Monday, Jan 21, 2019

ई-कॉमर्स पॉलिसी में बड़ा बदलाव, इन प्रोडक्ट पर नहीं मिलेगा कैशबैक

  • Updated on 1/9/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ई-कॉमर्स के क्षेत्र में तेजी से बढ़ रहे ग्रोसरी ब्रांड्स ने नई ई-कॉमर्स पॉलिसी के खिलाफ  झंडा उठा लिया है। इन कम्पनियों का कहना है कि नए नियमों के मुताबिक डीप डिस्काऊंटिंग और कैशबैक को रोक दिया जाएगा। इससे शहरी क्षेत्रों में तेजी से ई-कॉमर्स की वृद्धि पर बुरा असर पड़ेगा।

पारले के कैटेगरी हैड मयंक शाह ने कहा, ‘‘डीप डिस्काऊंटिंग और कैशबैक 2 ऐसे आकर्षक तरीके हैं जिनकी वजह से ग्राहक ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर आते हैं। 1 फरवरी से यह नहीं मिलेगा तो इसका बुरा प्रभाव भी देखने को मिलेगा। उन्होंने कहा कि अगर अमेजॉन और बिग बास्केट जैसे प्लेटफॉर्म भी सीधे कैशबैक की जगह मूवी टिकट या वाऊचर ऑफर करने लगें तो लोगों का आकर्षण कम हो जाएगा।

देश के बाजार में 2 प्रतिशत ई-कॉमर्स का योगदान है। 2016 में यह आंकड़ा केवल 0.4 प्रतिशत था। इंटरनैट इकोनॉमी में वृद्धि की वजह से उम्मीद है कि 2030 तक ई-कॉमर्स की यह हिस्सेदारी 11 प्रतिशत हो जाएगी। गोदरेज कंज्यूमर प्रोडक्ट बिजनैस के इंडिया हैड रॉबर्ड मेंजीज ने कहा कि इस नियम से तत्काल फर्क  पड़ेगा और ग्राहकों की रुचि कम होगी।
रिपोटर््स के मुताबिक विश्व स्तर पर पिछले 2 सालों में ऑनलाइन ग्रोसरी 15 प्रतिशत खरीदी जाती थी। एफ.एम.सी.जी. प्रोडक्ट में इसकी हिस्सेदारी 70 अरब डॉलर की है। नीलसन की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 2 सालों में भारत में ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर एफ.एम.सी.जी. की बिक्री तिगुनी हो गई है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.