Wednesday, Dec 08, 2021
-->
drdo and aicte launches mtech in defense technology

डीआरडीओ और एआईसीटीई ने रक्षा प्रौद्योगिकी में शुरू किया एमटेक

  • Updated on 7/9/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (AICTE) द्वारा विभिन्न रक्षा प्रौद्योगिकी क्षेत्रों में आवश्यक सैद्धांतिक और प्रायोगिक ज्ञान, कौशल और योग्यता प्रदान करने के लिए रक्षा प्रौद्योगिकी में एक नियमित एम. टेक कार्यक्रम शुरू किया गया है।

दिल्ली: 10वीं-12वीं कक्षा में नॉन प्लान एडमिशन के लिए आवेदन शुरू

इंजीनियर रक्षा प्रौद्योगिकी में शुरू कर सकेंगे अपना करियर 
रक्षा अनुसंधान एवं विकास विभाग के सचिव और डीआरडीओ के अध्यक्ष डॉ. जी सतीश रेड्डी और एआईसीटीई के अध्यक्ष प्रो. अनिल डी सहस्त्रबुद्धे ने वीरवार को एक आभासी कार्यक्रम के दौरान इस कार्यक्रम का शुभारंभ किया। यह कार्यक्रम इच्छुक इंजीनियरों को रक्षा प्रौद्योगिकी में अपना करियर शुरू करने के लिए प्रेरित करेगा।

10वीं-12वीं का मूल्यांकन कर रहे स्कूलों का बोर्ड अधिकारी करेंगे औचक निरीक्षण

आईआईटी, एनआईटी, निजी विश्वविद्यालयों से किया जा सकेगा यह एमटेक 
यह एम टेक रक्षा प्रौद्योगिकी कार्यक्रम एआईसीटीई से संबद्ध संस्थानों/विश्वविद्यालयों, आईआईटी, एनआईटी या निजी इंजीनियरिंग संस्थानों में आयोजित किया जा सकता है। रक्षा वैज्ञानिक और प्रौद्योगिकीविद् संस्थान (आईडीएसटी) इस कार्यक्रम के संचालन के लिए संस्थानों को सहायता प्रदान करेगा, जिसे ऑनलाइन और ऑफ लाइन प्रारूपों में आयोजित किया जा सकता है।

JEE एडवांस्ड परीक्षा 2021 के लिए दिशा-निर्देश जारी

एयरो-नेवल टेक्नोलॉजी समेत 6 विषयों में उपलब्ध होगा यह एमटेक 
इस कार्यक्रम में छह विशेष विषय हैं कॉम्बैट टेक्नोलॉजी, एयरो टेक्नोलॉजी, नेवल टेक्नोलॉजी, कम्युनिकेशन सिस्टम्स एंड सेंसर्स, डायरेक्टेड एनर्जी टेक्नोलॉजी और हाई एनर्जी मैटेरियल टेक्नोलॉजी। छात्रों को डीआरडीओ प्रयोगशालाओं, रक्षा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों और उद्योगों में अपने मुख्य थीसिस कार्य को संचालित करने के अवसर भी प्रदान किए जाएंगे। यह कार्यक्रम रक्षा अनुसंधान और विनिर्माण क्षेत्र के विस्तार में अवसरों की मांग करने वाले छात्रों के लिए मददगार होगा।

comments

.
.
.
.
.