Wednesday, Apr 14, 2021
-->
delhi weather updates temperature will decrease in national capital kmbsnt

Delhi Weather Updates: दिल्ली मेें फिर पड़ेगी हाड कंपा देनेे वाली ठंड, जानें मौसम का हाल

  • Updated on 1/12/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कई दिन मॉनसून जैसी बारिश होने के बाद अब दिल्ली में एक बार फिर से कड़ाके की ठंड पड़ने लगी है। पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र से ताजा हुई बर्फबारी (Snowfall) के बाद से ठंडी हवाएं चल रही हैं। जिसके चलते राजधानी में तापमान (Delhi Temperature) में गिरावट शुरू हो गई है। सोमवार को दर्ज किया गया अधिकतम तापमान 17.5 डिग्री सेल्सियस था, जो कि सफदरजंग में सामान्य से तीन डिग्री कम है, जो शहर का बेस स्टेशन है।

अधिकतम तापमान में गिरावट के चलते दिन भर ठिठुरन बनी रही और सुबह एवं शाम के समय यह और भी ज्यादा रही।भारतीय मौसम विभाग के अनुसार 14 जनवरी तक न्यूनतम तापमान गिरकर 5 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। वहीं अधिकतम तापमान के 18 से 19 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है। मौसम विभाग ने पूर्वानुमान जताया है कि आज यानी मंगलवार को भी दिन-भर 20 से 25 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवा चलने और न्यूनतम व अधिकतम तापमान क्रमश सातवें 8 डिग्री सेल्सियस रह सकता है। 

2021 में भी बैंकों के NPA को लेकर अलर्ट करने वाली है RBI की रिपोर्ट

1.1 डिग्री तक पहुंचा इस साल तापमान
इससे पहले दिल्ली शीत लहर की चपेट में थी और यहां का तापमान 1.1 डिग्री तक पहुंच गया था। तब वैज्ञानिकों ने दिल्ली में शीत लहर की घोषणा कर दी थी। मैदानी इलाकों में शीत लहर तब होती है जब न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस या उससे नीचे होता है या लगातार दो दिनों तक मौसम के सामान्य से 4.5 डिग्री कम होता है। मैदानी इलाकों में न्यूनतम तापमान 4 डिग्री सेल्सियस से कम होने पर शीत लहर भी घोषित की जाती है। एक ठंडा दिन और शीत लहर का एक साथ साक्षी होने का मतलब है कि दिन और रात के तापमान के बीच का अंतर सामान्य से कम था।

केजरीवाल ने AAP विधायक पर स्याही फेंकने के मामले में CM योगी पर साधा निशाना 

अधिक ठंड से पड़ सकते हैं बीमार- IMD
भारत मौसम विज्ञान विभाग ने चेतावनी दी है कि ठंड से गंभीर ठंड की स्थिति स्वास्थ्य पर कई गंभीर प्रभाव डाल सकती है जिसे अनदेखा नहीं किया जाना चाहिए। फ्लू, भरी हुई नाक या नकसीर और कंपकंपी जैसी विभिन्न बीमारियों की संभावना बढ़ जाती है, जो शरीर की गर्मी खोने का पहला संकेत है।

अत्यधिक ठंड के लंबे समय तक संपर्क में रहने और बीमारी का कारण बन सकता है, जिससे त्वचा पीली, कठोर और सुन्न हो जाती है और अंततः काले छाले उजागर शरीर के अंग जैसे अंगुलियों, पैर की उंगलियों, नाक या कान की बाली पर दिखाई देते हैं। गंभीर शीतदंश को तत्काल उपचार की आवश्यकता होती है।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.