Thursday, Jun 30, 2022
-->
due-to-rise-in-corona-cases-delhi-govt-increased-25-percent-beds-in-33-hospitals-kmbsnt

बढ़ते कोरोना के चलते दिल्ली सरकार ने 33 अस्पतालों में बढ़ाए 25 प्रतिशत ICU बेड्स

  • Updated on 4/1/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली में कोरोना (Corona in delhi) के बढ़ते खतरे के बीच दिल्ली सरकार ने सतर्कता और तेज कर दी है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आदेश पर दिल्ली के 33 अस्पतालों में कोरोना के आईसीयू और समान्य बेड में 25 प्रतिशत की बढ़ोतरी की गई है। स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendar Jain)  ने बुधवार को यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि इन 33 निजी अस्पतालों में कोविड के 842 समान्य बेड और आईसीयू के 230 बेड की वृद्धि की गई है। उन्होंने बताया कि अस्पतालों में आईसीयू बेड और समान्य बेड की सूची डेटा मैनेजमेंट पोर्टल पर भी अपडेट की जा रही है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि दिल्ली के अंदर अभी स्थिति समान्य है और सरकारी व निजी अस्पतालों में करीब 25 प्रतिशत बेड पर ही कोरोना मरीज भर्ती हैं।

कोरोना को रोकने के लिए आज से दिल्ली में प्रतिदिन होंगे 80 हजार टेस्ट- सत्येंद्र जैन

दिल्ली में कोरोना संक्रमण दर 2.7 प्रतिशत
उन्होंने कहा कि देश के कई राज्यों में कोरोना संक्रमण दर 10 प्रतिशत से अधिक है, जबकि दिल्ली में 2.7 प्रतिशत है। बता दें कि इससे पहले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में बढ़ते कोरोना के केस के मद्देनजर मंगलवार को चिंता जाहिर की थी, उन्होंने कहा था कि कुछ अस्पतालों में कोविड-19 के लिए समान्य और आईसीयू बेड की संख्या बढ़ाई जा रही है। इससे बेड की उपलब्धता बढ़ जाएगी। 

वहीं स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा  है कि आज से हम कोरोना जांच को बढ़ाकर प्रतिदिन 80 हजार कर देंगे। कल, सरकार ने कोरोना मरीजों के लिए निजी अस्पतालों में आईसीयू वार्डों में 220 बेड बढ़ाने का आदेश जारी किया है। इसके साथ ही जैन ने ये भी बताया है कि दिल्ली में वर्तमान में निजी और सरकारी अस्पतालों में सिर्फ 25% बेड भरे हुए हैं। 

दिल्ली: सफदरजंग अस्पताल के ICU में लगी आग, मरीजों को करना पड़ा दूसरे अस्पताल में शिफ्ट

युवाओं में ज्यादा फैल रहा संक्रमण- AIIMS निदेशक
वहीं एम्स के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया (Dr Randeep Guleria) का कहना है कि दिल्ली में कोरोना के जो मरीज मिल रहे हैं उनमें मुख्य रूप से अपेक्षाकृत मामूली लक्षणों वाले हैं। इनमें भी अधिकतर युवा आबादी में कोरोना के मामलू लक्षण मिल रहे हैं। 

हालांकि उन्होंने ये भी कहा है कि सभी को सतर्क रहने की जरूरत है, क्योंकि संक्रमण बुजुर्गों में फैल सकता है और साथ ही गंभीर लक्षणों को ट्रिगर कर सकता है। यदि ऐसा होता है तो एक बार फिर स्वास्थ्य देखभाल के संसाधनों को लेकि दिल्ली में चिंता बढ़ सकती है।

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.