Monday, Nov 28, 2022
-->
ed-arrests-liquor-baron-sameer-mahendru-in-delhi-excise-policy-case

दिल्ली आबकारी नीति मामले में ED ने शराब कारोबारी समीर महेन्द्रू को गिरफ्तार किया 

  • Updated on 9/28/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दिल्ली आबकारी नीति के क्रियान्वयन में कथित अनियमितताओं से जुड़े धन शोधन के मामले में शराब कारोबारी समीर महेन्द्रू को बुधवार सुबह गिरफ्तार किया। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। महेन्द्रू इंडोस्पिरिट्स नाम कंपनी के प्रबंध निदेशक हैं। सूत्रों ने कहा कि रात भर चली पूछताछ के बाद महेन्द्रू को धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमलए) के आपराधिक प्रावधानों के तहत हिरासत में लिया गया। आरोपी को एक स्थानीय अदालत में पेश किया जा सकता है जहां ईडी उसकी रिमांड का अनुरोध कर सकती है। इस मामले की जांच सीबीआई भी कर रही है जिसने इससे पहले महेन्द्रू से पूछताछ की थी।   

मुकुल रोहतगी ने ठुकराया अगले अटॉर्नी जनरल पद के लिए मोदी सरकार का प्रस्ताव 

    इस मामले में एक दिन पहले केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने व्यवसायी विजय नायर को गिरफ्तार किया था। दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी (अब खत्म कर दी गई) शराब नीति के क्रियान्वयन में कथित अनियमितताओं के मामले में आरोपी हैं। सीबीआई द्वारा प्राथमिकी के आधार पर ईडी ने धन शोधन का मामला दर्ज किया है और अब तक दोनों एजेंसियों ने इस मामले में कई तलाशी अभियान चलाये हैं।    

उच्च न्यायालय ने ‘AAP’ और इसके नेताओं को LG सक्सेना पर झूठे आरोप लगाने से रोका

  सीबीआई ने अपनी प्राथमिकी में दो ऐसे मौकों का उल्लेख किया है जब महेन्द्रू ने सिसोदिया के च्च्करीबियों’’ को कथित तौर पर कुल चार से पांच करोड़ रुपये का भुगतान किया। प्राथमिकी के अनुसार, सिसोदिया के च्च्करीबियों’’- गुरुग्राम स्थित बडी रिटेल प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक अमित अरोड़ा, दिनेश अरोड़ा और अर्जुन पांडेय शराब के लाइसेंस से प्राप्त लाभ को आरोपी लोक सेवकों तक पहुंचाने में लिप्त थे।  सीबीआई का आरोप है कि अरोड़ा के प्रबंधन वाली कंपनी राधा इंडस्ट्रीज ने महेन्द्रू से एक करोड़ रुपये लिए थे। एजेंसी ने दावा किया है कि सूत्रों ने खुलासा किया कि अरुण रामचंद्र पिल्लै समीर महेन्द्रू से अनुचित तरीके से पैसों का लाभ लेकर विजय नायर के जरिये उसे आरोपी लोकसेवकों तक पहुंचाता था।    

विजयवर्गीय, अन्य के खिलाफ अभियोजन स्वीकृति पर फैसला करें मुख्य सचिव: कोर्ट

  एजेंसी ने कहा कि अर्जुन पांडेय नामक व्यक्ति ने एक बार विजय नायर की ओर से समीर महेन्द्रू से दो से चार करोड़ रुपये लिए। ईडी इसकी जांच कर रही है कि कथित अनियमितताएं आबकारी नीति के क्रियान्वयन के तहत की गई थीं या नहीं।       इस मामले में एजेंसी ने आम आदमी पार्टी के विधायक दुर्गेश पाठक और तिहाड़ जेल में बंद मंत्री सत्येंद्र जैन से भी पूछताछ की है।  

केरल में दंगे के षड्यंत्र में RSS सबसे आगे, केंद्र अपनी वित्तीय देनदारियों का खुलासा करे : माकपा


 

comments

.
.
.
.
.