Monday, Dec 06, 2021
-->
election commission sent notice to krishna patel sought reply on ownership party office rkdsnt

चुनाव आयोग ने अपना दल (कमेरावादी) की अध्यक्ष कृष्णा पटेल को भेजा नोटिस

  • Updated on 11/25/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। निर्वाचन आयोग ने अपना दल (कमेरावादी) की अध्यक्ष कृष्णा पटेल को एक नोटिस भेजकर उनकी पार्टी के लखनऊ स्थित पंजीकृत केंद्रीय कार्यालय के मालिकाना हक के बारे में स्थिति स्पष्ट करने को कहा है।     आयोग ने यह नोटिस एक वकील वीरेंद्र सिंह की 10 नवम्बर की शिकायत पर 22 नवंबर को भेजा है। बता दें कि कृष्णा पटेल ने कल ही समाजवादी पार्टी के साथ गठजोड़ का ऐलान किया है।  

केजरीवाल सरकार ने गठित किया यमुना सफाई प्रकोष्ठ, 2025 तक का लक्ष्य

उल्लेखनीय है कि कृष्णा पटेल ने आयोग को सौंपे एक अनापत्ति प्रमाण पत्र में कहा है कि लखनऊ के बी एन रोड, लालबाग स्थित पार्टी का केंद्रीय कार्यालय जिस भूमि पर उपलब्ध है, वह उसकी मालकिन हैं और उन्होंने अपना दल (कमेरावादी) के केंद्रीय कार्यालय के संचालन के लिए उसे 500 रुपये प्रतिमाह की दर से किराए पर दिया है। 

पीएम मोदी से मिलीं ममता बनर्जी, सुब्रमण्यम स्वामी से मुलाकात भी चर्चा में

वकील वीरेंद्र सिंह ने आयोग से शिकायत में कहा है कि जिस कार्यालय की मालकिन होने का दावा कर कृष्णा पटेल ने उसे अपना दल (कमेरावादी) को केंद्रीय कार्यालय के संचालन के लिए किराए पर दिया है, वह दरअसल अपना दल नामक राजनीतिक दल की संपत्ति है, जिसका विवाद न्यायालय में विचाराधीन है।     उन्होंने आरोप लगाया है कि कृष्णा पटेल द्वारा अपना दल नामक राजनीतिक पार्टी की संपत्ति का अनापत्ति प्रमाण पत्र किसी दूसरे दल को पंजीकृत कार्यालय चलाने के लिए देना ‘‘धोखाधड़ी’’ है। 

गोवा में भाजपा अध्यक्ष नड्डा के निशाने पर कांग्रेस की बजाए TMC और AAP

सिंह ने दावा किया कि पंजीकरण के लिए आवेदन देते समय कृष्णा पटेल अपना दल की प्राथमिक सदस्य भी नहीं थी।     सिंह की शिकायत का संज्ञान लेते हुए आयोग ने कृष्णा पटेल को नोटिस भेजा है और उनसे 22 दिसंबर तक अपना पक्ष रखने को कहा है। निर्वाचन आयोग के एक अधिकारी ने बृहस्पतिवार को इस बात की पुष्टि की कि आयोग की ओर से कृष्णा पटेल को नोटिस भेजा गया है और उनसे स्थिति स्पष्ट करने को कहा गया है। 

अगर यूपी और अन्य राज्यों में चुनाव नहीं होते तो केंद्र कृषि कानून वापस नहीं लेता : पवार 

आयोग ने कहा कि यदि वह निर्धारित समय के भीतर अपना जवाब नहीं देती हैं तो वह उपलब्ध दस्तावेजों के आधार पर उपयुक्त कार्रवाई करेगा। गौरतलब है कि शिकायत सही पाए जाने पर निर्वाचन आयोग दल का पंजीकरण रद्द भी कर सकता है। आयोग के इस नोटिस के बारे में कृष्णा पटेल से कई बार संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन संपर्क नहीं हो पाया।

अखिलेश से मिलने के बाद AAP के संजय सिंह बोले- यूपी को BJP की तानाशाही से मुक्त कराना है

comments

.
.
.
.
.