Tuesday, Jan 25, 2022
-->
doctor kafeel khan urge up yogi bjp government to restore his service rkdsnt

डॉ. कफील खान ने कोर्ट से राहत पाने के बाद योगी सरकार पर बोला हमला

  • Updated on 9/3/2020


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। इलाहाबाद उच्च न्यायालय (Allahabad High Court) द्वारा रिहा किए गए डॉ. कफील खान (Doctor Kafeel Khan) ने बृहस्पतिवार को यहां कहा कि वह चिकित्सक के रूप में अपनी सेवाओं को बहाल करने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से आग्रह करेंगे। उल्लेखनीय है कि गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज व अस्पताल के निलंबित चिकित्सक खान को अदालत ने मंगलवार को रिहा करने का आदेश दिया था। 

शिवसेना ने किया प्रश्नकाल नहीं कराने का समर्थन, NCP बोली- BJP छुपा रही अपनी नाकामियां

खान ने यहां संवाददाताओं से कहा, 'राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत मेरे खिलाफ लगाए गए आरोपों को उच्च न्यायालय ने खारिज कर दिया है तो ऐसे में मैं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को लिखूंगा कि चिकित्सक के रूप में मेरी सेवाएं बहाल की जाएं। अगर मुझे इसकी अनुमति नहीं मिलती है तो मैं कार्यकर्ता के रूप में असम के बाढ़ प्रभावित इलाकों में चिकित्सा शिविर लगाउंगा।' 

गिरती अर्थव्यवस्था को लेकर मोदी सरकार पर जमकर बरसे सचिन पायलट

खान ने कहा कि वह अपने परिवार के साथ जयपुर आए हैं क्योंकि उनका व उनके परिवार का मानना है कि वे यहां अधिक सुरक्षित हैं। खान ने कहा, 'राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है। मेरे परिवार का मानना है कि हम यहां सुरक्षित रहेंगे। मैं अपने परिवार के साथ कुछ अच्छा समय बिताना चाहता हूं।' डॉ. खान ने कहा कि उत्तर प्रदेश की सरकार ने उन्हें गलत तरीके से फंसाकर जेल भेजा क्योंकि वह व्यवस्था की खामियों को उजागर कर रहे थे। 

JDU के खिलाफ उम्मीदवार उतारने पर विचार कर रही पासवान की LJP, BJP में हलचल

उन्होंने कहा, 'बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की मौत हुई तो मैंने व्यवस्था में कमियों का खुलासा करने की कोशिश की। हमारे मुख्यमंत्री को यह अच्छा नहीं लगा और मेरे खिलाफ एक झूठा मुकदमा दर्ज कर मुझे जेल में डाल दिया गया।' खान ने गिरफ्तारी के दौरान उत्पीडऩ का भी जिक्र संवाददाताओं के समक्ष किया। 

भाजपा शासित गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत भी कोरोना वायरस से संक्रमित

उल्लेखनीय है कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत खान की गिरफ्तारी को मंगलवार को अवैध बताया और उनकी तत्काल रिहाई के आदेश दिए। अदालत के आदेश के बाद खान को मंगलवार देर रात मधुरा की जेल से रिहा किया गया। कफील संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ पिछले साल अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में जनवरी से जेल में बंद थे। 

न्यायमूर्ति मिश्रा के विदाई समारोह में बोलने से वंचित हुए दुष्यंत दवे, CJI को लिखा पत्र

 

 

कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरों को यहां पढ़ें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.