Saturday, Jul 20, 2019

आर्थिक स्थिति बदतर : आखिर पाकिस्तान का बनेगा क्या

  • Updated on 7/5/2019

भारत (India) और पाकिस्तान (Pakistan) के आर्थिक (Economic) मापदंडों में भारी असमानता है। जैसे सकल घरेलू उत्पाद, प्रति व्यक्ति आय, कर संग्रह (Tax collection), कर पारदॢशता, आयात-निर्यात, व्यापार और क्रय-शक्ति आदि में भारत पाकिस्तान से कहीं आगे है। गिरावट के बावजूद भारत की विकास दर 6.8 प्रतिशत रही है।

गत दिनों खबर आई कि पाकिस्तानी मुद्रा (करंसी) अपने सबसे निचले स्तर पर गिरकर एक अमरीकी डॉलर 164.50 रुपए पर पहुंच गई। प्रति 12 ग्राम सोना भी वहां 80,500 रुपए को पार कर गया। ये आकंड़े इसलिए अचंभित करते हैं क्योंकि भारतीय मुद्राका मूल्य अभी प्रति एक डॉलर 70 रुपए, तो प्रति 10 ग्राम सोना 35,000 रुपए है। बात यहां तक सीमित होती तो समझा जा सकता था, किंतु जिस प्रकार पिछले दिनों पाकिस्तानी मीडिया (विशेषकर टी.वी. मीडिया) रिपोर्ट सामने आई, जिसमें प्रतिदिन उपयोग होने वाली खाद्य वस्तुओं जैसे चीनी आदि के लिए लोग कतारों में लगे हुए नजर आए, उसने पाकिस्तान की वास्तविक स्थिति को विश्व के सामने लाकर रख दिया है। वहां बाजारों में टमाटर 120 रुपए किलो, दूध 120 प्रति लीटर, अंडे 120 रुपए प्रति दर्जन के भाव से बिक रहे हैं, जबकि भारत में इन वस्तुओं की कीमत क्रमश: औसतन 40, 44 तथा 60 रुपए है।

Navodayatimes

इस स्थिति के प्रतिकूल पाकिस्तान में सरकार और उसके अर्थशास्त्रियों द्वारा दावा किया जा रहा है कि लाखों करोड़ों डॉलर के कर्ज में डूबे होने के बाद भी उसकी आॢथक वृद्धि दर 3.3 प्रतिशत है, जो निर्धारित वाॢषक लक्ष्य 6.2 प्रतिशत से लगभग आधा कम है। क्या पाकिस्तान में अनियंत्रित महंगाई के बीच इस आंकड़े पर विश्वास किया जा सकता है? क्या यह सत्य नहीं कि किसी भी देश की विकास दर पर उसकी जनसंख्या वृद्धि दर प्रभाव डालती है?

जनसंख्या वृद्धि और विकास दर
पाकिस्तान में जनसंख्या वृद्धि दर प्रतिवर्ष 2.4 प्रतिशत रही है। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के अनुसार, जिस गति से पाकिस्तान में लोगों की संख्या बढ़ रही है, उस हिसाब से वर्ष 2050 तक इस इस्लामी देश की आबादी 21 करोड़ की लगभग दोगुनी अर्थात 40.3 करोड़ हो जाएगी। अब यदि पाकिस्तान की वर्तमान विकास दर 3.3 प्रतिशत और जनसंख्या वृद्धि दर 2.4 प्रतिशत है, तो स्पष्ट है कि पाकिस्तान की आय में कोई बढ़ौतरी नहीं हो रही है अर्थात उसकी वास्तविक विकास दर 3.3 प्रतिशत से काफी कम है। अब यदि इसमें महंगाई दर को जोड़ लें, जोकि अभी 13 प्रतिशत से अधिक है तो उस परिप्रेक्ष्य में पाकिस्तान की स्थिति और भी रसातल में नजर आती है। इसका अर्थ है कि वहां गरीबी बढऩे के साथ बेरोजगारी भी चरम सीमा पर पहुंच चुकी है।

Navodayatimes

भारत और पाकिस्तान की स्थिति की तुलना की जाए, तो आॢथक मापदंडों में भारी असमानता नजर आती है। जैसे सकल घरेलू उत्पाद, प्रति व्यक्ति आय, कर संग्रह, कर पारदॢशता, आयात-निर्यात, व्यापार और क्रय-शक्ति आदि में भारत पाकिस्तान से कहीं आगे है। यह स्थिति तब है, जब वित्त वर्ष 2018-19 की अंतिम तिमाही में गिरावट के बावजूद भारत की विकास दर 6.8 प्रतिशत रही है।

