट्र सरकार की अपील को किया खारिज

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

 

 

  •  
comments

.
.
.
.
.