Friday, Jun 18, 2021
-->
devotees-bath-in-ganga-river-after-lunar-eclipse

चंद्रग्रहण के बाद डुबकी को उमड़ा श्रद्धा का सैलाब, लगे खूब जयकारे

  • Updated on 7/28/2018

हरिद्वार/ब्यूरो। सदी के सबसे अधिक समय के चंद्रग्रहण के बाद हरकी पैड़ी और गंगा घाट पर आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा। बारिश के बावजूद श्रद्धालुओं की जबरदस्त भीड़ उमड़ी। कांवड़िये भी डुबकी लगाने पहुँचे और माँ गंगा के साथ हर-हर महादेव के जयकारे लगाए। मंदिर के कपाट खोलने से पहले पूरे घाट की गंगा जल से धुलाई हुई। फिर गंगा आरती की गई। 

दून में हो रही 36 घंटों से बारिश, अभी और होने के आसार

शुक्रवार की रात चंद्रग्रहण लगने और उससे पहले सूतक शुरू हो जाने के कारण मंदिरों के कपाट बंद कर दिए गए। शाम की आरती दोपहर को हुई। ग्रहण काल करीब चार घंटे चला। इस दौरान हरकी पैड़ी पर जप-तप हुआ। ग्रहण काल खत्म होने से पहले ही लाखों श्रद्धालु गंगा में पुण्य की डुबकी लगाने पहुँच गए थे। मंदिरों के कपाट खोले गए। पूजा-पाठ हुआ। गंगा आरती भी हुई। गंगा और हर-हर महादेव से बारिश में भी हरकी पैड़ी गूंज रही थी। 

Navodayatimes

कांवड़ियों  को तोहफाः आज से पटरी पर उतरी दो कांवड स्पेशल

चंद्रग्रहण के बाद शानिवार की सुबह हरिद्वार के मंसा देवी मंदिर, चंडी देवी मंदिर, श्री दक्षिण काली मंदिर, दरिद्र भंजन मंदिर, बिलकेश्वर मंदिर, दक्ष मंदिर में विशेष पूजा हुई।  इस दौरान गंगा घाट पर सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया गया था। गंगा सभा के अध्यक्ष पुरुषोत्तम गांधीवादी ने बताया कि करीब चार घण्टे चले चंद्रग्रहण के बाद सुबह नियत समय सात बजे आरती शुरू हुई। जिसमें बड़ी तादाद में श्रद्धाल शामिल हुए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.