भारत के अतिरिक्त, कुछ मामलों में अफगानिस्तान (Afganistan), बंगलादेश और नेपाल (Nepal) की स्थिति भी पाकिस्तान से स्थिर बनी हुई है। जहां एक डॉलर (Doller) की कीमत 164 पाकिस्तानी रुपए (Pakistani rupee) है, तो अफगानिस्तानी मुद्रा 79, बंगलादेशी टका 84 और नेपाली रुपया 112 है। यदि इस कसौटी पर भारत से पाकिस्तानी रुपए की तुलना की जाए, तो पाकिस्तानी एक रुपए की कीमत भारतीय मुद्रा में अठन्नी भी नहीं रह गई है। वर्तमान में पाकिस्तानी एक रुपए का मूल्य भारत में 42 पैसे है।

Navodayatimes

जहां भारत इसी माह (14 जुलाई) चंद्रयान-2 मिशन को सफल बनाने की कोशिश करेगा, वहीं पाकिस्तान अपना देश चलाने के लिए वैश्विक मौद्रिक संस्थाओं सहित शेष विश्व के समक्ष हाथ फैलाए खड़ा दिखाई देगा। गत वर्ष जब सेना की अनुकम्पा से पूर्व क्रिकेटर इमरान खान के नेतृत्व में पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पी.टी.आई.) की सरकार निर्वाचित हुई, तब वहां के विमर्श में ‘नए पाकिस्तान’ का नारा बड़े जोर-शोर के साथ बुलंद किया गया। अपने देश की कंगाल आॢथकी में रफ्तार भरने के लिए इमरान ने पहले फिजूलखर्ची रोकने के ढेरों उपाय किए, प्रधानमंत्री आवास में खड़ी कई महंगी गाडिय़ों को बेचा, यहां तक कि उन्होंने भैंसों की नीलामी तक कर डाली थी।

क्या अकेले इमरान जिम्मेदार
आखिर पाकिस्तान को इस स्थिति में किसने पहुंचाया? क्या इसके लिए केवल अकेले इमरान खान की नीतियों को कटघरे में खड़ा करना उचित है, जो अंतर्राष्ट्रीय बैठकों में आवश्यक शिष्टाचार की अवहेलना, अपने खराब आचरण और अनैतिक स्वभाव के कारण अक्सर विवादों में रहते हैं? इस इस्लामी देश का कर्ज बीते एक दशक में 6,000 अरब से बढ़कर 30,000 अरब पाकिस्तानी रुपए पर पहुंच गया है। कर्ज चुकाने के लिए उच्च ब्याज दर पर कर्ज लेना पड़ रहा है। अभी पाकिस्तान को विश्व बैंक से 722 मिलियन डॉलर का ऋण स्वीकृत हुआ है।
पाकिस्तान की स्थिति कितनी विकराल है, इसका अंदाजा प्रधानमंत्री इमरान खान के राष्ट्र के नाम उस संबोधन से हो जाता है, जो उन्होंने 11-12 जून की आधी रात को दिया था। बकौल इमरान खान, ‘हमारे पास कर्ज की किस्त चुकाने के लिए डॉलर नहीं बचे हैं। पाकिस्तान पर दिवालिया होने का खतरा है। पाकिस्तान में कर संग्रह से वाॢषक 4 हजार अरब रुपए सरकारी खजाने में आते हैं। आधी रकम सिर्फ कर्ज की किस्त भरने में जा रही है और शेष से देश का खर्चा नहीं चलाया जा सकता।’

पाकिस्तान को इस स्थिति में पहुंचाने में उसके उसी वैचारिक अधिष्ठान ने मुख्य भूमिका निभाई है, जिसने भारत और ङ्क्षहदू विरोध के नाम पर इस इस्लामी देश के जन्म का मार्ग प्रशस्त किया था। यूं तो पाकिस्तान का एक बड़ा कालखंड सैन्य तानाशाही में गुजरा है, किंतु यह किसी से छिपा भी नहीं है कि पाकिस्तान में निर्वाचित सरकार भी सैन्य अधिष्ठान और इस्लामी कट्टरपंथियों की कठपुतली ही होती है। भारी आॢथक तंगी के बीच पाकिस्तान के हालिया रक्षा बजट में 4.5 प्रतिशत की बढ़ौतरी-इसकी ताॢकक परिणति है।

