Tuesday, Sep 27, 2022
-->
election-commission-cleared-situation-over-vvpat-evm-machines-after-aap-allegation

AAP के आरोपों के बाद हरकत में आया चुनाव आयोग, VVPAT पर दी सफाई

  • Updated on 7/25/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। वीवीपेट युक्त ईवीएम की आपूर्ति में देरी को लेकर जिस तरह से आज आम आदमी पार्टी ने चुनाव आयोग और मोदी सरकार पर निशाना साधा, उसके बाद आयोग भी हकरत में आ गया है। अब उनसे अपनी सफाई में कहा है कि इस साल नवंबर तक निर्माणाधीन 16.15 लाख वीवीपेट युक्त मशीनों की आपूर्ति हो जाएंगी। 

लोकपाल सर्च कमेटी में प्रख्यात हस्तियां लाने पर विचार कर रही है मोदी सरकार

चुनाव आयोग ने मशीनों की अब तक महज 22 फीसदी आपूर्ति ही हो पाने संबंधी मीडिया रिपोर्ट पर स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि इन मशीनों की आपूर्ति इस साल 30 सितंबर तक हो जानी थी, लेकिन आयोग के तकनीकी विशेषज्ञों की समिति के सुझाव पर मशीनों में कुछ जरूरी सुधार शामिल किए जाने की वजह से इसमें थोड़ी देरी होगी। 

शिवसेना बोली- भाजपा में CM फडणवीस को बदलने की हो रही है चर्चा

आयोग ने इसके बावजूद नवंबर 2018 में चुनाव पूर्व तैयारियों को पूरा करने की समय-सीमा पूरी होने के पहले इन मशीनों की आपूर्ति कर दिए जाने का भरोसा व्यक्त किया। आयोग द्वारा जारी आधिकारिक बयान के मुताबिक सार्वजनिक क्षेत्र की बेंगलुरु स्थित कंपनी भारत इलेक्ट्रॉनिक लिमिटेड (बीईएल) और हैदराबाद स्थित इलैक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (ईसीआईएल) को मई 2017 में 16.15 लाख मशीनें बनाने की जिम्मेदारी दी थी।

AAP ने VVPAT मशीनों को लेकर चुनाव आयोग, BJP सरकार पर साधा निशाना

इनमें से 5.88 लाख मशीनों (बीईएल 4.36 लाख, ईसीआईएल 1.52 लाख) की आपूर्ति अब तक कर दी गई है। यह कुल आपूर्ति का 36 फीसदी है। आयोग ने साफ किया कि मीडिया रिपोर्ट 19 जून की आरटीआई के जवाब पर बेस्ड है। आयोग ने कहा कि दोनों कंपनियों ने बाकी 10.27 लाख मशीनों का निर्माण और सभी राज्यों को इनकी आपूर्ति इस साल नवंबर से पहले करने के लिए आश्वस्त किया है।

मुजफ्फरपुर यौन शोषण कांड: तेजस्वी ने नीतीश पर की सवालों की बौछार

इसके आधार पर आयोग ने भविष्य में आम चुनाव के अलावा लोकसभा और विधानसभाओं के उपचुनाव शतप्रतिशत वीवीपेट युक्त ईवीएम से कराने की प्रतिबद्धता व्यक्त की। बता दें कि आम आदमी पार्टी ने वीवीपेट युक्त ईवीएम की कमी के साथ मतपत्रों से चुनाव कराने की भी मांग की है। 

राफेल मुद्दे पर PM मोदी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन के नोटिस विचाराधीन

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.