Thursday, Jun 24, 2021
-->
diwali-people-started-finding-green-firecrackers-in-the-markets-right-now-albsnt

दीवालीः लोग अभी से बाजारों में ढूंढने लगे ग्रीन पटाखे

  • Updated on 10/30/2020

नई दिल्ली/अनामिका सिंह। दीवाली का त्यौहार यानि ढेर सारी रौशनी और आतिशबाजी, जिसके बिना लोगों को इस त्यौहार का मजा ही नहीं आता है। लेकिन बीते कई सालों से लोग दीवाली के त्यौहार का मजा नहीं ले पा रहे हैं। जिसके चलते लोगों ने अभी से राजधानी के बाजारों में ग्रीन पटाखों को ढूंढना शुरू कर दिया है। वहीं व्यापारियों में भी कोविड-19 की गाइडलाइंस को लेकर डर है, उन्हें लग रहा है कि बीते सालों की तरह ही यह दीवाली भी फीकी ना पड जाए। जिसकी वजह से वो डर-डर कर पटाखे मंगवा रहे हैं। 

Eid Milad Un Nabi 2020: जानें कब है ईद मिलाद उन-नबी, इस दिन का महत्व

दरअसल विगत् दो वर्षों से दिल्ली-एनसीआर में सर्दियों की दस्तक के साथ ही प्रदूषण का स्तर बढता चला जा रहा है। जिसका कारण गाडियों से निकलने वाले धुएं के साथ ही दीवाली पर छोडी जाने वाली आतिशबाजी भी बताया गया है। यही वजह है कि कोर्ट साल 2018 में पटाखा जलाने पर अंकुश लगा दिया था जबकि साल 2019 में ग्रीन पटाखे जलाने को ग्रीन सिगनल दिया गया था लेकिन अंतिम समय में यह ग्रीन पटाखे मार्केट में आए। जिसका नुकसान जहां पटाखा व्यापारियों को उठाना पडा था, वहीं लोगों को भी बिन पटाखा जलाए दीवाली अधूरी सी लगी थी।

सूर्यास्त के समय इन तीन उपायों से करें शनिदेव की पूजा, सभी परेशानी होगी दूर

वहीं इस साल की शुरूआत से ही कोविड-19 सभी त्यौहारों पर भारी पड रहा है। जिससे पटाखा व्यापारियों के अंदर डर है कि कहीं पिछले सालों की ही तरह इस साल भी दीवाली फीकी ना पड जाए। यही वजह है कि पटाखा व्यापारी डर-डर कर पटाखे मंगवा रहे हैं। लेकिन लोगों ने दीवाली का मजा लेने के लिए अभी से बाजारों में ग्रीन पटाखे ढूंढना शुरू कर दिया है। मालूम हो कि राजधानी दिल्ली में पटाखों के दो सबसे बडे और थोक बाजार हैं जिनमें पहला सदर बाजार व दूसरा जामा मस्जिद में पाईंवालान बाजार। 

अधिक मास में इस दिन है आश्विन पूर्णिमा, जानें किस उपाय से बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपा

कोरोना ने बिगाडा समीकरण
पाईंवालान में अजीत फायर वर्क्स के मालिक ने बातचीत के दौरान कहा कि इस साल भी कोरोना ने पटाखा व्यापारियों के समीकरण को बिगाड दिया है। जिससे व्यापारी डर कर पटाखे मंगवा रहे हैं। सिर्फ स्काई शॉर्ट व फुलझडियां, अनार जैसे कुछ पटाखे ही अभी तक आएं हैं। लॉकडाउन के दौरान मजदूर घर चले गए और स्थितियां हाल ही में ढर्रे पर आईं है जिससे मांग के अनुरूप आपूर्ति नहीं हो पा रही है।

Malmaas 2020: 160 साल बाद बना सर्वार्थसिद्धि योग, मलमास में पूरी होंगी मनोकामनाएं

जाने क्या हैं रेट
 

फुलझडी            25 पीस का डिब्बा 200-230 रूपए पैकेट
अनार                  5 पीस का डिब्बा 200-350 रूपए पैकेट
स्कॉई शॉट           3 पीस का डिब्बा 300-450 रूपए पैकेट
बम                    10 पीस का डिब्बा 100-200 रूपए पैकेट

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.