Wednesday, Jun 16, 2021
-->
demand-for-cancellation-of-12th-board-exam-due-to-corona-rise-kmbsnt

कोरोना प्रकोप के बीच 12वीं के बोर्ड एग्जाम रद्द करने की उठने लगी मांग

  • Updated on 5/7/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप के कारण शिक्षा मंत्रालय ने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की दसवीं कक्षा की परीक्षा को रद्द कर उसकी मूल्यांकन नीति की घोषणा कर दी है। जिसके अनुसार सीबीएसई 20 जून को दसवीं के नतीजे जारी कर देगा। वहीं 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं पर हालात की समीक्षा के लिए 1 जून को शिक्षा मंत्रालय बैठक करेगा।

इधर देश में प्रतिदिन 4 लाख से अधिक मामले सामने आने पर छात्रों ने सोशल मीडिया पर हैशटैग कैंसिल 12th बोर्ड एग्जाम 2021 चला दिया है। जिसमें परीक्षा और स्वास्थ्य को लेकर चिंता में चल रहे प्रांजल पांडे, ममता, अद्रीजा मंडल व शाहमीना अली समेत सैकड़ों छात्रों ने 12वीं की परीक्षा रद्द करने की मांग की है।

700 टन ऑक्सीजन दिल्ली को देने पर केजरीवाल ने PM मोदी का जताया आभार

तकरीबन 14 लाख छात्र लेंगे बोर्ड परीक्षा में भाग
छात्रों का कहना है कि देश कोरोना की दूसरी लहर का सामना कर रहा है। हालात इतनी जल्दी सामान्य नहीं होने वाले। लिहाजा 12वीं की परीक्षा को रद्द किया जाए। क्योंकि उसमें देश भर से तकरीबन 14 लाख छात्र भाग लेने वाले हैं। कई राज्य जैसे पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, कर्नाटक और आंध्रप्रदेश अपने बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित कर चुके हैं।

12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने की मांग को लेकर ही छात्रों के एक समूह ने चेंज डॉट ओआरजी (Change.org) पर जारी एक याचिका में कहा है कि कोरोना महामारी के कारण बहुत से छात्रों ने अपने परिवार के प्रियजनों को खो दिया है।इसके अलावा देश में कोरोना के कारण भयावह स्थिति बनी हुई है।

सुप्रीम कोर्ट में बोला केंद्र- दिल्ली को दी 700 मीट्रिक टन से ज्यादा ऑक्सीजन

कोरोना हॉटस्पॉट बन सकते हैं परीक्षा केंद्र
इस समय में परीक्षाएं कराने से परीक्षा केंद्र कोरोना हॉटस्पॉट बन सकते हैं। वहीं 2020 में कोरोना महामारी के कारण बहुत सारे छात्रों ने बोर्ड परीक्षाओं की डिजिटल उपकरण ना होने के कारण तैयारी भी नहीं कर पाए हैं। अगर 12वीं सीबीएसई बोर्ड परीक्षा को ऑनलाइन आयोजित किया जाता है तो भी लाखों छात्र बिना डिजिटल सुविधा के परीक्षा से वंचित हो जाएंगे।

12वीं की बोर्ड परीक्षाएं आयोजित किया जाना महत्वपूर्ण होता है, जिससे छात्रों को स्नातक के लिए दाखिला मिलता है। ऐसे में सरकार को कोई अल्टरनेट मूल्यांकन नीति की घोषणा करनी चाहिए ताकि छात्रों को बचाया जा सके। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.