Sunday, Feb 28, 2021
-->
deshbhakti curriculum in delhi govt schools will start from next session kmbsnt

अगले सत्र से दिल्ली सरकार के स्कूलों में शुरू होगा देशभक्ति पाठ्यक्रम

  • Updated on 2/23/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली सरकार ने सोमवार को घोषणा की है कि वो 2021-2022 शैक्षणिक सत्र में अपने सरकारी स्कूलों में देशभक्ति पाठ्यक्रम (deshbhakti curriculum) शुरू करेगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) ने स्वतंत्रता दिवस 2019 से एक दिन पहले देशभक्ति पाठ्यक्रम की घोषणा की थी। उन्होंने तब घोषणा की थी कि आगामी शैक्षणिक वर्ष में पाठ्यक्रम का शुभारंभ किया जाएगा।

अब, पाठ्यक्रम के विकास पर एक समीक्षा बैठक के बाद, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि इसे अगले शैक्षणिक सत्र में लागू किया जाएगा। सोमवार को उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने कहा कि हमारी शिक्षा प्रणाली में सबसे बड़ा अंतर यह है कि यह ज्ञान देने की कोशिश करता है लेकिन बुद्धिमत्ता देने की नहीं। देशभक्ति पाठ्यक्रम शिक्षा के केंद्र में बुद्धिमत्ता लाने का प्रयास करेगा। 

हास्य कलाकार कुणाल कामरा की अवमानना याचिका पर महीने बाद सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

आठवीं कक्षा तक के छात्रों के लिए होगा पाठ्यक्रम
सरकार ने पहले ही घोषणा की थी कि पाठ्यक्रम केजी से आठवीं कक्षा तक के छात्रों के लिए होगा। दिल्ली सरकार द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि देशभक्ति पाठ्यक्रम में  स्वयं, परिवार, स्कूल, समुदाय / समाज, राष्ट्र और दुनिया को समझने से संबंधित विषय शामिल होंगे। इसमें कहानी कहने, समूह कार्य, माइंड मैपिंग, रोल प्ले और ग्रुप रिफ्लेक्शन एक्टिविटी सहित विभिन्न तरीकों और शिक्षाशास्त्र को लागू किया जाएगा।

दिल्ली में खुले स्कूल
बता दें कि दिल्ली सरकार इससे पहले बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए कई सारे इस प्रकार के पाठ्यक्रम ला चुकी है। हैप्पीनेस करिकुलम इन्हीं में से एक है। दिल्ली में अब जब कोरोना कंट्रोल में है तो शैक्षिक गतिविधियां जोर-शोर से चल रही हैं। 9वीं-11वीं तक के लिए स्कूल खुल चुके हैं। साथ ही नर्सरी एडमिशन की प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है। 

यूपी के मेरठ के बाद AAP पंजाब के मोगा में करेगी ‘किसान महासम्मेलन’ 

अभी भी ऑनलाइन क्लास ले सकते हैं बच्चे
बता दें कि इससे पहले दिल्ली सरकार ने कोविड-19 निषिद्ध क्षेत्रों के बाहर स्थित स्कूलों को 10वीं और 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए 18 जनवरी से खोलने की अनुमति दी थी। हालांकि विद्यार्थियों  के लिए स्कूल आना अनिवार्य नहीं, वे चाहें तो अब भी ऑनलाइन कक्षाएं ले सकते हैं। 

ये भी पढ़ें:

comments

.
.
.
.
.