Saturday, Aug 13, 2022
-->
dr harsh vardhan said we have the best recovery rate in the world pragnt

कोरोना के खौफ के बीच आई Good News, भारत का रिकवरी रेट दुनिया में सबसे अच्छा

  • Updated on 8/22/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्र सरकार (Central Government) की तमाम कोशिशों के बाद भी देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) का खौफ थमने का नाम नहीं ले रहा है। ऐसे में इस वायरस के कहर के बीच में कुछ अच्छी खबरें भी सामने आ रही हैं। आज केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) ने बताया कि भारत में इस वायरस से मृत्यु दर अन्य देशों की अपेक्षा काफी कम है।

JMM प्रमुख शिबू सोरेन और पत्नी रूपी हुए कोरोना संक्रमित, CM हेमंत सोरेन का भी होगा टेस्ट

भारत का रिकवरी रेट सबसे ज्यादा
डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि हमारा रिकवरी रेट दुनिया में शायद सबसे अच्छा 75% के करीब है और मृत्य दर सबसे कम 1.87% है। हमारा एक वैक्सीन कैंडिडेट क्लीनिकल ट्रायल के तीसरे चरण में पहुंच गया है।

सतर्क रहे दिल्ली! फिर बढ़ने लगी है कोरोना संक्रमण दर

अब तक देश में हुई इतनी जांच
सूत्रों के मुताबिक अभी तक देश में कुल 3,44,91,073 नमूनों की जांच की जा चुकी है जिनमें से करीब 28 प्रतिशत मामलों में जांच रैपिड एंटीजन पद्धति से की गयी। मंत्रालय ने कहा यह केंद्र और राज्यों तथा केंद्रशासित प्रदेशों की सरकारों के दृढ़ संकल्प वाले, केंद्रित, सतत और समन्वित प्रयासों का परिणाम है कि भारत ने 24 घंटे की अवधि में दस लाख से अधिक नमूनों की जांच की है। मंत्रालय ने बताया कि जांच प्रयोगशालाओं के नेटवर्क में विस्तार की वजह से भी यह उपलब्धि हासिल हुई है। आज देश में 1,511 लैब हैं जिनमें 983 सरकारी क्षेत्र में तथा 528 निजी हैं।

कोरोना से जंग: फोन करने पर 18 मिनट में पहुंचेगी एंबुलेंस, खुद निगरानी कर रहे केजरीवाल

देश में कोरोना का कहर
देशभर में कोरोना वायरस का कहर लगातार जारी है। भारत (India) में कोरोना से 29,73,368 लोग संक्रमित हो चुके हैं। वहीं इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 55,928 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। हालांकि राहत की बात ये है कि 22,20,799  इस वायरस को मात देकर ठीक हो चुके हैं। देश में कोरोना को मात देकर ठीक होने वालों की संख्या सक्रिय मामलों की संख्या से अधिक है। सक्रिय मामलों (Active Cases) की कुल संख्या 6,96,099 है।

कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरों को यहां पढ़ें...

comments

.
.
.
.
.