Sunday, Apr 05, 2020
delhi violence cm arvind kejriwal army should be called in and curfew imposed

दिल्ली के हिंसाग्रस्त इलाके में पहुंचे CM केजरीवाल, लोगों से की शांति की अपील

  • Updated on 2/26/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली के मुख्यममंत्री अरविंद केजरीवाल ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली (North East Delhi) हिंसाग्रस्त इलाकों का दौरा किया और लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की। दिल्ली के हिंसाग्रस्त इलाकों में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर भड़की सांप्रदायिक हिंसा में मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर बुधवार को 22 पर पहुंच गई है। हिंसा के माहौल के बीच दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने कहा कि दिल्ली के आम लोगों ने हिंसा नहीं फैलाई। यह काम दिल्ली में बाहर से आए राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं और असामाजिक तत्वों द्वारा किया गया है। दिल्ली के लोग हिंसा नहीं चाहते हैं वे मिलजुल कर रहना चाहते हैं। इससे पहले केजरीवाल ने अपील की कि सेना को बुलाकर हिंसा प्रभावित इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया जाना चाहिए।

 

दिल्ली हिंसा का NCR में भी असर, नोएडा में शराब की दुकानें बंद करने के आदेश

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, 'मैं पूरी रात बहुत-से लोगों के साथ संपर्क में रहा हूं। पूरी कोशिशों के बावजूद पुलिस हालात पर काबू पाने और भरोसा पैदा करने में नाकाम रही है। सेना को बुलाया जाना चाहिए, और शेष प्रभावित इलाकों में कर्फ्यू लागू कर दिया जाना चाहिए। मैं इस सिलसिले में गृहमंत्री को लिख रहा हूं।'

#DelhiVoilence: फरिश्ता बना BJP पार्षद, हिंसक भीड़ से मुस्लिम परिवार को बचाया

जामिया के छात्रों ने CM आवास के बाहर किया प्रदर्शन
जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Millia Islamia) के छात्रों ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुई साम्प्रदायिक हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए बुधवार को दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर प्रदर्शन किया। जामिया समन्वय समिति ने आधी रात को मुख्यमंत्री आवास के घेराव का आह्वान किया था। इस समिति में विश्वविद्यालय के छात्र और पूर्व छात्र शामिल हैं। छात्रों ने कहा कि उन्हें कथित तौर पर हिरासत में लेकर सिविल लाइन्स पुलिस थाने ले जाया गया। उन्होंने पुलिस पर पानी की बौछारें छोड़ने और बल का इस्तेमाल करने का भी आरोप लगाया। पुलिस ने स्वीकार किया कि उन्होंने छात्रों को तितर-बितर करने के लिए पानी की बौछारें छोड़ीं।

दिल्ली में हिंसा के बीच सेना तैनाती को लेकर असमंजस, रक्षा मंत्रालय ने दी सफाई

हिरासत में लिए गए 41 छात्रों में से 8 DU के छात्र
दिल्ली विश्वविद्यालय (University of Delhi) के छात्रों के एक समूह ने भी जामिया के छात्रों को साथ दिया। कुल 41 छात्रों को हिरासत में लेकर सिविल लाइन पुलिस थाने ले जाया गया। इनमें आठ छात्र दिल्ली विश्वविद्यालय के हैं। इनमें से कई को रिहा कर दिया गया है और अन्य को रिहा करने की प्रक्रिया जारी है। गौरतलब है कि दिल्ली में सीएए का समर्थन करने वाले और विरोध करने वाले समूहों के बीच संघर्ष ने साम्प्रदायिक रंग ले लिया। प्रदर्शनकारियों ने कई घरों, दुकानों तथा वाहनों में आग लगा दी और एक-दूसरे पर पथराव किया। इन घटनाओं में बुधवार तक कम से कम 20 लोगों की जान चली गई और करीब 200 लोग घायल हो गए।

दिल्ली में हिंसा को लेकर मायावती भी बैचेन, कहा- उच्चस्तरीय जांच हो

मृतकों की संख्या बढ़कर 20 हुई
गौरतलब है कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर भड़की सांप्रदायिक हिंसा में मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर बुधवार को 20 पर पहुंच गई है। जीटीबी अस्पताल के अधिकारियों ने यह जानकारी दी। मंगलवार को मरने वाले लोगों की संख्या 13 बताई गई थी। जीटीबी अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक सुनील कुमार ने बताया, 'मृतकों की संख्या आज बढ़कर 20 हो गई।' इससे पहले एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया था कि लोक नायक जय प्रकाश नारायण अस्पताल से कम से कम चार शवों को गुरु तेग बहादुर अस्पताल लाया गया।

दिल्ली हिंसा: CWC की बैठक में मरने वालों को दी गई श्रद्धांजलि, राहुल गांधी रहे गायब

अर्द्धसैनिक बल तैनात, उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेश
इसी बीच गृहमंत्री ने हालातों पर काबू पाने के लिए सीनियर आईपीएस एस.एन.श्रीवास्तव को स्पेशल सीपी लॉ आर्डर बनाया है जो हो रही हिंसा को रोकने का काम करेगें। बता दें कि इससे पहले सोमवार के बाद मंगलवार को भी उत्तर पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों उपद्रवियों ने गोलियां चलाई,गाड़ियों को फूंका और पुलिस पर पत्थर बाजी की। मंगलवार दोपहर तक इस इलाके  के हालात बेहद खराब थे। उपद्रवियों ने जहां कई मकानों में आग लगाई वहीं उपद्रवियों ने एक दूसरे के बीच गोलियां भी चलाई। चली गोली एक चैनल के पत्रकार समेत 3 लोगों को लगी है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.