Thursday, Feb 25, 2021
-->
delhi riots high court bail to pinjra tod member devangana kalita after delhi police failures rkdsnt

दिल्ली दंगे: पुलिस की नाकामी के बाद कोर्ट ने पिंजरा तोड़ की देवांगना को दी बड़ी राहत

  • Updated on 9/1/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) ने उत्तर पूर्वी दिल्ली में साम्प्रदायिक हिंसा (Delhi Riots) से जुड़े एक मामले में ‘पिंजरा तोड़’ (Pinjra Tod) की एक सदस्य देवांगना कालिता (Devangana Kalita) को मंगलवार को जमानत दे दी। अदालत ने कहा कि पुलिस यह दिखाने में नाकाम रही कि उन्होंने किसी समुदाय विशेष की महिलाओं को भड़काया या भड़काऊ भाषण दिया । वह शांतिपूर्ण प्रदर्शन करती दिखाई दीं, जो उनका मौलिक अधिकार है। 

GDP में ऐतिहासिक गिरावट पर राहुल बोले- नोटबंदी से शुरू हुई थी अर्थव्यवस्था की बर्बादी

अदालत ने कहा कि संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन काफी समय तक चले और प्रिंट तथा इलेक्ट्रोनिक मीडिया ने इन्हें पूरा कवर किया। इसके अलावा जगह-जगह पुलिस विभाग के कैमरे भी मौजूद थे, लेकिन ऐसा कोई सबूत नहीं मिला, जो यह साबित करे कि कथित अपराध कालिता की वजह से हुआ। अदालत ने कहा कि दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 164 के तहत साक्ष्य, जिनमें दर्ज किये गए बयान शामिल हैं, काफी देर से पेश किये गए जबकि गवाह कथित रूप से घटनास्थल पर मौजूद रहे थे। 

भाजपा का आरोप- 'मन की बात' वीडियो को मिल रहे ‘डिस्लाइक’ के पीछे कांग्रेस का हाथ

न्यायमूर्ति सुरेश कैत ने 21 पन्नों के फैसले में कहा,‘‘याचिकाकर्ता के खिलाफ पहले ही दो जून को आरोप पत्र दायर कर दिया गया है। इसके अलावा मैंने सीलबंद लिफाफे में पेश की गई आंतरिक केस डायरी और पेन ड्राइव को भी देखा और पाया कि वह शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रही थीं, जोकि भारत के संविधान के अनुच्छेद 19 में मिला उनका मौलिक अधिकार है। ऐसा कोई भी साक्ष्य पेश नहीं किया गया जिससे यह पता चलता हो कि उन्होंने किसी समुदाय विशेष की महिलाओं को भड़काया या कोई ऐसा भड़काऊ भाषण दिया हो, जिससे एक युवा व्यक्ति का बहुमूल्य जीवन खत्म हो गया और उसकी संपत्ति बर्बाद हुई हो।‘‘ 

कोरोना का कहर भारतीय अर्थव्यवस्था पर, GDP में आई ऐतिहा​सिक गिरावट

अदालत ने जेएनयू की छात्रा कालिता को 25,000 रुपये के निजी मुचलके और इतनी ही राशि की जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया। अदालत ने उन्हें गवाहों को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर प्रभावित करने और सबूतों के साथ छेड़छाड़ नहीं करने का निर्देश दिया। अदालत ने यह भी कहा कि वह अदालत की अनुमति के बगैर देश से बाहर नहीं जायेंगी। हालांकि कालिता को अभी जेल से रिहा नहीं किया जाएगा क्योंकि उन्हें अपने खिलाफ दायर चार में से तीन मामलों में ही जमानत मिली है। यूएपीए मामले में अभी उन्हें जमानत नहीं मिली है। 

कोर्ट का प्रशांत भूषण को सजा देना जरूरी नहीं था : पूर्व कानून मंत्री मोइली

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ फरवरी में हुए प्रदर्शनों के दौरान उत्तर पूर्व दिल्ली में भड़की सांप्रदायिक ङ्क्षहसा से जुड़े एक मामले में दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने मई में नताशा नरवाल के समूह की कलिता और अन्य सदस्यों को मई में गिरफ्तार किया था। उन पर दंगा करने, गैरकानूनी तरीके से एकत्र होने और हत्या की कोशिश करने के आरापों में भादंवि की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था। 

सत्येंद्र जैन के निर्वाचन को भाजपा नेता ने दी चुनौती, हाई कोर्ट ने मांगा जवाब

कलिता पर दिसम्बर में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शनों के दौरान पुरानी दिल्ली के दरियागंज इलाके में हुई ङ्क्षहसा और उत्तर पूर्वी दिल्ली में दंगे सहित कुल चार मामले दर्ज हैं। उत्तरपूर्वी दिल्ली में 24 फरवरी को सांप्रदायिक दंगे भड़क गए थे। इन दंगों में कम से कम 53 लोगों की मौत हो गई थी और करीब 200 लोग घायल हो गए थे।

 

 

 

कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरों को यहां पढ़ें...

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.