Monday, Jan 21, 2019

Exclusive Interview: चुनाव नजदीक आते ही भाजपा को आती है राम और धर्म की याद

  • Updated on 11/25/2018

नई दिल्ली/शेषमणि शुक्ल मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव का प्रचार अंतिम चरण में है। 28 नवंबर को मतदान होना है। लेकिन अब तक यह साफ नहीं हो सका है कि चुनावी ऊंट किस करवट बैठेगा। न कहीं किसी तरह की लहर और न ही ऐसा कोई मुद्दा, जो चुनाव के परिणाम का संकेत दे सके।

प्रांतीय मुद्दे अप्रभावी होते दिखे तो राजनीतिक दलों ने राष्ट्रीय मुद्दों को उछाला, परंतु वे भी यहां अपना प्रभाव छोड़ते नहीं दिख रहे हैं। अब मामला तुष्टीकरण, जाति-धर्म और राम मंदिर पर आकर टिका है, जिसके जरिए वोटों के ध्रुवीकरण की कोशिश हो रही है। चुनाव से जुड़े विभिन्न बिंदुओं पर नवोदय टाइम्स/पंजाब केसरी के लिए शेषमणि शुक्ल ने कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ से बातचीत की। प्रस्तुत है प्रमुख अंश...

MP: मुख्यमंत्री की दावेदारी से कमलनाथ का इनकार, कहा- मुझे CM बनने की भूख नहीं

'एमपी में भाजपा बनाम जनता का चुनाव'

अयोध्या में 25 नवंबर को होने जा रहे धर्म संसद का मध्य प्रदेश के चुनाव पर क्या असर पड़ेगा?
भाजपा और आरएसएस हमेशा से इसी तरह की राजनीति करते रहे हैं। जब देश में चुनाव आता है तो उन्हें राम मंदिर, धर्म और जातियां याद आने लगती हैं।

सवाल वही है, राम मंदिर के ईश्यू को एक बार फिर गरमाने की कोशिश हो रही है। इसका मध्य प्रदेश के चुनाव पर क्या असर देख रहे हैं?
इनके पास जब कोई मुद्दा नहीं होता है तो, वे इसी तरह के मुद्दों को सामने लाकर लोगों की भावनाओं को भुनाने की कोशिश करते हैं। लेकिन लोग अब समझ चुके हैं। वे इनके बहकावें में नहीं आने वाले।

चुनाव में इस बार किसी तरह की कोई लहर दिखाई नहीं दे रही, फिर भी बदलाव की बातें आ रही हैं, तो यह चुनाव भाजपा बनाम कांग्रेस या सरकार बनाम जनता?
प्रदेश का यह चुनाव भाजपा बनाम जनता है। जनता इस बार मन बना चुकी है बदलाव का। प्रदेश की जनता भाजपा के कुशासन और अनीतियों से ऊब चुकी है। परेशान हो चुकी है। इसलिए जनता बदलाव चाहती है।

कांग्रेस के मेनिफेस्टो पर कमलनाथ की सफाई, बोले- RSS पर प्रतिबंध लगाने की बात नहीं कही

'वायरल वीडियो बेबुनियाद, सब फर्जी'

आपका एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसके आधार पर कांग्रेस पर मुस्लिम तुष्टीकरण के आरोप फिर मढ़े जा रहे हैं?
मैंने कहा न, जब भाजपा-आरएसएस के पास कुछ नहीं बचता तो ऐसे विषयों को मुद्दा बनाने की कोशिश करते हैं। मेरे जाने कितने वीडियो-ऑडियो  फर्जी बना रखे हैं और वायरल कर रहे हैं। लेकिन इससे कुछ होने वाला नहीं। जनता अब समझ चुकी है इनके चाल, चरित्र और चेहरे को।

आरएसएस की ओर से एक सर्वे की बात आई है, जिसमें 142 सीटें कांग्रेस को मिलने की उम्मीद कही जा रही है। ऐसा है क्या?
हमें आरएसएस के सर्वे की जरूरत नहीं है। प्रदेश की जनता ने फैसला कर लिया है  और  वह बदलाव का मन बना चुकी है। भाजपा के झूठे वादे और जुमले अब नहीं चल रहे हैं तो 
यह सब सर्वे आदि का नाटक करके वोटर को भटकाने की कोशिश की जा  रही है।  लेकिन, कोई भी चाल कामयाब नहीं होने वाली। मतदाता को बहकाया नहीं जा सकता।

मध्य प्रदेश चुनाव: कांग्रेस ने अपने 46 मौजूदा विधायकों को फिर दिया टिकट

'गांव, खेत, खलिहान... जाकर कांग्रेस ने तैयार किया वचन पत्र'

कांग्रेस ने करीब 86 पेज का वचन पत्र जारी किया है। इसमें कौन से ऐसे बिंदु हैं जो लोगों को सीधे अपील कर रहे हैं?
कांग्रेस ने अपना वचन पत्र दफ्तर या ड्राइंग रूम में बैठ कर नहीं तैयार किया है। इसे गांव, खेत, खलिहान, सड़क और मैदान में जाकर बनाया गया है। इसमें जो कुछ कहा गया है, सत्ता में आने पर हमारी पार्टी उसे पूरा करके देगी। यह कोई जुमलेबाजी नहीं है।

'पार्टी तय करेगी कौन बनेगा सीएम' 

मैं क्या मध्य प्रदेश के भावी मुख्यमंत्री से बात कर रहा हूं?
मैं यह नहीं कह सकता है कि आप भावी मुख्यमंत्री से बात कर रहे हैं। यह जनता को तय करना है। जनता अपनी राय देगी तब पार्टी को तय करना है कि कौन मुख्यमंत्री बनेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.