Sunday, Nov 27, 2022
-->
donkeys-being-slaughtered-for-traditional-chinese-medicine-prsgnt

चीन दुनियाभर से क्यों मंगवा रहा है ऊंचे दाम पर गधे, जानिए क्या है कारण...

  • Updated on 6/15/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोरोना वायरस के कहर से खस्ताहाल हो चुके पाकिस्तान के लिए इस समय चीन बड़ा मददगार बना हुआ है। पिछले दिनों पाकिस्तान के आर्थिक मामलों के सलाहकार अब्दुल हफीज शेख ने बताया था कि देश में गधों की आबादी 55 लाख से ज्यादा होने जा रही है। 

इसी बीच कोरोना संकट के कारण पाकिस्तान अपने ऊंची नस्ल के गधों को अब चीन भेज रहा है और चीन ने इसकी अच्छी रकम भी वसूल रहा है, और सिर्फ पाकिस्तान से ही नहीं बल्कि चीन दुनिया के कई देशों से गधों को खरीद रहा है लेकिन क्यों? आइये जानते हैं...

गधों को क्यों मंगा रहा है चीन
चीन ने पाकिस्तान में बड़ा निवेश किया है. इसके बदले में पाकिस्तान चीन को गधे भेज रहा है। पाकिस्तान के साथ ही अफ्रीका से भी चीन गधे मंगा रहा है। दरअसल, चीन में गधों का इस्तेमाल चीनी दवाओं को बनाने में किया जाता है। चीन में गधे का मांस न सिर्फ खाया जाता है बल्कि चीन की पारंपरिक दवाओं के लिए खास तौर पर गधों का इस्तेमाल किया जाता है।

खास है ये दवाएं
चीन में गधों की चमड़ी से जिलेटिन नामक पदार्थ से एजियाओ (Ejiao) नाम की दवा बनाई जाती है. ये दवा चीन की पारंपरिक पद्धति से बनाई जाती है। इस दवा का इस्तेमाल जॉइंट्स पैन के लिए किया जाता है। रिप्रोडक्टिव प्रॉब्लम में भी जिलेटिन को दवा की तरह लिया जाता है। बता दें कि चीन में इन दवाओं की काफी डिमांड रहती है। 

इन दवाओं का व्यापार 130 बिलियन डॉलर से ज्यादा का माना जाता है। इतना ही नहीं, चीन में गधे के अलावा सांप, बिच्छू, मकड़ी और कॉक्रोच जैसे जीव-जंतुओं से भी दवाएं बनाई जाती हैं। इन दवाओं से कैंसर, स्ट्रोक, पर्किंसन, हार्ट डिसीज और अस्थमा तक का इलाज होता है।

चीन में ऐसा है गधा पालन
बताया जाता है की चीन में हर साल दवाएं बनाने के लिए 50 लाख से ज्यादा गधों की जरूरत पड़ती है। बीते 6 सालों में चीन में गधों की डिमांड बढ़ी है। सिर्फ मांग ही नहीं बल्कि गधों की तस्करी भी बढ़ी है। चीन में कभी गधे बड़े पालना बड़ा उद्योग था लेकिन दूसरे काम काजों की वजह से गधों को पालना बंद कर दिया गया और अब चीन दूसरे देशों से गधे मंगाता है।

मर जाते हैं गधे 
चीन में गधे सिर्फ दवा बनाने की वजह से ही नहीं मरते बल्कि उन्हें एक देश से दूसरे देश समुद्र के रास्ते भेजने पर 20 फीसदी गधे मर जाते हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, चीन की डिमांड को पूरा करने के किये गधे के बच्चे, प्रेग्नेंट गधे और बीमार गधों को भी भेजा जाता है। वहीँ, गधों में प्रजनन डॉ धीमी और देर से होती है इसलिए चीन में गधों की कमी, दवाओं की डिमांड और विदेशों से तस्करी बढ़ती जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.