Sunday, Dec 05, 2021
-->
digging-of-the-foundation-of-ram-temple-will-start-from-today-machines-reached-ayodhya-prshnt

राम मंदिर की नींव की खुदाई आज से होगी शुरू, मशीनें पहुंची अयोध्या

  • Updated on 9/8/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अयोध्या (Ayodhya) में सालों के इंतजार के बाद आज राम जन्मभूमि स्थल पर खुदाई का काम शुरू हो जाएगा। मंदिर निर्माण के काम को लेकर सोमवार को लखनऊ (Lucknow) से लेकर अयोध्या तक हलचल बनी रही। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट (Shri Ram Janmabhoomi Teerth Kshetra Trust) के मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्र (Nripendra Mishra) सोमवार को लखनऊ पहुंचे, जिसके बाद वे अयोध्या के लिए रवाना हो गए। इसके अलावा मंदिर की नींव की खुदाई के लिए मशीनें रविवार को ही मंदिर परिसर में पहुंच चुकी है।

CRPF कमांडो की सुरक्षा पाने वाली बॉलीवुड की पहली कलाकार होंगी कंगना

200 मीटर गहराई तक होगी खुदाई
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मंदिर की नींव के लिए भूमि के अंदर 100 फुट की गहराई तक खुदाई की जाएगी।इसके लिए कानपुर से ग्रासा गार्ड मशीने मंगवाई गई है। जिससे नींव की खुदाई की जाएगी। इस मशीन से मुख्य तौर पर पिलर के लिए नींव की खुदाई की जाएगी। दरअसल मंदिर की नींव रखने के लिए 200 मीटर गहराई तक खुदाई की जानी है और इस काम के लिए कुछ और मशीनें जल्द ही अयोध्या आ जाएंगे।

Coronavirus: देशभर में संक्रमितों का आंकड़ा 42.77 लाख पार, 72 हजार से ज्यादा मौत

गेट नंबर 3 से लाई जाएंगी मशीने
पूरे मंदिर परिसर में 12 जगहों पर फायरिंग की जानी है, जिसके लिए लार्सन एण्ड टुब्रो के इंजीनियर सोमवार को भी मशीनें तैयार करने में जुटे रहे। बताया जा रहा है कि सभी बड़ी मशीनों को राम जन्मभूमि परिसर गेट नंबर 3 से लाया जाएगा। फाइलिंग मशीनों से मंदिर के खंभों को खड़ा करने के लिए खुदाई की जाएगी।

ज्वाला गुट्टा ने की जन्मदिन के मौके पर अभिनेता विष्णु विशाल से सगाई

विशेषज्ञों के रिपोर्ट के आधार पर होगा मंदिर निर्माण
वहीं मंदिर निर्माण के लिए सीबीआरआई और आईआईटी चेन्नई के विशेषज्ञों की ओर से भेजी गई, रिपोर्ट के आधार पर नियुक्ति डिजाइन तैयार हो रहीृा है। वहीं ट्रस्ट की ओर से चेन्नई भेजी गई गिटियो और मौरंग का परीक्षण भी पूरा कर लिया गया है। इसके अलावा कौन से स्टैंडर्ड की सीमेंट का इस्तेमाल होगा इस पर भी विशेषज्ञों ने अपनी रिपोर्ट भेज दी है। विशेष रिपोर्ट के आधार पर मंदिर का निर्माण किया जाएगा

बता दें कि राम जन्मभूमि परिसर में पहले से जर्जर मंदिरों और अन्य भवनों को ध्वस्त करने की प्रक्रिया जारी है। अब तक जन्म स्थान सीता रसोई और बहराइच मंदिर के अतिरिक्त साक्षी गोपाल मंदिर के भवन को भी ध्वस्त किया जा चुका है।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें

 

comments

.
.
.
.
.