Thursday, Jun 17, 2021
-->
drdo installs 2 oxygen plants in delhi hospitals kmbsnt

दिल्ली के अस्पतालों 1 मिनट में बनेगी हजार लीटर ऑक्सीजन, लगे DRDO के बनाए प्लांट

  • Updated on 5/6/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली कोरोना के महासंकट के साथ ही ऑक्सीजन की भारी किल्लत से जूझ रही है। बिना ऑक्सीजन के कई मरीज यहां पर दम तोड़ चुके हैं। दिल्ली हाईकोर्ट समेत सुप्रीम कोर्ट भी ऑक्सीजन की किल्लत के चलते सरकार को फटकार लगा चुके हैं। इस बीच अच्छी खबर ये है कि डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) ने दिल्ली के दो बड़े अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाए हैं।

इन प्लांट्स को दो बड़े सरकारी अस्पतालों एम्स और आरएमअल अस्पताल में लगाया गया है। इन प्लांट्स को स्वदेशी तकनीक से ही बनाया गया है। ये एक मिनट में एक हजार लीटर ऑक्सीजन बनाने की क्षमता रखते हैं। ऐसे प्लांट से 24 घंटे में 47 लीटर के 197 ऑक्सीजन सिलेंडर 150 बार भरे जा सकते हैं। इस प्लांट को लगाने के लिए डीआरडीओ को एक सप्ताह का समय लगा। इनको एम्स और आरएमएल के मौजूदा ऑक्सीजन स्टोरेज से अटैच किया गया है। 

केजरीवाल सरकार ने CBSE से 10वीं क्लास के रिजल्ट तैयार करने के लिए और वक्त मांगा 

दिल्ली को 700 टन ऑक्सीजन देनी होगी- सुप्रीम कोर्ट
वहीं बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली को रोज 700 मेट्रिक टन ऑक्सीजन सप्लाई करने के आदेश पर कोताही के लिए केंद्र सरकार के अफसरों के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट की अवमानना की कार्यवाही पर रोक लगा दी है। साथ ही 1 दिन की मोहलत देते हुए केंद्र सरकार से कहा है कि वह गुरुवार को सुनवाई के दौरान अपनी योजना बताएं कि वह दिल्ली को 700 मेट्रिक टन ऑक्सीजन रोज कैसे सप्लाई करेगा।

केंद्र और दिल्ली सरकार के अधिकारियों को निर्देश
अवमानना कार्यवाही पर रोक लगाते हुए न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति अहमद शाह की पीठ ने स्पष्ट किया कि यह हाई कोर्ट को कोविड-19 प्रबंधन और उससे जुड़े मामलों की निगरानी से नहीं रोकती। शीर्ष अदालत ने मामले की तत्काल सुनवाई करते हुए निर्देश दिया कि केंद्र और दिल्ली सरकार के अधिकारी शाम को ही मिले और राष्ट्रीय राजधानी में ऑक्सीजन आपूर्ति के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा करें। 

ऑक्सीजन आवंटन के हिसाब से क्रायोजेनिक टैंकर भी दे केंद्र सरकार- AAP

AAP ने केंद्र से की क्रायोजेनिक टैंकर की मांग
वहीं आम आदमी पार्टी के विधायक राघव चड्ढा ने कहा है कि केंद्र सरकार ऑक्सीजन आवंटन के अनुसार ही क्रायोजेनिक टैंकर भी राज्यों उपलब्ध कराए। चड्ढा ने कहा है कि केंद्र सरकार ने जिस हिसाब से ऑक्सीजन का आवंटन किया है उसी हिसाब से क्रायोजेनिक टैंकर्स का भी आवंटन करे। हमारी मांग 976 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की है। इस पर 187 क्रायोजेनिक टैंकर्स की जरूरत पड़ेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.