Tuesday, Jun 18, 2019

राजधानी में बढ़ती गर्मी ने तोड़े रिकॉर्ड, बिजली की मांग 6904 मेगावाट

  • Updated on 6/13/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  राजधानी दिल्ली में झुलसाने वाली प्रचंड गर्मी की वजह से तापमान ने दो दिन पहले सोमवार को रिकॉर्डतोड़ 48 डिग्री का आंकड़ा छू लिया, वहीं बुधवार को बिजली की मांग ने भी अपने पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। बुधवार को बिजली की अधिकतम 6904 मेगावाट दर्ज की गई जो कि इस साल के गर्मी का सबसे अधिक मांग है। जून के दूसरे सप्ताह में जब बिजली की इतनी मांग है तो आने वाले दिनों में यह मांग जल्द ही 7000 मेगावाट का आंकड़ा पार कर लेगी। 

दिल्ली ट्रांस्को लिमिटेड के अनुसार, पिछले तीन साल के आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो वर्ष 2017 में 11 व 12 जून को बिजली की अधिकतम मांग 5313 व 5400 मेगावाट, वर्ष 2018 में 11 व 12 जून को 6412 व 6689 मेगावाट अधिकतम मांग दर्ज की गई थी, जबकि इस साल 11 जून को  6792 तथा बुधवार को 6904 मेगावाट दर्ज की गई है।

दिल्ली में प्रत्येक वर्ष बिजली की अधिकतमांग में  500  मेगावाट की वद्धि हो रही है। बिजली की मांग बढऩे के कारण बिजली की उपलब्धता भी बढ़ानी पड़ रही है। बिजली कंपनियों का कहना है कि इस साल बिजली की मांग 7400 मेगावाट के आंकड़े को पार कर सकती है। 

पिछले साल बिजली की अधिकतम मांग  7016 मेगावाट तक पहुंची थी। इस साल बिजली कंपनी बीआरपीएल और बीवाईपीएल ने अपने क्षेत्रों में 2951 मेगावाट और 1559 मेगावाट की चरम बिजली की मांग को सफलतापूर्वक पूरा करने का दावा किया है। कंपनियों ने कहा है कि यह बिजली की मांग रात के घंटों के दौरान और बढ़ सकती है। बीएसईएस प्रवक्ता ने बताया कि पिछले साल दक्षिण और पश्चिम दिल्ली अधिकतम मांग 3081 मेगावाट तक पहुंच गई थी, इस वर्ष लगभग 3200 मेगावाट को छूने की उम्मीद है। पूर्वी और मध्य दिल्ली में पिछले वर्ष 1561 मेगावाट तक पहुंच चुकी थी। इस साल लगभग 1640 मेगावाट को छूने का अनुमान है। बिजली कंपनी टीपीडीडीएल का कहना है कि उसके इलाके  में भी बिजली की मांग के अनुरूप उपलब्ध है। 

कई इलाकों में बिजली कटौती जारी रही
बिजली की इस मांग की वजह से राजधानी के कई इलाकों में बिजली की कटौती जारी रही। जानकारी के अनुसार  दक्षिणी दिल्ली के ओखला, संगम विहार, बदरपुर, तिगड़ी, जामिया, नजफगढ़, तुगलकाबाद, उत्तरी-पश्चिमी दिल्ली के सुल्तानपुरी, मंगोलपुरी, जहांगीरपुरी, सेक्टर-20, समयपुर बादली तथा आसपास के क्षेत्रों के अलावा पूर्वी दिल्ली के प्रताप विहार, विश्वास नगर तथा अन्य कई कॉलोनियों में रुक-रुककर बिजली की आंख-मिचौली चलती रही। बिजली वितरण कंपनियों बीएसईएस व टीपीडीडीएल के अधिकारियों का कहना है कि बिजली की कोई कटौती नहीं की जा रही है। लोकल फाल्ट व बिजली चोरी की वजह से कुछ इलाके में बिजली गुल हो रही है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.