Saturday, Jan 22, 2022
-->
Delhi University Record breaking online admission in Corona era KMBSNT

Delhi University: कोरोना काल में हुए रिकॉर्ड तोड़ ऑनलाइन एडमिशन

  • Updated on 1/1/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोविड-19 (Covid-19) के चलते दिल्ली विश्वविद्यालय (Delhi University) में दाखिला प्रक्रिया इसबार पूरी तरह से ऑनलाइन रही। शुरुआत में जहां दाखिला प्रक्रिया के पूरी तरह से ऑनलाइन होने से डर था कि इसबार दाखिला आवेदन कम रह जाएंगे, वहीं दाखिला प्रक्रिया समाप्त होते-होते इसबार स्नातक पाठ्यक्रमों में रिकॉर्ड आवेदन हो गए।

डीयू में स्नातक पाठ्यक्रमों की लगभग 70 हजार सीटों के लिए शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए 5,63,670 छात्रों ने आवेदन किया। जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है इससे पहले इतने आवेदन कभी नहीं हुए। इनमें 3,54,004 छात्रों ने आवेदन फीस जमा कर अपना पंजीकरण पक्का किया।

CM केजरीवाल ने देशवासियों को दी नए साल की बधाई, कोरोना वारियर्स के लिए कही ये बात

साढ़े तीन लाख से ज्यादा छात्रों ने भरा दाखिला 
इस तरह दाखिले की दौड़ में स्नातक की लगभग 70 हजार सीटों के लिए साढ़े तीन लाख से ज्यादा छात्र शामिल हुए। यानि एक सीट पर पांच छात्रों की दावेदारी रही। इनमें भी लगभग 5 हजार छात्र ऐसे थे, जिनका बेस्ट फोर 100 प्रतिशत रहा था। रिकॉर्ड आवेदन होने के चलते इसबार डीयू की कटऑफ भी हाई रही और पहली कटऑफ शत-प्रतिशत तक पहुंच गई। 

Delhi Weather Updates: नए साल की सुबह कोहरे की सफेद चादर से ढ़की दिल्ली, कल बारिश के आसार

घर बैठे ओरिएंटेशन में हुए शामिल
डीयू में पढऩे और ओरिएंटेशन प्रोग्राम में शामिल होने को लेकर छात्रों में अलग ही उत्साह देखने को मिलता है। पहले दिन छात्र अपने कॉलेज को देखते हैं, नए मित्रों से मिलते हैं। मगर इसबार कॉलेज बंद होने के चलते ओरिएंटेशन प्रोग्राम भी ऑनलाइन मोड में आयोजित किए गए। ऐसे में छात्रों ने घर बैठे ही ओरिएंटेशन प्रोग्राम में शिरकत की। भले ही कॉलेज आकर ओरिएंटेशन में शामिल होने वाला उत्साह छात्रों में नहीं रहा मगर फिर भी यह छात्रों के लिए यादगार बन गया। 

दिल्ली मेट्रो में 29 लाख रुपये साथ ले जा रहा संदिग्ध गिरफ्तार, CISF ने दी जानकारी

ऑनलाइन बना क्लास का माध्यम 
कोविड के चलते क्लासरूम की जगह ऑनलाइन क्लास ने ले ली। नई शिक्षण पद्धति जहां घर बैठे पढ़ाई जारी रखने का विकल्प बनी तो वहीं इसे कार्यान्वित करना शिक्षकों के लिए आसान नहीं रहा। नेटवर्क की समस्या और संसाधनों की कमी से जूझते छात्रों को इससे जोड़ पाना शिक्षकों के लिए चुनौती से कम नहीं रहा।

ये भी पढ़ें-

comments

.
.
.
.
.