Monday, Nov 29, 2021
-->
election commission says counting of bihar assembly election may go till late night rkdsnt

बिहार विधानसभा चुनाव नतीजों के बीच विपक्ष ने उठाए सवाल, चुनाव आयोग ने दी सफाई

  • Updated on 11/10/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चुनाव आयोग ने मंगलवार को बताया कि बिहार विधानसभा चुनाव की मतगणना में सामान्य से अधिक समय लगेगा और यह देर रात तक चलेगी, क्योंकि इस बार 63 प्रतिशत अधिक ईवीएम का इस्तेमाल किया गया है। बिहार विधानसभा चुनाव के लिए मतगणना सुबह से जारी है। इसके बाद विपक्ष राजद और कांग्रेस ने नतीजों के लेकर सवाल भी उठाए। राजद और कांग्रेस ने नतीजे आने के बाद भी उनके नेताओं को सर्टिफिकेट देने में देरी पर सवाल उठाए। इसके बाद चुनाव आयोग को सफाई देनी पड़ी। 

बिहार में वाम दलों का बेहतर प्रदर्शन, 18 सीटों पर आगे, कन्हैया की रैलियों का दिखा असर

नतीजों के ऐलान के बीच कई विपक्षी नेताओं ने आरोप लगाया कि वोटों की गिनती में धांधली हो रही है। आरोप है कि सरकार के दवाब में आकर ईवीएम मशीन से छेड़छाड़ की जा रही है। नेताओं के इन आरोपों को चुनाव आयोग ने सिरे से नकार दिया है। चुनाव आयोग ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा है कि हम किसी के दबाव में आकर काम नहीं करते हैं। आयोग के अधिकारियों ने कहा कि बिहार विधानसभा चुनाव में प्रक्रिया के तहत वोटों की गिनती हो रही है। कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से पोलिंग बूथ ज्यादा बनाए गए थे, यही वजह है कि वोटों की गिनती में देरी हो रही है।

मध्यप्रदेश उपचुनाव में कमलनाथ ने कांग्रेस की हार स्वीकारी

चुनाव आयोग के अधिकारियों ने राष्ट्रीय राजधानी में पत्रकारों को बताया कि तीन चरणों में हुए चुनाव में करीब 4.16 करोड़ मत पड़े थे, जिनमें से अपराह्न डेढ़ बजे तक एक करोड़ से अधिक मतों की गिनती हो गई थी। बिहार में कुल करीब 7.3 करोड़ मतदाताओं में से 57.09 प्रतिशत लोगों ने मताधिकार का प्रयोग किया। एक अधिकारी ने बताया कि मतगणना में अभी तक कोई तकनीकी परेशानी नहीं आई है। 

वर्षा जल संचय के डूंगरपुर मॉडल को अपनाएगी केजरीवाल सरकार : सत्येंद्र जैन

कोविड-19 वैश्विक महामारी के मद्देनजर सामाजिक दूरी बनाए रखने के नियम के पालन के लिए आयोग ने 2015 विधासनसभा चुनाव की तुलना में इस बार मतदान केन्द्रों की संख्या बढ़ा दी थी। इससे पहले, 2015 चुनाव में करीब 65,000 मतदान केन्द्र स्थापित किए गए थे, जिन्हें बढ़ाकर इस बार 1.06 लाख कर दिया गया था। इसके चलते इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) भी अधिक इस्तेमाल करनी पड़ीं।  

अडाणी गैस को सिटी गैस परियोजना पूरी करने के लिए मिला अतिरिक्त वक्त

इस बार हर मतदान केंद्र पर मतदाताओं की संख्या 1,000 से 1,500 तक तय की गई थी, ताकि सामाजिक दूरी सुनिश्चित की जा सके। इसके लिए मतदान केंद्रों की संख्या बढ़ानी पड़ी। बिहार के प्रभारी उप निर्वाचन आयुक्त बिहार चंद्र भूषण कुमार ने कहा, ‘‘हमें उम्मीद है कि प्रक्रिया के अनुसार मतगणना आज देर रात समाप्त हो जाएगी।’’ 

बॉलीवुड निर्माताओं की याचिका पर अदालत ने ‘रिपब्लिक टीवी’, ‘टाइम्स नाउ’ से मांगा जवाब

उन्होंने बताया कि 2015 के विधानसभा चुनाव में मतगणना 38 स्थलों पर हुई थी, लेकिन इस बार सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने के लिए 55 स्थलों पर मतगणना हो रही है। इस बार हर हॉल में मेजों की संख्या 14 से कम करके सात कर दी गई है। भूषण ने बताया कि विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों में 19 से 51 दौर में मतगणना होगी। 

अनुष्का की खातिर छुट्टी लेंगे कोहली, आस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट टीम में रोहित शर्मा

ईवीएम के प्रभारी उप निर्वाचन आयुक्त सुदीप जैन ने ईवीएम की विश्वसनीयता के संबंध में कुछ लोगों के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि मशीन से ‘‘कोई छेड़छाड़ नहीं’’ हो सकती और उच्चतम न्यायालय ने कई बार इस उपकरण के इस्तेमाल को सही बताया है। 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

comments

.
.
.
.
.