Wednesday, Sep 18, 2019

दादरी के बिसाहड़ा कांड की हकीकत बयां करेगी डॉक्यूमेंट्री ‘द ब्रदरहुड’

  • Updated on 5/10/2017

Navodayatimesनई दिल्ली/टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश में दादरी के बिसाहड़ा कांड ने पूरी दुनिया के सामने हिन्दू और मुस्लिमों के बीच रिश्तों की स्याह तस्वीर पेश की। लेकिन, हकीकत इससे बिल्कुल जुदा है।

यह दावा किया गया है ग्रेटर नोएडा में हिन्दू-मुस्लिम एकता और स्थानीय संस्कृति को पेश करती डॉक्यूमेंटरी ‘द ब्रदरहुड’ में जो जल्द ही रिलीज होने वाली है। इस डॉक्यूमेंटरी को मीडियाकर्मी पंकज पाराशर ने निर्देशित किया है। 

रामलला के दर्शन को बाबर के अनुयायियों से वीजा की जरूरत नहींः श्रीकांत शर्मा

कई मुद्दों पर लघु फिल्म और डॉक्यूमेंटरी बना चुके पंकज पाराशर ने बताया कि 24 मिनट की डॉक्यूमेंटरी दादरी के बिसाहड़ा गांव से शुरू होती है जहां 28 सितम्बर 2015 की रात कुछ उन्मादी युवकों ने गौ हत्या की अफवाह पर अखलाक नाम के व्यक्ति की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी।

यह अकेली घटना इस क्षेत्र की वास्तविक तस्वीर नहीं है। इसमें भाटी गोत्र के हिंदुओं और मुसलमानों के इतिहास को दिखाने के लिए जैसलमेर, सोमनाथ और ग्रेटर नोएडा के ऐतिहासिक स्थलों का फिल्मांकन किया गया है।

योगी सरकार ने जारी किया नया ड्रेस कोड, ऐसे दिखेंगे स्कूली बच्चे

सन् 1857 की क्रांति से जुड़ी कई ऐतिहासिक घटनाएं ‘द ब्रदरहुड’ में देखने को मिलेंगी जो पश्चिमी उत्तर प्रदेश के इतिहास में मायने रखती हैं। इनसे दोनों समुदायों के बीच संबंधों की गहराई पता चलती है।

1947 में आजादी के बाद बंटवारे का दुखदायी दौर पूरे देश को झेलना पड़ा था। लेकिन भटनेर से कोई मुस्लिम परिवार देश छोडक़र पाकिस्तान नहीं गए थे। डॉक्यूमेंटरी में दिखाया गया है कि किस तरह यहां के लोगों ने साथ रहना पसंद किया और मुस्लिम परिवारों को आगे बढक़र पाकिस्तान जाने से रोक लिया गया था। इसमें हालिया समय के बारे में जानकारी देने के लिए जेवर के विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह का साक्षात्कार है।   
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.