भारत-हिन्दू विरोधी मानसिकता
अपनी भारत-हिन्दू विरोधी वैचारिक पृष्ठभूमि में पाकिस्तान ने निवेश के अनुकूल वातावरण बनाने और औद्योगिक इकाइयां स्थापित करने से अधिक आतंकवादी शिविरों की संख्या बढ़ाने को प्राथमिकता दी है। एक आंकड़े के अनुसार, पाकिस्तान में कुल निवेशकों (विदेशी सहित) की संख्या 2.32 लाख है, अर्थात कुल जनसंख्या का मात्र 0.1 प्रतिशत। वहीं 1971 से पहले पाकिस्तान का हिस्सा रहे बंगलादेश में आज निवेशकों की संख्या 28 लाख है, यानि अर्थात कुल आबादी का 1.65 हिस्सा।

आतंकवाद को अपनी राष्ट्रीय नीति का अंग बनाने और दुनियाभर में भारत की कूटनीति के कारण पाकिस्तान अलग-थलग पड़ चुका है। पाकिस्तान के विख्यात अर्थशास्त्रियों में से एक डॉक्टर कैसर बंगाली कहते हैं, ‘आज पाकिस्तानी अर्थव्यवस्था ढहने की कगार पर पहुंच चुकी है। जैसा अमरीका ने सोवियत संघ के साथ किया था, वैसे ही भारत पाकिस्तानी अर्थव्यवस्था के साथ कर सकता है।’ गत दिनों ही अंतर्राष्ट्रीय एजैंसी फाइनैंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफ.ए.टी.एफ.) ने आतंकवादी समूहों के वित्तपोषण को रोकने में विफल पाकिस्तान को ग्रे सूची में डाल दिया था। 
आज स्थिति यह है कि विश्व की आॢथक महाशक्तियों में से केवल चीन ही पाकिस्तान का मित्र देश बना हुआ है, जिसे संयुक्त भारत विरोधी मानसिकता से ऊर्जा प्राप्त होती रहती है। वास्तव में, पाकिस्तान की साम्राज्यवादी चीन से मित्रता ने भी इस इस्लामी देश की स्थिति को कैंसर के फोड़े जैसा बना दिया है। हाल के दिनों में पाकिस्तान द्वारा कर्ज लेने का मूल उद्देश्य, उस पर बढ़ते वामपंथी चीन के ऋण को उतारना ही है।

एक दिलचस्प तथ्य है कि पाकिस्तान के जन्म के लिए इस्लामी कट्टरवादियों (मुस्लिम लीग) को ब्रितानियों के साथ जिस वामपंथी बौद्धिकता और उसकी जहरीली विचारधारा का सहयोग मिला था, 72 वर्ष बाद उस देश में वैसी ही स्थिति उत्पन्न हो गई है, जिसका विषाक्त दंश खंडित भारत (1947 के बाद) ने शुरूआती 40 वर्षों में वामपंथ के गर्भ से जनित समाजवाद के रूप में झेला था। क्या यह सत्य नहीं कि 1970 के दौर में भारत में भी चीनी, दूध, सीमैंट आदि के लिए जनता को पंक्तियों में लगना पड़ता था? यहां तक कि बाद में देश चलाने के लिए भारत की तत्कालीन सरकार को अपना स्वर्ण भंडार विदेशों में गिरवी रखना पड़ा था। किंतु 1991 के आॢथक सुधारों के बाद देश की स्थिति बदली और 2016-17 में सुदृढ़ आॢथक नीतियों के कारण भारत फ्रांस को पछाड़कर छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था (जी.डी.पी. आकार)और विश्व की उभरती आॢथक शक्ति बन गया है।

क्या पाकिस्तान की आॢथक स्थिति सुधर सकती है? यह इस बात पर निर्भर करता है कि वह कब अपने वैचारिक अधिष्ठान का परित्याग करता है। क्या ऐसा होगा? इसकी संभावना बहुत कम है। फिर भी यदि ऐसा होता है, तो क्या पाकिस्तान का इस विश्व में बने रहने का कोई कारण रहेगा? 

                                                                                                                                             बलबीर पुंज
                                                                                                                         punjbalbir@gmail.com               

                                                                                                                                   

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.