Tuesday, Mar 02, 2021
-->
DMRC Delhi Metro Construction work Pollution Control KMBSNT

दिल्ली: बढ़ते प्रदूषण पर मेट्रो सख्त, टीम बनाकर किया अभियान शुरू

  • Updated on 10/19/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अक्टूबर की शुरुआत से दिल्ली वालों को गर्मी से कुछ राहत हुई ही थी कि अब प्रदूषण (Pollution) की समस्या ने दिल्ली को घेर लिया है। निर्माण स्थलों से उड़ने वाली धूल, गाड़ियों का धुआं और पराली प्रदूषण के मुख्य कारक हैं। ऐसे में सभी संबंधित विभागों और एजेंसियों द्वारा प्रदूषण को कम करने की कवायद की जा रही है।इसी क्रम में प्रदूषण से निपटने के लिए दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) ने अपने कंस्ट्रक्शन साइट पर प्रदूषण नियंत्रण के लिए बनाए गए नियमों का कड़ाई से पालन करने के निर्देश दिए हैं। 

मेट्रो के निर्माण स्थलों पर किसी भी तरह की कोताही बरतने पर सख्त कार्रवाई करने की चेतावनी भी दी गई है। इसके लिए मेट्रो की ओर से निरीक्षण टीमें बनाई गई हैं। इस अभियान में निरीक्षण टीमें मेट्रो के निर्माण स्थलों का दौरा करेंगी और प्रबंध निदेशक डॉ मांगू सिंह स्वयं इसकी निगरानी कर रहे हैं।

दिल्ली: पूरे दिन जलता रहा कूड़ा, गोपाल राय ने MCD पर लगाया 1 करोड़ का जुर्माना

मेट्रो ने बढ़ाई निरीक्षण की संख्या
मेट्रो के कार्यकारी निदेशक अनुज दयाल ने बताया कि अभियान में प्रदूषण नियंत्रण के उपायों के अनुपालन की जांच करने के लिए किए जाने वाले निरीक्षणों की संख्या बढ़ाई गई है। जिससे प्रदूषण नियंत्रण के नियमों का पालन सुनिश्चित कतिया जा सके। डीएमआरसी के पर्यावरण विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के पर्यवेक्षण में बनी टीमें सभी साइटों का दौरा करती है और व्यवस्थाओं की बारीकी से जांच करती हैं। 

प्रदूषण को लेकर बनी SC की कमेटी का AAP ने किया स्वागत, कहा- साबित हुआ पराली है असली समस्या

आज से प्रदूषण बढने की आशंका
पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की वायु गुणवत्ता पूर्व चेतावनी प्रणाली ने कहा है कि वायु संचार सूचकांक 11500 वर्ग मीटर प्रति सेकंड रहने की उम्मीद है, जो प्रदूषक तत्वों को बिखेरने के लिए अनुकूल है। वायु संचार सूचकांक 6000 से कम होने और औसत वायु गति 10 किलोमीटर प्रतिघंटा से कम होने पर प्रदूषक तत्वों के बिखराव के लिए प्रतिकूल स्थिति होती है।

दिल्ली-एनसीआर में पराली जलाने पर रोक के लिए जस्टिस लोकूर की अध्यक्षता में बनी कमेटी 

एक दिन में 1230 स्थानों में जली पराली
दिल्ली में वायु गुणवत्ता रविवार को खराब श्रेणी में दर्ज की गई, क्योंकि पड़ोसी राज्यों में 1 दिन में पराली जलाने की सर्वाधिक 1230 मामले दर्ज किए गए। वहीं दिल्ली पुलिस ने भी पराली जलाने को लेकर सख्ती दिखाई। नागलोई पुलिस ने इस मामले में एक महिला समेत दस खेत मालिकों पर पराली जलाने को लेकर एनवायरमेंट प्रोटक्शन एक्ट 1986 व अन्य धाराओं के तहत एफ आई आर दर्ज की है।

comments

.
.
.
.
.