Wednesday, Aug 17, 2022
-->
election-commission-clears-criminal-cases-ads-cost-also-in-candidates-election-expenses

आपराधिक मामलों के विज्ञापनों का खर्च उम्मीदवारों के चुनाव खर्च का ही हिस्सा

  • Updated on 4/25/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चुनाव आयोग ने स्पष्ट किया है कि उम्मीदवारों के खिलाफ लंबित आपराधिक मामलों की जानकारी मतदाताओं को देने के लिये  प्रिंट्स और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में दिये जाने वाले विज्ञापन का खर्च उम्मीदवार के चुनाव खर्च का ही हिस्सा होगा। 

सपा उम्मीदवार ने स्ट्रांग रूम में रखी EVMs से छेड़छाड़ का लगाया आरोप

आयोग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बृहस्पतिवार को बताया कि चुनाव के दौरान उम्मीदवारों को लंबित आपराधिक मामलों की मतदाताओं को जानकारी देने के लिये कम से कम तीन बार विज्ञापन देना अनिवार्य है। पिछले साल लागू की गयी इस व्यवस्था के तहत विज्ञापन का खर्च उम्मीदवार के चुनाव खर्च का ही हिस्सा होता है।

केजरीवाल ने मोदी-शाह की जोड़ी को हराने के लिए कार्यकर्ताओं से की अपील


उल्लेखनीय है कि पिछले साल 10 अक्तूबर इस बारे में जारी दिशानिर्देशों के तहत आयोग ने उम्मीदवारों के लिये आपराधिक मामलों का विज्ञापन देने की अनिवार्यता को लागू किया था। लोकसभा चुनाव में इस व्यवस्था को पहली बार अमल में लाया गया है। 

जानिए, साध्वी प्रज्ञा के पास राम नाम वाली चांदी की ईंट के अलावा और कितनी है संपत्ति...

उन्होंने बताया कि राजनीतिक दलों को पहले ही यह सूचित किया जा चुका है कि उम्मीदवारों को इस विज्ञापन का खर्च अपने चुनाव खर्च में शामिल करना होगा। हाल ही में कुछ राजनीतिक दलों ने आयोग से इस खर्च को उम्मीदवार के चुनाव खर्च में शामिल करने के बजाय राजनीतिक दलों के चुनाव खर्च में शामिल करने का अनुरोध किया था।  

अमर सिंह बोले- आजम खान की हार रावण का पुतला जलाने जैसी बात होगी

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.