Wednesday, Jun 29, 2022
-->
ed arrests jharkhand''''''''s mining secretary pooja singhal in money laundering case rkdsnt

झारखंड की खनन सचिव पूजा सिंघल को ED ने धनशोधन मामले में किया गिरफ्तार

  • Updated on 5/11/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। झारखंड की खनन सचिव पूजा सिंघल को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने खूंटी में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) निधि के कथित गबन और अन्य संदिग्ध वित्तीय लेन देन के मामले में बुधवार को गिरफ्तार कर लिया गया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) की 2000-बैच की अधिकारी को धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) की प्रासंगिक धाराओं के तहत ईडी ने लगातार दो दिन की पूछताछ के बाद हिरासत में लिया। सूत्रों ने दावा किया कि सिंघल जवाब देने में च्च्टालमटोल’’ कर रही थीं जिसके चलते उन्हें गिरफ्तार किया गया।

AAP नेता संजय सिंह बोले- भाजपा ने आवाज दबाने के लिए इस्तेमाल किया राजद्रोह कानून का

  •  

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) सिंघल को चिकित्सा जांच के लिए ले गया और उम्मीद है कि उन्हें यहां की एक अदालत में पेश कर रिमांड की मांग की जाएगी। अधिकारी दूसरे दिन पूछताछ के लिये पूर्वाह्न करीब 10 बजकर 40 मिनट पर रांची के हिनू इलाके में एजेंसी के क्षेत्रीय कार्यालय पहुंचीं थीं और शाम करीब पांच बजे उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।  इससे पहले मंगलवार को भी सिंघल करीब नौ घंटे तक ईडी दफ्तर में थीं जहां उनका बयान दर्ज किया गया था। सूत्रों ने कहा कि कम से कम तीन मौकों पर उनके कारोबारी पति अभिषेक झा का बयान भी मामले में दर्ज किया गया है। गिरफ्तारी पर झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि राज्य सरकार च्च्इस विषय में जो भी कानूनी कार्रवाई करनी होगी, वह शुरू करेगी’’।     

कर्ज में डूबी रिलायंस कैपिटल के लिए बढ़ाई गई समाधान योजना जमा करने की समयसीमा

    उन्होंने कहा कि कथित अनियमितताएं 'भाजपा के कार्यकाल के दौरान हुईं और इसकी जांच होनी चाहिए।’’ उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकाल में ही 2017 में उन्हें ‘क्लीन चिट’ दी गई थी। उन्हें क्लीन चिट देने वालों की जांच होनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा, च्च्आप (भाजपा) उनसे गलत काम करवाते हैं और आप ही उन्हें क्लीन चिट देते हैं।’’ कथित तौर पर दंपत्ति से जुड़े चार्टर्ड अकाउंटेंट व वित्तीय सलाहकार सुमन कुमार के बाद यह इस मामले में हुई दूसरी गिरफ्तारी है। कुमार को ईडी ने सात मई को गिरफ्तार किया था। इससे एक दिन पहले उनके परिसरों और विभिन्न राज्यों में अन्य जगहों पर केंद्रीय एजेंसी ने छापेमारी की थी।   

ज्ञानवापी परिसर सर्वे प्रकरण : बृहस्पतिवार 12 बजे के बाद फैसला सुनाएगी कोर्ट

   सिंघल और अन्य के खिलाफ ईडी की जांच धन शोधन के उस मामले से संबंधित है जिसमें झारखंड सरकार में पूर्व कनिष्ठ अभियंता राम बिनोद प्रसाद सिन्हा को एजेंसी ने 17 जून, 2020 को पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार किया था। एजेंसी ने सिन्हा को 2012 में पीएमएलए के तहत दर्ज राज्य सतर्कता ब्यूरो की प्राथमिकी का अध्ययन करने के बाद गिरफ्तार किया था। सिन्हा के खिलाफ जनता के धन की हेराफेरी करने के आरोप में धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार से संबंधित भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की आपराधिक धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था। सिन्हा ने इस धन को एक अप्रैल 2008 से 21 मार्च 2011 तक कनिष्ठ अभियंता के रूप में काम करते हुए अपने तथा अपने परिवार के अन्य सदस्यों के नाम पर निवेश किया था।  

