Friday, May 07, 2021
-->
dgp said policemen cannot grow beard and hair without permission sohsnt

यूपी में पुलिसकर्मियों को DGP की सख्त हिदायत, कहा- बिना अनुमति नहीं बढ़ा सकते दाढ़ी और बाल

  • Updated on 10/27/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बागपत (Baghpat) में एक पुलिसकर्मी (Policemen) द्वारा बिना अनुमति दाढ़ी रखे जाने का मामला सामने आने के बाद अब डीजीपी (DGP) ने इस संबंध में पुलिसकर्मियों के लिए जारी दिशा-निर्देशों का शक्ति से पालन किए जाने की बात कही है। उन्होंने कहा कि सिख धर्म के पुलिसकर्मियों को छोड़कर किसी अन्य को बिना इजाजत के दाढ़ी या बाल बढ़ाने की कोई इजाजत नहीं है। इसके साथ ही कहा गया है कि नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई भी की जा सकती है।

उत्तरप्रदेश: UP में 50 की उम्र पार कर चुके पुलिसकर्मी होंगे रिटायर, DGP ने मांगी सूची

डीजीपी ने विभागाध्यक्षों और कार्यालयाधक्षों को लिखा पत्र
डीजीपी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस के सभी विभागाध्यक्षों और कार्यालयाधक्षों को पत्र लिखकर कहा कि पुलिसकर्मियों द्वारा ड्यूटी के समय वर्दी नियमों का उल्लंघन किए जाने की लगातार शिकायतें मिल रही हैं। उन्होंने लिखा सिख धर्म के पुलिकर्मियों को छोड़कर अन्य सभी पुलिसकर्मियों के लिए दाढ़ी क्लीन शेव रखना अनिवार्य है। उन्होंने कहा यदि किसी भी परिस्थिति में सक्षम प्रधिकारी द्वारा अनुमति मिल भी जाती है तब उस स्थिति में दाढ़ी के बाल छोटे होने चाहिए।

पुलिस पर भीड़ का हमला, एक सिपाही को पीटकर राइफल छीनी

पुलिसकर्मियों को मूंछें रखने की इजाजत
इसके साथ ही पुलिसकर्मियों को अपनी इच्छा अनुसार मूंछें रखने की इजाजत दी गई है। डीजीपी ने स्पष्ट करते हुए कहा कि धार्मिक आधार पर केवल कुछ समय के लिए दाढ़ी रखने और लंबे बाल उगाने की अनमुति कार्यालय प्रमुख के द्वारा दी जा सकती है। यह इजाजत एक निश्चित समय के लिए होगी। इसके साथ ही कहा गया है अगर किसी पुलिसकर्मी को धार्मिक आधार पर दाढ़ी रखने की दी जाती है तो आदेश में इसका स्पष्ट रूप से उल्लेख किया जाना आवश्यक होगा।

उत्तर प्रदेश : राज्यसभा चुनाव में 10वीं सीट के लिए जोर आजमाइश करेगी BSP

वर्दी धारण करते समय इन बातों का रखें ध्यान
डीजीपी ने वर्दी का जिक्र करते हुए कहा है कि सभी पुलिसकर्मियों को निर्धारित स्वच्छ वर्दी एवं हेड गियर धारण करना अनिवार्य है। उन्होंने कहा कि वर्दी के पैटर्न शू के अतिरिक्त कोई अन्य जूता, चप्पल या सैंडल आदि धारण करना नियमों का उल्लंघन माना जाएगा। उन्होंने कहा कि गलत तरीके से वर्दी धारण करना, टोपी, नेम प्लेट, कमीज के बटन खुले रखने तथा निर्धारित जूता व मोजा न पहनने जैसे चीजों पर विशेष ध्यान रखना होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.