Friday, Dec 09, 2022
-->
delhi-weather-updates-cold-wave-condition-in-coming-days-kmbsnt

Delhi Weather Updates: ठंड और प्रदूषण की दोहरी मार, जानें क्या रहेगा मौसम का हाल

  • Updated on 12/25/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। इन दिनों दिल्ली ठंड (Delhi Winter) और प्रदूषण (Delhi Pollution) की दोहरी मार झेल रही है। आज यानी शुक्रवार सुबह 8.30 बजे दिल्ली का तापमान 8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं गुरुवार सुबह घने कोहरे से दृश्यता घटकर 100 मीटर से भी कम रह गई और इसके बाद लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा।

हवा की रफ्तार कम होने के कारण जहां प्रदूषण स्तर लगातार गंभीर श्रेणी में बना हुआ है। वहीं मौसम विभाग के वैज्ञानिकों ने अगले दो-तीन दिन तक शीत लहर के अनुमान जताया है। हालांकि क्रिसमस से आगे 2 दिन तक हवा के स्तर में मामूली सुधार की उम्मीद जरूर है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि घने कोहरे की चादर छाई हुई थी, जिससे दृश्यता घटकर 100 मीटर रह गई।सफदरजंग में न्यूनतम तापमान 4.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा पालम इलाके में घने कोहरे के कारण सुबह 5:30 बजे से 8:00 बजे तक के बीच दृश्यता घटकर 100 मीटर रह गई। अगले 2 दिनों तक शीतलहर चलने का अनुमान जताते हुए कहा कि तापमान की शुक्रवार को 3 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने का अनुमान है।

कृषि कानूनों को लेकर विपक्ष दलों ने एकजुटता से पीएम मोदी पर साधा निशाना

आईएमडी ने स्वास्थ्य को लेकर दी चेतावनी
भारत मौसम विज्ञान विभाग ने चेतावनी दी है कि ठंड से गंभीर ठंड की स्थिति स्वास्थ्य पर कई गंभीर प्रभाव डाल सकती है जिसे अनदेखा नहीं किया जाना चाहिए। फ्लू, भरी हुई नाक या नकसीर और कंपकंपी जैसी विभिन्न बीमारियों की संभावना बढ़ जाती है, जो शरीर की गर्मी खोने का पहला संकेत है।

अत्यधिक ठंड के लंबे समय तक संपर्क में रहने और बीमारी का कारण बन सकता है, जिससे त्वचा पीली, कठोर और सुन्न हो जाती है और अंततः काले छाले उजागर शरीर के अंग जैसे अंगुलियों, पैर की उंगलियों, नाक या कान की बाली पर दिखाई देते हैं। गंभीर शीतदंश को तत्काल उपचार की आवश्यकता होती है।

राघव चड्ढा के दफ्तर और कर्मचारियों पर हमला, AAP ने साधा भाजपा पर निशाना

किस स्थिति में घोषित होती है शीतलहर
मैदानी इलाकों में शीत लहर तब होती है जब न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस या उससे नीचे होता है और / या लगातार दो दिनों तक मौसम के सामान्य से 4.5 डिग्री कम होता है। मैदानी इलाकों में न्यूनतम तापमान 4 डिग्री सेल्सियस से कम होने पर शीत लहर भी घोषित की जाती है। एक ठंडा दिन और शीत लहर का एक साथ साक्षी होने का मतलब है कि दिन और रात के तापमान के बीच का अंतर सामान्य से कम था।

ये भी पढ़ें-

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.