Friday, May 07, 2021
-->
election commission removed congress kamal nath from star campaigners bjp kailash rkdsnt

चुनाव आयोग ने कमलनाथ का नाम स्टार प्रचारकों से हटाया

  • Updated on 10/30/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मध्य प्रदेश उपचुनाव के मद्देनजर चुनाव आयोग ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व सीएम कमलनाथ ( Kamal Nath) के खिलाफ कार्रवाई की है। आचार संहिता उल्लंघन के मामले में आयोग ने कमलनाथ का नाम स्टार प्रचारकों से हटा दिया है। बता दें कि कमलनाथ ने भाजपा प्रत्याशी इमरतीदेवी को चुनावी रैली में आइटम कहा था। चुनाव से पहले इस कांग्रेस के लिए झटका माना जा रहा है। 

विजयवर्गीय की ‘चुन्नू-मुन्नू’ टिप्पणी चुनाव संहिता का उल्लंघन
निर्वाचन आयोग ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस नेताओं दिग्विजय सिंह और कमलनाथ के खिलाफ कैलाश विजयवर्गीय द्वारा की गई ‘‘चुन्नू-मुन्नू’’ टिप्पणी, चुनाव संहिता के प्रावधानों का उल्लंघन है। साथ ही, आयोग ने भाजपा के वरिष्ठ नेता को आचार संहिता की अवधि के दौरान सार्वजनिक तौर पर ‘‘इस तरह के शब्दों’’ का इस्तेमाल नहीं करने की सलाह दी।

 अमिताभ के शो 'कौन बनेगा करोड़पति' में छाया केजरीवाल का दिल्ली मॉडल, AAP उत्साहित

आयोग ने 26 अक्टूबर को भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय को एक नोटिस जारी किया था और जवाब देने को कहा था। नोटिस के अनुसार, इंदौर के सांवेर में 14 अक्टूबर को एक चुनावी रैली में दोनों कांग्रेस नेताओं के खिलाफ दिए गए बयान को आचार संहिता के प्रावधानों का उल्लंघन करने वाला पाया गया है। भाजपा नेता ने कांग्रेस के दोनों नेताओं को ‘‘गद्दार’’ भी कहा था। 

मोदी सरकार ने लगाया महंगाई का तड़का, एथनॉल की कीमतें भी बढ़ीं

मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर तीन नवंबर को उपचुनाव होने हैं और इसे लेकर चुनाव प्रचार जोरशोर से चल रहा है। विजयवर्गीय ने अपने जवाब में कहा कि नोटिस में जिन टिप्पणियों का जिक्र किया गया है, उन्हें संदर्भ से बाहर और गलत समझा गया। उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस ने चुनाव में हवा का रुख बदलने के लिए यह शिकायत दर्ज कराई। भाजपा नेता ने कहा, ‘‘निर्वाचन आयोग के निर्देशों और आदर्श आचार संहिता के प्रावधानों का पालन करना उनके और भाजपा के हर कार्यकर्ता के लिए सर्वोपरि है और वह उनका बहुत सम्मान करते हैं।’’ 

‘मिर्जापुर 2’ के खिलाफ हिंदी लेखक ने कानूनी कार्रवाई की दी चेतावनी

आदेश में कहा गया है कि आयोग ने मामले पर अच्छी तरह विचार-विमर्श किया है और ‘‘उसका यह मानना है कि कैलाश विजयवर्गीय ने राजनीतिक दलों एवं उम्मीदवारों के मार्गदर्शन संबंधी आदर्श आचार संहिता के पहले भाग के दूसरे पैरा(ग्राफ) का उल्लंघन किया है।’’ आयोग ने विजयवर्गीय को सलाह दी कि उन्हें ‘‘आदर्श आचार संहिता लागू होने के दौरान सार्वजनिक तौर पर इस प्रकार के शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए या इस प्रकार के बयान नहीं देने चाहिए।’’

शापूरजी पालोनजी ग्रुप ने टाटा से अलग होने का प्लान सुप्रीम कोर्ट को सौंपा

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.