Tuesday, Jun 22, 2021
-->
delhi traffic alert roads of delhi are closed due to the farmers protest kmbsnt

Live: किसान आंदोलन- 31 CRPF समेत 16 RAF कंपनियों की तैनाती को दिल्ली NCR में दो हफ्ते के लिए बढ़ाया

  • Updated on 2/4/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली की सीमाओं (Delhi Borders) पर कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन (Farmers Protest) लगाता जारी है। वहीं दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने भी सुरक्षा के लिए चाक-चौबंद व्यवस्था की है। साथ ही जो सड़कें आज यानी गुरुवार को बंद हैं, उनके विषय में लोगों को जानकारी दी है। अतिरिक्त सीपी ट्रैफ़िक, आउटर रेंज, दिल्ली ने जानकारी दी है कि  सिंघू, पियाउ मनियारी, सबोली, औचंदी सीमाएं बंद हैं। लामपुर, सफियाबाद, सिंघू स्कूल और पल्ला टोल टैक्स सीमाएं खुली हैं।

Live Updates:

  • किसानों के विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर दिल्ली-एनसीआर के लिए 16 आरएएफ कंपनियों सहित सीआरपीएफ की 31 कंपनियों की तैनाती को दो और सप्ताह के लिए बढ़ा दिया गया है।
  • गाजीपुर किसानों से मिलने पहुंचे विपक्षी दलों के प्रतिनिधिमंडल को पुलिस ने रोका
  • प्रतिनिधिमंडल में एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले, डीएमके सांसद कनिमोझी, एसएडी सांसद हरसिमरत कौर बादल और टीएमसी सांसद सौगत रॉय शामिल हैं।
  • विपक्षी नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल आज किसानों से मिलने गाजीपुर बॉर्डर के लिए निकला है।

 

पुलिस ने लोगों से अपील की है कि वो एक वैकल्पिक मार्ग का पालन करें। NH-44 पर भारी ट्रैफिक के चलते रूट डायवर्ट है। कृपया आउटर रिंग रोड, GTK रोड और NH 44 से बचें। 

सुप्रीम कोर्ट ने ट्रैक्टर परेड हिंसा पर याचिकाओं की सुनवाई करने से किया इनकार 

ये सीमाएं भी बंद
इसके अलावा हरेवली बॉर्डर, मंगेश पुर बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर, झारोदा बॉर्डर और धांसा बॉर्डर भी ट्रैफिक मूवमेंट के लिए बंद किए गए हैं। रायसीना रोड (दोनों कैरिजवे) पर यातायात की आवाजाही बंद है। पुलिस ने जानकारी दी है कि किसान विरोध के कारण गाजीपुर सीमा यातायात के लिए बंद है। कृपया महाराजपुर, चिल्ला, डीएनडी, अप्सरा, भोपरा और लोनी सीमाओं के माध्यम से वैकल्पिक मार्ग का पालन करें।

वहीं पुलिस ने जानकारी दी है कि एनएच -24, एनएच -9 पर नोएडा लिंक रोड से ट्रेक को डायवर्ट किया गया है। दुर्गा मंडी और गाजीपुर आर / ए, रोड नं 56, विकास मार्ग, IP Eextention, NH-24 पर भारी ट्रैफिक है। कृपया अन्य सीमाओं से आवागमन करें।

गाजीपुर बॉर्डर से निकाली गईं रास्तों पर बिछी कीलें
इसके साथ ही गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों को रोकने के लिए सड़क पर जो कीले बिछाईं गईं थी उनको हटाने का काम किया जा रहा है। इन कीलों के लगने के बाद किसानों का समर्थन कर रहे विपक्षी दलों ने पुलिस और प्रशासन की कड़ी निंदा की थी, सोशल मीडिया पर कीलों वाली बैरिके़डिंग की तस्वीरें खूब वायरल हुईं, इसके साथ ही कई यूजर्स ने इन तस्वीरों को शेयर कर लिखा कि सरकार किसानों पर अत्याचार कर रही है। अब ये कीलें आज हटाई जा रही हैं। 

सिंघु बॉर्डर पर लगातार बढ़ रही किसानों की संख्या 
सिंघु बॉर्डर पर किसानों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। आंदोलनकारी किसानों के समर्थन में हरियाणा पंजाब के हर गांव से किसान दिल्ली पहुंचने लगे ज्यादातर किसान अपने खर्चे पर अपने वाहनों से ही बॉर्डर पर आ रहे हैं। किसानों की बड़ी संख्या ट्रेनों से भी सवार होकर दिल्ली आ रही है, लेकिन एक अफवाह ने किसानों का ट्रेनों से मोहभंग कर दिया है।

AAP का आरोप- संसद में किसानों का मुद्दा नहीं उठाने के लिए कांग्रेस की भाजपा से सांठगांठ 

किसानों को रोकने लिए बदला गया ट्रेन का रूट
दरअसल 2 दिन पहले फिरोजपुर से आ रही ट्रेन के रूट को अधिकारियों के आदेश पर अचानक रात में बदल दिया गया। इस ट्रेन को पहले दिल्ली से होकर गुजरना था, जो इसका पहले से तय रूट है, लेकिन रात को यह ट्रेन रूट से मुंबई की ओर रवाना कर दी गई। इस बात की भनक जब ट्रेन में सवार किसानों को लगी तो उन्होंने मौके पर ही ट्रेन के अंदर हंगामा शुरू कर दिया। किसानों के हंगामे के बाद ट्रेन को रोकना पड़ा।

दिल्ली बॉर्डर पर आने वाले किसान ट्रेन से उतर गए और उन्होंने रात रेवाड़ी में गुजारी। ट्रेन के रूट को बदलने की खबर किसानों में आग की तरह फैल गई। इस आंदोलन में शामिल होने के लिए दिल्ली की ओर आने वाले किसान सरकार की इस तरह की किसी भी साजिश का शिकार ना हो पाए, इसके लिए उन्हें अपने वाहनों से ही दिल्ली आने की सलाह दी गई है। 

ये भी पढ़े:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.