Sunday, Apr 18, 2021
-->
ed raids news portal newsclick on charges of money laundering prashant bhushan angry rkdsnt

ED ने की न्यूज पोर्टल ‘न्यूजक्लिक’ के परिसरों पर छापेमारी, प्रशांत भूषण ने उठाए सवाल

  • Updated on 2/9/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने धनशोधन के आरोपों में एक न्यूज पोर्टल और उसके प्रवर्तकों के परिसरों पर मंगलवार को छापेमारी की। आधिकारिक सूत्रों ने इस बारे में बताया। उन्होंने बताया कि सैदुलाजाब और कुछ अन्य स्थानों पर वेबसाइट ‘न्यूजक्लिक’ और उसके प्रवर्तकों के परिसरों की तलाशी ली जा रही है। 

सरकारी बैंकों के निजीकरण के खिलाफ श्रमिक संगठनों ने किया हड़ताल का ऐलान

किसान आंदोलन के बीच प्रियंका गांधी सहारनपुर से करेंगी कांग्रेस के अभियान की शुरुआत 

सूत्रों के मुताबिक समाचार कंपनी और उसके प्रवर्तकों के खिलाफ धन शोधन के आरोपों की जांच के लिए अतिरिक्त सूचना जुटाने के मकसद से यह कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि कुछ संदिग्ध विदेशी कोष की जांच से जुड़ा यह मामला है। उधर, वरिष्ठ वकील और सामाजिक कार्यकर्ता प्रशांत भूषण ने ईडी की इस कार्रवाई पर सवाल उठाए हैं।

मुनव्वर फारूकी के समर्थन में उतरे भारतीय-अमेरिकी हास्य कलाकार

‘न्यूजलॉन्ड्री’ के खिलाफ कोर्ट करेगी सुनवाई 
बंबई हाई कोर्ट ने ‘न्यूजलॉन्ड्री’ वेबसाइट के खिलाफ न्यूज चैनल ‘टाइम्स नाउ’ की मानहानि याचिका पर 22 फरवरी को सुनवाई निर्धारित की है। ‘टाइम्स नाउ’ ने याचिका में आरोप लगाया है कि ‘न्यूजलॉन्ड्री’ वेबसाइट पर चैनल को कथित तौर पर बदनाम करने वाले कार्यक्रम प्रसारित किए गए। इसके बाद जांच एजेंसियां भी सक्रिय हो गई हैं। 

कांग्रेस का आरोप- मोदी सरकार ने किसानों के खिलाफ जंग छेड़ देश की इमेज बिगाड़ी 

बता दें कि न्यूज चैनल टाइम्स नाउ ने अपनी मूल कंपनी बेनेट, कोलमैन एंड कंपनी लिमिटेड (बीसीसीएल) के जरिए दिसंबर 2020 में ‘न्यूजलॉन्ड्री’ मीडिया प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ दाखिल याचिका में मानहानि, मानसिक यातना और प्रताडऩा के कारण 100 करोड़ रुपये हर्जाने की मांग की है। 

उत्तराखंड आपदा में यूपी के 34 लोग लापता, लखीमपुर खीरी में पसरा मातम

याचिका में ‘न्यूजलॉन्ड्री’ को अक्टूबर और नवंबर 2020 में प्रसारित दो कार्यक्रमों को भी हटाने के लिए निर्देश देने का अनुरोध किया गया है, जिसमें याचिकाकर्ता (टाइम्स नाउ) की प्रतिष्ठा को कथित तौर पर नुकसान पहुंचाने का प्रयास किया गया। बीसीसीएल के वकील विजय हीरेमथ ने सोमवार को जस्टिस ए के मेनन की एकल पीठ के सामने दावा किया कि कार्यक्रम के ‘‘संचालक ने फर्जी, बेबुनियाद और मानहानिकारक’ टिप्पणी की। 

मोदी सरकार ने दिल्ली में अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने से जुड़ा बिल RS में किया पेश

‘न्यूजलॉन्ड्री’ ने याचिका के जवाब में दाखिल एक हलफनामे में कहा कि उसने कभी किसी मीडिया घराने को बदनाम करने का प्रयास नहीं किया और उसने बस यह टिप्पणी की थी कि तथ्यों के स्थान पर मीडिया संस्थान टीआरपी पर ध्यान दे रहे हैं। जस्टिस मेनन ने मामले की सुनवाई 22 फरवरी के लिए सूचीबद्ध की है।     

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.