Wednesday, Jun 16, 2021
-->
delhi weather updates moderate fog in the national capital today kmbsnt

Delhi Weather Updates: राजधानी में छाया मध्यम कोहरा, 26 जनवरी को 4 डिग्री तक गिर सकता है पारा

  • Updated on 1/24/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली में ठंड का कहर लगातार जारी है। राष्ट्रीय राजधानी में आज यानी रविवार सुबह मध्यम कोहरा (Fog) छाया रहा। आने वाले सप्ताह में घना कोहरा और न्यूनतम तापमान 4 डिग्री सेल्सियस तक गिरने की संभावना है। गणतंत्र दिवस से राजधानी में शीत लहर की स्थिति लौटने की संभावना है, जब न्यूनतम तापमान में 3 से 4 डिग्री सेल्सियस की गिर सकता है। 

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार  हिमालय और उत्तरी मैदानी इलाकों में मौसम के कारकों में बदलाव के कारण उत्तरी मैदानी इलाकों ठंड बढ़ने की संभावना है। पश्चिमी हिमालय में शुक्रवार और शनिवार को व्यापक बर्फबारी और बारिश हुई और मैदानी इलाकों में पंजाब और उसके पड़ोसी राज्यों पर एक चक्रवाती परिसंचरण शुरू हुआ। इसके साथ ही एक पश्चिमी विक्षोभ उत्तरी पाकिस्तान और इसके पड़ोस पर एक चक्रवाती परिसंचरण के रूप में पनपा है।

वहीं दिल्ली हवा में प्रदूषण भी लगातार बना हुआ है। सिस्टम ऑफ़ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (SAFAR) के अनुसार आज दिल्ली की समग्र वायु गुणवत्ता 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज की गई है।

DDA को MCD का देना है 2 हजार करोड़, फिर भी केजरीवाल सरकार से पैसे मांग रही BJP- AAP

इस बार पड़ी रिकॉर्ड तोड़ ठंड
इससे पहले दिल्ली शीत लहर की चपेट में थी और यहां का तापमान 1.1 डिग्री तक पहुंच गया था। तब वैज्ञानिकों ने दिल्ली में शीत लहर की घोषणा कर दी थी। मैदानी इलाकों में शीत लहर तब होती है जब न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस या उससे नीचे होता है या लगातार दो दिनों तक मौसम के सामान्य से 4.5 डिग्री कम होता है। मैदानी इलाकों में न्यूनतम तापमान 4 डिग्री सेल्सियस से कम होने पर शीत लहर भी घोषित की जाती है। एक ठंडा दिन और शीत लहर का एक साथ साक्षी होने का मतलब है कि दिन और रात के तापमान के बीच का अंतर सामान्य से कम था।

AIIMS मामले में AAP विधायक सोमनाथ भारती को 2 साल की सजा और 1 लाख का जुर्माना

IMD की चेतावनी- ज्यादा ठंड कर सकती है बीमार
भारत मौसम विज्ञान विभाग ने चेतावनी दी है कि ठंड से गंभीर ठंड की स्थिति स्वास्थ्य पर कई गंभीर प्रभाव डाल सकती है जिसे अनदेखा नहीं किया जाना चाहिए। फ्लू, भरी हुई नाक या नकसीर और कंपकंपी जैसी विभिन्न बीमारियों की संभावना बढ़ जाती है, जो शरीर की गर्मी खोने का पहला संकेत है।

अत्यधिक ठंड के लंबे समय तक संपर्क में रहने और बीमारी का कारण बन सकता है, जिससे त्वचा पीली, कठोर और सुन्न हो जाती है और अंततः काले छाले उजागर शरीर के अंग जैसे अंगुलियों, पैर की उंगलियों, नाक या कान की बाली पर दिखाई देते हैं। गंभीर शीतदंश को तत्काल उपचार की आवश्यकता होती है।

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.