न्यायालय ने राजद्रोह कानून पर रोक लगाई, मंत्री रीजीजू ने याद दिलाई ‘लक्ष्मण रेखा’

       एजेंसी ने पहले कहा था कि उक्त धन को खूंटी जिले में मनरेगा के तहत सरकारी परियोजनाओं के निष्पादन के लिए रखा गया था। सिन्हा ने ईडी से कहा, ‘‘उन्होंने जिला प्रशासन को पांच प्रतिशत कमीशन (धोखाधड़ी किए गए धन में से) का भुगतान किया।’’  ईडी ने आरोप लगाया कि सिंघल के खिलाफ उस अवधि में ‘‘अनियमितताएं करने’’ के आरोप लगाए गए हैं जब उन्होंने 2007 और 2013 के बीच चतरा, खूंटी और पलामू के उपायुक्त/जिला मजिस्ट्रेट के रूप में कार्य किया था।      एजेंसी ने इस मामले में कुमार को सात मई को उसके परिसर से 17 करोड़ रुपये से अधिक नकदी जब्त करने के बाद गिरफ्तार किया था। अधिकारियों ने कहा कि सभी ठिकानों से कुल 19.31 करोड़ रुपये की बरामदगी की गई थी।  

भाजपा की स्थिति ‘चोर मचाये शोर’ की है : मुख्यमंत्री
झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आज करोड़ों रुपये के भ्रष्टाचार के मामले में खनन सचिव वरिष्ठ प्राशासनिक अधिकारी पूजा सिंघल की गिरफ्तारी के बाद अपनी पहली प्रतिक्रिया में केन्द्र सरकार पर हमलावर अंदाज में दो टूक कहा, ‘‘चोर मचाये शोर।’’   मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आज शाम यहां मीडिया से बातचीत में कहा, ‘‘भाजपा और केन्द्र सरकार की स्थिति ऐसी है जिसे हमारे यहां कहा जाता है, ‘‘चोर मचाये शोर।’’     मुख्यमंत्री और राज्य का खान मंत्री रहते अपने नाम स्वयं रांची में खनन पट्टा आवंटित करवाने के चलते ‘लाभ के पद’ मामले में चुनाव आयोग की नोटिस का सामना कर रहे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बड़े तल्ख स्वर में कहा, ‘‘राज्य की पिछली सरकारों के समय के भ्रष्टाचार के मामलों में ऐसा शोर मचाया जा रहा है जैसे यह उनके कार्यकाल से जुड़ा हो। वास्तव में इसे कहा जाता है, ‘चोर मचाये शोर’।’’

मोहाली हमले में इस्तेमाल किया गया लॉंचर बरामद हुआ : पंजाब पुलिस 

  हेमंत सोरेन ने पूजा सिंघल की गिरफ्तारी के बारे में पूछे जाने पर अपनी पूर्ववर्ती रघुवर दास की सरकार पर हमला बोलते हुए कहा, ‘‘पिछली सरकारों में जिन लोगों को क्लीनचिट दी गयी आज उन्हीं के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगाये जा रहे हैं और उन्हें गिरफ्तार किया जा रहा है।’’  सोरेन ने कहा, ‘‘पिछली सरकारों ने ऐसे अधिकारियों और उनके भ्रष्टाचार पर नजर रखी होती और कार्रवाई की होती तो आज ऐसे हालात नहीं होते। राज्य में इस तरह गरीबी की स्थिति नहीं होती।’’   इससे पूर्व आज शाम लगभग पांच बजे भारतीय प्राशासनिक सेवा (आईएएस) की 2000 बैच की अधिकारी पूजा सिंघल को तीन दिनों की लंबी पूछताछ के बाद प्रवर्तन निदेशालय ने गिरफ्तार कर लिया। उन पर जिस मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने कार्रवाई की है वह खूंटी जिले में उपायुक्त के रूप में कार्यकाल के दौरान मनरेगा में किये गये कथित भ्रष्टाचार से जुड़ा है।

 

 Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.