Sunday, Jun 26, 2022
-->
devotees-asked-for-a-boon-from-mother-skandmata-to-protect-the-children

बच्चों की रक्षा के लिए भक्तों ने मांगा मां स्कंदमाता से वरदान

  • Updated on 10/10/2021

नई दिल्ली।टीम डिजिटल। मां स्कंदमाता भक्तों का कल्याण करने वाली हैं, इनकी पूजा-अर्चना करने वाले भक्त की समस्त इच्छाएं पूर्ण होती हैं और उनके भक्तों की रक्षा सदैव मां करती हैं। वात्सल्य की भावना से परिपूर्ण मां स्कंदमाता को कुमार कार्तिकेय व स्कंदकुमार की मां की वजह से स्कंदमाता, मयूरवाहन, चतुर्भूजी भी कहा जाता है। राजधानी के सभी मंदिरों सहित प्रमुख मंदिरों झंडेवाली मंदिर, कालकाजी मंदिर, छतरपुर मंदिर में मां के पांचवे स्वरूप का विधिपूर्वक पूजन-अर्चन किया गया।
प्रभू श्रीराम को वनवास जाते देख दर्शक हुए भावुक

मंदिर प्रशासन की ओर से है नि:शुल्क मेंहदी सेवा
भक्तों की मनोकामना पूरी करने वाली झंडेवाला देवी मंदिर में मां का आशीर्वाद पाने के लिए भक्तों में उत्साह देखते ही बन रहा था। मंदिर के सेवादार आने वाले भक्तों को मां के दर्शन सुचारु रूप से हो सके इसके लिए तत्पर दिखाई दिए और मार्ग दर्शन करते रहे। वहीं यहां सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए बेहतर प्रबंध किया गया है। यहां ऑनलाइन ई-पास लेकर भी लोग दर्शन को पहुंचे। यही नहीं मंदिर प्रशासन की ओर से नि:शुल्क मेंहदी सेवा की व्यवस्था भी आने वाली महिलाओं के लिए की गई है। 
मां चंद्रघंटा व कुष्मांडा की हुई दिल्ली के मंदिरों में विधि-विधान से पूजा

आज होगी मां के छठें स्वरूप मां कात्यायनी की पूजा
नवरात्रि के छठें दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है। कात्यायनी अमरकोष में मां पार्वती का नाम है। पुराणों के अनुसार कात्यायन ऋषि ने कठोर तप कर मां जगदंबा को प्रसन्न किया और उन्हें अपनी पुत्री के रूप में जन्म लेने का वर पाया। कहते हैं कि आश्विन कृष्ण चतुदर्शी को जन्म लेकर इन्होंने सप्तमी, अष्टमी व नवमी तक ऋषि कात्यायन की पूजा स्वीकार की और दशमी के दिन महिषासुर का संहार किया और महिषासुर मर्दिनी कहलाईं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.