digvijay singh trolled on social media

मुहर्रम के मौके दिग्विजय सिंह ने किया मुसलमानों को सलाम, यूजर्स ने लगाई Class

  • Updated on 9/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मध्य प्रदेश  ( Madhya pradesh) पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मुस्लिम समाज के शोक पर्व मुहर्रम के मौके पर सभी मुसलमानों को सलामी दी। उनको ये सलामी देनी थोड़ी भारी पड़ गई क्योंकि मुहर्रम एक दुख का दिन है और इस दिन दिग्विजय सिंह ने मुसलमानों को सलाम किया।

आपको बता दें कि दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा,'सभी मुस्लिम भाईयों और बहनों को मुहर्रम के पावन अवसर पर हमारा सलाम।' उनके इस ट्वीट के बाद से यूजर्स उन्हें ट्रोल कर रहे हैं। यहां तक कि बीजेपी प्रवक्त शाहनवाज हुसैन ने कहा,'दिग्विजय सिंह आज दुख का दिन है। इतना भी नहीं मालूम आपको दिग्विजय जी।'

दुख के रूप में मनाया जाता है मुहर्रम

इस दिन सड़कों पर जुलूस भी निकाला जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन मुहर्रम अधर्म पर धर्म की जीत का प्रतीक होता है। मुहर्रम शब्द हरम से निकला है जिसका अर्थ होता है किसी चीज पर रोक लगाना, जो की मुस्लिम समाज में बहुत जरूरी माना जाता है। मुहर्रम के इस दिन को सभी मु्स्लिम (Muslim) दुख के रूप में मनाते हैं। जो की महुर्रम महीने का 10 वां दिन माना जाता है। इसी ही दिन से इस्लामिक कैलेंडर की शुरूआत होती है।

आंध्र प्रदेश: मुहर्रम जुलूस पर गिरी छत, 20 लोग घायल, VIDEO हो रहा वायरल 

हुसैन की कब्र की नकल को कहा जाता है ताजिया 

बता दें कि इमाम हुसैन की कब्र की नकल को ताजिया कहा जाता है। ताजिया सोने, चांदी, लकड़ी, बांस, स्टील, कपड़े और कागज से तैयार किया जाता है। मुहर्रम की 10वीं तारीख को हुसैन की शहादत की याद में गम और शोक के प्रतीक के तौर पर जुलूस के रूप में ताजिया निकाल कर मनाया जाता है। ताजिये का जुलूस इमामबारगाह से निकलता है और कर्बला में जाकर खत्म होता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.