Wednesday, Mar 03, 2021
-->
doctors protest against lack of ppe suit in germany to grab government attention prsgnt

पीपीई सूट की कमी के खिलाफ जर्मनी में डॉक्टरों ने किया नग्न विरोध प्रदर्शन

  • Updated on 4/28/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दुनियाभर में कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज में जुटे डॉक्टरों के लिए कौन सोच रहा है? क्या देश की सरकारें, जनता या फिर मीडिया? शायद कोई नहीं! हम सभी जानते हैं कि कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज करने के लिए सबसे पहले जिस चीज की जरुरत पड़ती है, वो है पीपीई सूट, जो स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना संक्रमण से बचाता है।

WHO ने चेताया- अभी कोरोना को जाने में वक्त लगेगा लेकिन हम बच्चों को लेकर ज्यादा चिंतित

पीपीई की जंग
लेकिन दुनियाभर के कई देश पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (पीपीई) की कमी से जूझ रहे हैं। इस महामारी के दौर में जहां डॉक्टर्स कई बड़ी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं तो वहीँ पीपीई न होने की वजह से अपनी जान भी गंवा रहे हैं। कई देशों में डॉक्टरों द्वारा पीपीई सूट की मांग की गई है लेकिन अभी तक उन्हें सूट और कुछ जरुरी इक्विपमेंट नहीं मिल सके हैं। इन कमियों के बीच जर्मनी में डॉक्टरों ने पीपीई की डिमांड को लेकर नग्न अवस्था में विरोध प्रदर्शन किया।

चमगादड़ों में मिलते हैं कोरोना जैसे 500 से भी ज्यादा खतरनाक वायरस, पढ़ें रिपोर्ट

जर्मनी के डॉक्टरों का प्रदर्शन
दुनिया के कई देशों में मेडिकल स्टाफ पीपीई सूट न मिलने पर विरोध जता रहे हैं तो वहीँ जर्मनी के डॉक्टरों का अलग तरीके से विरोध जताना वायरल हो रहा है। जर्मनी में कोरोना के 1,58,758 मामले दर्ज किए गये हैं वहीँ अब तक 6 हजार के ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।  

इस बारे में एक डॉक्टर कहते हैं कि नग्न होकर प्रदर्शन करना इस बात का प्रतीक है कि हम बिना सुरक्षा के कितने ज्यादा असुरक्षित होते हैं। डॉक्टर्स का मानना है कि इस तरह से शायद अथोरिटी इस बात को समझेगी कि हम बिना पीपीई सूट के असुरक्षित हैं।

कोरोना वैक्सीन को लेकर भारत से क्यों उम्मीद लगाए बैठी है दुनिया, पढ़ें रिपोर्ट

सरकार को याद दिलाना है
इस बारे में द गार्डियन पर एक रिपोर्ट प्रकाशित की गई है जिसमें बताया गया है कि जर्मनी में डॉक्टरों के एक समूह ने नग्न होकर अस्पताल में काम करते हुए फोटो खिचाएं हैं और पीपीई की मांग दोहराई है। इतना ही नहीं डॉक्टरों ने एक वेबसाइट भी बनाई है जहां उन्होंने अपने फोटो और मांगे पब्लिश की हैं।

दरअसल, इस तरह के प्रदर्शनों का एक ही लक्ष्य है कि सरकार का इस ओर ध्यान खींचा जा सके की पीपीई के बिना डॉक्टरों की जान सुरक्षित नहीं है। बता दें कि पीपीई की कमी की वजह से कई स्वास्थ्यकर्मियों के कोरोना संक्रमित होने और उनकी मौत की भी खबरें आ चुकी हैं।

आखिर क्यों नाक और मुंह के जरिए ही शरीर में प्रवेश करता है कोरोना वायरस, पढ़ें रिपोर्ट

क्या कहते हैं डॉक्टर
इस बारे में प्रदर्शन करने वाले डॉक्टर रुबेन बर्नौ ने बताया कि उनकी टीम के पास संसाधनों की कमी है। हम सरकार का ध्यान हमारी तरफ खींचना चाहते हैं। वहीँ, डॉक्टर क्रिस्टियन रेचटेनवाल्ड का कहना कि उन्हें फ्रांस के एक डॉक्टर एलेन कोलंबी से इस नग्न विरोध-प्रदर्शन को करने की प्रेरणा मिली।

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए दुनिया को दक्षिण कोरिया से सीखना होगा

पाकिस्तान में भी हो रहे प्रदर्शन
एक खबर के अनुसार, सिर्फ जर्मनी में ही नहीं बल्कि भारत और पाकिस्तान में भी पीपीई के लिए डॉक्टर प्रदर्शन कर रहे हैं। भारत में स्वास्थ्यकर्मी लगातार इस मांग को उठा रहे हैं तो वहीँ पाकिस्तान के पंजाब राज्य में डॉक्टरों ने पीपीई को लेकर भूख हड़ताल करना शुरू कर दी है। इस बीच एक प्रदर्शन में कई दर्जन स्वास्थ्यकर्मियों को गिरफ्तार भी कर लिया गया था, हालांकि उन्हें बाद में जमानत दे दी गई थी।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.