Tuesday, Aug 03, 2021
-->
dominica-hc-rejects-mehul-choksi-s-bail-plea-said-this-prshnt

डोमिनिकाः HC ने खारिज की मेहुल चोकसी की जमानत याचिका, कही ये बात

  • Updated on 6/12/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। डोमिनिका उच्च न्यायालय ने पड़ोसी एंटीगुआ और बारबुडा से रहस्यमय परिस्थितियों में गायब होने के बाद द्वीपीय देश में अवैध रूप से घुसने के मामले में भगोड़ा हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी को जमानत देने से इनकार कर दिया है। स्थानीय मीडिया ने यह खबर दी। चोकसी 2018 से एंटीगुआ और बारबुडा में नागरिक के तौर पर रह रहा है। समाचार संस्थान एंटीगुआ न्यूजरूम की खबर के अनुसार उच्च न्यायालय ने शुक्रवार (स्थानीय समयानुसार) को अपने फैसले में कहा कि चोकसी के भागने का खतरा है। 

चोकसी ने मजिस्ट्रेटी अदालत द्वारा जमानत याचिका खारिज किये जाने के बाद उच्च न्यायालय का रुख किया था। गीतंजलि जेम्स और भारत में अन्य मशहूर हीरा आभूषण ब्रांडों का मालिक चोकसी पंजाब नेशनल बैंक में 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी सामने आने से कुछ सप्ताह पहले ही देश से फरार हो गया था। मामले में चोकसी और उसके भांजे नीरव मोदी की कथित संलिप्तता का खुलासा हुआ था। चोकसी (62) के खिलाफ इंटरपोल रेड नोटिस जारी किया गया। वह 23 मई को रहस्यमयी परिस्थिति में एंटीगुआ और बारबुडा से गायब हो गया। 

केंद्र का ब्लैक फंगस की दवा का आवंटन अतार्किक, पर्याप्त आपूर्ति नहीं : हाई कोर्ट 

डोमिनिका में अवैध रूप से घुसने के आरोप
भारत से भागने के बाद यहां वह बतौर नागरिक 2018 से रह रहा था। उसे अपनी कथित प्रेमिका के साथ पड़ोसी द्वीपीय देश डोमिनिका में अवैध रूप से घुसने के आरोप में हिरासत में लिया गया। चोकसी के वकीलों ने आरोप लगाया कि एंटीगुआई और भारतीय जैसे दिखने वाले पुलिसर्किमयों ने एंटीगुआ में जोली हार्बर से उसका अपहरण किया और नौका से डोमिनिका ले गये। बंदी प्रत्यक्षीकरण मामले की सुनवाई कर रहे उच्च न्यायालय के न्यायाधीश बर्नी स्टीफेंसन के आदेश पर चोकसी को अवैध प्रवेश के आरोपों का जवाब देने के लिए रोसियू मजिस्ट्रेटी अदालत में पेश किया गया, जहां उसने अपना गुनाह कबूल नहीं किया। अदालत ने अपने आदेश में उसे जमानत देने से इनकार कर दिया। 

कोरोना लहर के बीच NEET पैनल एक महीने में अपनी रिपोर्ट देगा: सरकार

मेहुल चोकसी ने डोमिनिका उच्च न्यायालय में दावा
बता दें कि भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी ने डोमिनिका हाई कोर्ट में भारत से भागने की बात को खारिज करते हुए कहा कि वो भारत से भागा नहीं है बल्कि उसने अमेरिका में अपने इलाज के लिए भारत को छोड़ा है। मेहुल चोकसी ने डोमिनिका उच्च न्यायालय में दावा किया कि वह कानून का पालन करने वाला नागरिक है और उसने केवल अमेरिका में मेडिकल ट्रीटमेंट लेने के लिए भारत छोड़ा था। चोकसी ने दावा किया कि उसने भारतीय अधिकारियों को इंटरव्यू के लिए आमंत्रित किया था और उसके खिलाफ चल रही जांच से जुड़े किसी भी तरह के सवाल पूछने के लिए भी कहा था

चोकसी ने कहा, मैंने भारतीय अधिकारियों को मेरा साक्षात्कार लेने और मेरे खिलाफ की जा रही किसी भी जांच के संबंध में मुझसे कोई भी प्रश्न पूछने का निमंत्रण दिया है। उसने कहा, मैं भारत में कानून से बचकर भागा नहीं हूं, जब मैंने अमेरिका में इलाज लेने के लिए भारत छोड़ा था, तब भारत में कानून प्रवर्तन अधिकारियों द्वारा मेरे खिलाफ कोई वारंट नहीं था।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.