Thursday, Apr 09, 2020
delhi school manish sisodia digital attendance of students

अब कागज पर नहीं टैबलेट पर होगी बच्चों की अटेंडेंस, सिसोदिया ने दिया ये आदेश

  • Updated on 3/13/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली (Delhi) के उपमुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने उप निदेशक शिक्षा व अन्य वरिष्ठ शिक्षा अधिकारियों के साथ गुरुवार को बैठक की। इस दौरान उन्होंने कहा कि एक अप्रैल से प्रत्येक स्कूल में उपस्थिति (Attendance) को टैबलेट (Tablet) पर दर्ज किया जाना चाहिए। मुझे जीरो पेपर-वर्क पॉलिसी लागू करनी है। शिक्षकों द्वारा अनुभाग-वार उपस्थिति को दर्ज किया जाना चाहिए। डिप्टी डायरेक्टरों को कक्षाओं में उपस्थित छात्रों की संख्या के बारे में हर रोज पता होना चाहिए और उस पर नजर रखना चाहिए। एक अप्रैल से जीरो पेपर वर्क लागू किया जाएगा।

सिसोदिया ने कहा कि परीक्षा परिणाम भी ऑनलाइन (टैबलेट पर) अपलोड और रखरखाव किए जाने हैं। हम परीक्षा परिणामों को भी कागजी कार्रवाई से दूर रखेंगे। इस बैठक में कालकाजी से विधायक आतिशी व शिक्षा सचिव मनीषा सक्सेना भी उपस्थित रहीं।

Nursery Admission: CWSN वर्ग में आवेदन की तिथि बढ़ी, जानें क्या है अंतिम तारीख

प्रत्येक शिक्षक के हाथ में हो टैबलेट
सिसोदिया ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि हर डीडीई को यह सुनिश्चत करें कि उनके क्षेत्र में प्रत्येक शिक्षक के हाथ में टैबलेट होने चाहिए और उन्हें बताया जाना चाहिए कि छात्रों की उपस्थिति को कैसे रखनी है और परीक्षा का रिकॉर्ड को कैसे बनाएं। इसके अलावा प्रत्येक डिप्टी डायरेक्टर को कक्षा में भाग लेने वाले छात्रों की संख्या के बारे में रोजाना सुबह 9:00 बजे तक जानकारी प्राप्त हो जानी चाहिए।

कोरोना का असर छात्रों की पढ़ाई पर, 31 मार्च तक सभी प्राइमरी स्कूल रहेंगे बंद

'डिप्टी डायरेक्टर कैमरों पर रखें नजर' 
सिसोदिया ने कहा कि शिक्षा विभाग के डिप्टी डायरेक्टरों को स्कूलों और कक्षाओं में सीसीटीवी कैमरों की स्थापना पर नजर रखनी होगी। प्रत्येक डिप्टी डायरेक्टर को अपने क्षेत्र के स्कूलों में पहले से स्थापित सीसीटीवी कैमरों की संख्या पर नजर रखना चाहिए और वो सुचारू रूप से कार्य कर रहे हों। साथ ही इस पर नजर रखें कि अभिभावकों को पासवर्ड प्रदान किया गया है या नहीं। 

CBSE ने बच्चों का तनाव दूर करने के लिए रिलीज किया 'एग्जाम एंथम सॉन्ग'

'अप्रैल के अंत तक वीडियो कांफ्रेंसिंग हो जानी चाहिए'
अधिकारी जोन व निदेशालय स्तर पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की सुविधाएं पहुंचाना सुनिश्चित करें। स्कूल में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की सुविधा होनी चाहिए ताकि डीडीई और एचओएस व उनके वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक ऑनलाइन आयोजित की जा सके।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.