Wednesday, Oct 05, 2022
-->
ed arrests former nse chief chitra ramakrishna, gets four-day custody

ED ने NSE की पूर्व प्रमुख चित्रा रामकृष्ण को किया गिरफ्तार, चार दिन की हिरासत मिली

  • Updated on 7/14/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) की पूर्व प्रबंध निदेशक चित्रा रामकृष्ण को गैरकानूनी तरीके से फोन टैपिंग और एक्सचेंज के कर्मचारियों की जासूसी से जुड़े धनशोधन मामले में बृहस्पतिवार को गिरफ्तार कर लिया। दिल्ली की एक अदालत की मंजूरी मिलने के बाद ईडी ने रामकृष्ण को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया। विशेष न्यायाधीश सुनैना शर्मा ने ईडी को चार दिनों तक रामकृष्णन से हिरासत में पूछताछ करने की अनुमति दे दी।

रसातल में जा रहे रुपये को बचाने के लिए भाजपा सांसद वरुण गांधी ने RBI से लगाई गुहार

न्यायाधीश ने कहा, ‘‘ईडी के पास धनशोधन के आरोपों की जांच आगे बढ़ाने और गहरी साजिश का पता लगाने को लेकर आरोपियों से हिरासत में पूछताछ करने के लिए पर्याप्त आधार हैं। इसी आधार पर आरोपियों को 18 जुलाई तक ईडी की हिरासत में भेजा गया है।’’एनएसई की पूर्व प्रबंध निदेशक को न्यायाधीश के एक पुराने आदेश पर तिहाड़ जेल से अदालत में पेशी पर लाया गया था। न्यायाधीश ने ईडी की एक याचिका पर रामकृष्ण के खिलाफ ‘पेशी वॉरंट’ जारी किया था।

अब हाथरस की कोर्ट ने ‘ऑल्ट न्यूज’ के सह-संस्थापक जुबैर को न्यायिक हिरासत में भेजा

रामकृष्ण को अदालत में पेश किए जाने के बाद ईडी ने न्यायालय से पूछताछ के लिए इजाजत मांगी। बाद में जांच एजेंसी ने सहयोग नहीं करने पर रामकृष्ण को गिरफ्तार कर लिया और उन्हें अदालत में पेश कर पूछताछ के लिए नौ दिन की हिरासत मांगी। लेकिन अदालत ने एजेंसी को चार दिनों के लिए ही रामकृष्ण को हिरासत में सौंपा। उन्हें केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने एक अलग मामले में गिरफ्तार किया हुआ था और वह न्यायिक हिरासत में जेल में बंद चल रही थीं। 

सुप्रीम कोर्ट ने कई राज्यों में जारी तोड़फोड़ अभियान के खिलाफ अंतरिम आदेश देने से किया इनकार

फोन टैपिंग मामले में रामकृष्ण की हिरासत की मांग करते हुए ईडी के विशेष लोक अभियोजक एन के मट्टा ने अदालत से कहा कि हिरासत में पूछताछ के लिए उनकी जरूरत है। उन्होंने कहा कि एनएसई की पूर्व मुखिया असल में अपराध की आय से जुड़ी सभी प्रक्रियाओं या गतिविधियों में शामिल थीं और इसमें जानकारी को छुपाना भी शामिल था। ईडी का कहना है कि रामकृष्ण की हिरासत में पूछताछ से ईडी को मामले से जुड़ी जानकारी जुटाने और प्रभावी जांच के तौर-तरीकों की पहचान करने में मदद मिलेगी।       

पटना SSP ने PFI की तुलना RSS से की, BJP ने उठाए सवाल

  •  


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.