Thursday, Jan 23, 2020
delhi, swati maliwal, hunger strike, rape cases

Delhi: प्रदर्शनकारी लड़कियों पर पानी की तेज बौछार, कई बेहोश

  • Updated on 12/8/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश में बढ़ते अपराधों को रोकने के लिए केंद्र सरकार से शख्त कानून बनाने की मांग को लेकर स्वाति मालीवाल (Swati Maliwal) के अनशन को समर्थन देने के लिए राजधानी की युवतियों के साथ ही हर वर्ग के लोगों ने शुक्रवार को कैंडल मार्च में हिस्सा लिया।

हैदराबाद: हैवानों के एनकाउंटर पर मालीवाल और निर्भया की मां ने पुलिस को दी बधाई

वॉटर कैनेन के इस्तेमाल से कई लड़कियां गिर पड़ीं और बेहोश तक हो गईं
इस मार्च को आईटीओ (ITO) के पास ही दिल्ली पुलिस (Delhi Police) द्वारा रोक लिया गया। जब मार्च में आए लोगों ने पुलिस द्वारा रोके जाने का विरोध किया तो पुलिस ने वाटर कैनेन का भी इस्तेमाल किया। वॉटर कैनेन के इस्तेमाल से कई लड़कियां गिर पड़ीं और बेहोश तक हो गईं।

शाम सवा पांच बजे राजघाट से पूरे जोर-शोर से कैंडल मार्च शुरू किया गया
बता दें कि शाम सवा पांच बजे के लगभग राजघाट से पूरे जोर-शोर से कैंडल मार्च शुरू किया गया। जिसमें सैकड़ों युवाओं ने हाथों में ढफली लेकर जमकर नारे लगाए, उन्होंने कहा कि ‘फांसी का प्रावधान बनाओ...वरना गद्दी छोड़कर जाओ’, ‘ये वक्त नहीं चुप रहने का, चप्पा-चप्पा बोलेगा’, ‘मुट्ठी तान के ऊंचा बोल...हल्ला बोल-हल्ला बोल। जैसे ही मार्च राजघाट से दिल्ली गेट होते हुए आईटीओ चौराहे से कुछ ही दूरी तक पहुंचा था कि दिल्ली पुलिस द्वारा बेरिकेड लगाकर उन्हें रोकने का प्रयास किया गया।

पुलिस बेरिकेड तोडने व उस पर चढ़कर प्रदर्शन करने की कोशिश
जब पुलिस के रोकने का विरोध युवाओं ने किया तो उन पर वॉटर कैनेन का इस्तेमाल पुलिस द्वारा किया गया। जिसमें प्रेशर के चलते 3 लड़कियां गिरकर बेहोश हो गईं, जबकि 4 से 5 लोग घायल हो गए। इन सभी लोगों को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है। माहौल बिगड़ते देख युवा भड़क गए और उन्होंने भी पुलिस बेरिकेड तोडने व उस पर चढ़कर प्रदर्शन करने की कोशिश की। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.