Monday, May 10, 2021
-->
delhi strict rules for construction work to control dust pollution kmbsnt

दिल्ली में घर बनवा रहे लोगों के लिए खास खबर- इन बातों का रखें ध्यान, नहीं तो भरना होगा भारी जुर्माना

  • Updated on 10/24/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली में लगातार खराब हो रहा हवा का स्तर अब प्रदूषण (Pollution) की गंभीर स्थिति को पैदा कर रहा है। सरकार और संबंधित एंजेंसियों द्वारा किए जा रहे प्रयासों का भी कोई खास असर होता दिख नहीं रहा है। ऐसे में अब प्रशासन और सख्ती अपना रहा है। दिल्ली में निर्माण स्थलों (Construction Sites) से उड़ने वाली धूल प्रदूषण का एक मुख्य कारक है। ऐसे में नगर निगम अब निर्माण स्थलों के लिए बनाए गए नियमों का सख्ती से पालन सुनिश्चि करवा रहा है, फिर चाहे वो किसी भी प्रकार का निर्माण कार्य हो।

यदि आप भी अपना घर दिल्ली में बना रहे हैं, तो धूल न उड़ने के लिए जितने भी नियम प्रशासन द्वारा बनाए गए हैं उनका पालन जरूर करें। निर्माण सामग्री को ढ़क कर रखने के साथ साइट को भी पूरी तरह से ढ़कें। अगर किसी भी प्रकार से नियम उल्लंघन पाया गया तो आपको भारी जुर्माना भरना पड़ सकता है। 

'बहुत खराब' श्रेणी के उच्च स्तर पर पहुंची दिल्ली की हवा, सांस लेने में हो रही दिक्कत

3.35 लाख रुपये का जुर्माना
दक्षिणी दिल्ली नगर निगम ने चारों जोन में इसके लिए पेट्रोलिंग टीमें तैनात कर दी हैं। ये टीमें 24 घंटे सभी स्थानों पर नजर बनाए हुए हैं। इसके साथ ही जीरो टॉलरेंस की नीति अब अपनाई जा रही है। किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। बताया गया है कि निगम के मध्य जोन में अब तक नियम उल्लंघन पर 150 चालान हो चुके हैं। दक्षिणी जोन में निर्माण स्थलों पर नियम उल्लंघन पाए जाने पर अब तक 239 चालान किए गए और 3.35 लाख रुपये का जुर्माना लगाया जा चुका है। 

AIIMS निदेशक की चेतावनी- स्वाइन फ्लू की तरह फैल सकता है कोरोना, प्रदूषण बढ़ाएगा परेशानी

निगम कर रहा ये कार्य
निगम की ओर से लगातार साफ सफाई बनाए रखने और धूल को न उड़ने देने कि लिए प्रयाास किए जा रहे हैं। इसके लिए निगम द्वारा मलबा उठाने के लिए 28 ट्रकों को लगाया गया है। वहीं 90 किलोमीटर सड़कों पर पानी का छिड़काव किया गया, इसके अवाला मैकेनिकल रोड स्वीपरों के जरिए भी सफाई की जा रही है। 

दिल्ली सरकार ने पटाखे जलाने के खिलाफ छात्रों को जागरूक करने का दिया निर्देश

दिल्ली में गंभीर श्रेणी मे पहुंचा प्रदूषण
बता दें कि दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति के आंकड़ों के अनुसार आज अलीपुर, मुंडका और वज़ीरपुर में वायु गुणवत्ता सूचकांक 'गंभीर' श्रेणी में पहुंचा हुआ है। गंभीर श्रेणी में प्रदूषण होने पर इसका स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। जो पहले से ही श्वास संबंधी बीमारियों के शिकार हैं उनके लिए ये बहुत ही हानिकारक सिद्ध होता है। ऐसे में लोगों को अपने स्वास्थ्य के प्रति पूरी सावधानी बरतनी चाहिए। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.