electronic-chip-will-be-installed-in-the-human-brain-in-elom-musk-new-project

इस प्रोजेक्ट में इंसान के दिमाग में लगेगी इलेक्ट्रॉनिक चिप और कम्प्यूटर ऐप करेगी एक्सेस

  • Updated on 7/18/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। क्या हो अगर आप किसी इंसान का दिमाग(Mind) पढ़ सकें और जान सकें कि आखिर सामने वाले व्यक्ति के दिमाग में क्या चल रहा है या वह आपके बारे में क्या सोचता है। अब आप बोलेंगे यह तो सिर्फ हॉलीवुड फिल्म्स में ही पॉसिबल है तो हम आपको बता दें कि अब सिर्फ हॉलीवुड फिल्म्स में ही नहीं रियल लाइफ में भी इंसानों का दिमाग पढ़ा जा सकेगा और वह भी एक मोबाइल एप के जरिए। 

Video: भारतीय हैकर ने बताया इंस्टाग्राम को हैक करेन का तरीका, फेसबुक ने दिया इतने लाख का ईनाम

ऐप से किया जाएगा एक्सेस
दरअसल, दुनिया की सबसे मशहूर कंपनीज में से एक टेस्ला के सीईओ और एयरोस्पेस स्टार्टअप स्पेस X के संस्थापक एलन मस्क (Elon Musk) ने एक ऐसी योजना तैयार की है, जिसके जरिए अब इंसानों का दिमाग भी पढ़ा जा सकेगा। इस योजना के तहत एलन मस्क की कंपनी एक ऐसी चिप तैयार कर रही है, जिसे इंसानी दिमाग में इंप्लांट किया जा सकेगा, जिसे एक मोबाइल एप के जरिए कंट्रोल किया जाएगा और यह 24X7 कंप्यूटर से कनेक्टेड रहेगी।

Apple वॉच ने फिर दिखाया अपना कमाल, जानें कैसे डूबते आदमी की जान बचाई

दिमागी बीमारी को सुलझाने में होगी मदद
इस चिप को तैयार करने का सबसे बड़ा मकसद है ब्रेन डिसऑर्डर (Brain Disorders) से जूझ रहे लोगों की बीमारी का इलाज करना है और उन्हें ऐसी खतरनाक बीमारियों से राहत दिलाना है, जिसका सामान्यतौर पर इलाज संभव नहीं होता। इस चिप का इस्तेमाल मानसिक तौर पर बीमारों की मदद करने के साथ ही इंसानों में सुपरह्यूमन इंटेलिजेंस लेवल को इनेबल करना भी है।

Exciting Features के साथ जल्द आने वाला है PUBG का Season 8

बता दें एलन मस्क (Elon Musk) ने 'न्यूरोलिंक' (Neuro-Link) नाम की एक सीक्रटिव कंपनी लॉन्च की थी, जिसमें अब एक साल के अंदर ही 'ब्रेन कंप्यूटर इंटरफेस' की भी टेस्टिंग शुरू करने की तैयारी की जा रही है। इस चिप और योजना को लेकर एलन मस्क(Elom Musk) का कहना है कि इस डिवाइस को तैयार करने का सबसे बड़ा कारण है ऐसे लोगों की मदद करना, जो लकवाग्रस्त हैं और न्योरोलॉजिकल संबंधी समस्या से पीड़ित हैं।

वनडे और टी-20 में रोहित संभाल सकते हैं टीम इंडिया की कमान, कोहली बने रहेंगे टेस्ट कैप्टन

छोटे जीवों पर हो चुका है टेस्ट
बता दें यह एक 4X4mm की एक चिप होगी, जिसकी टेस्टिंग पहले ही चूहों और बंदरों पर की जा चुकी है। इस चिप से हजारों माइक्रोस्कोपिक थ्रेड भी कनेक्टेड रहेंगे, जिसे इंसानी दिमाग में फिट करने के लिए ड्रिल से 4 छोटे छेद बनाए जाएंगे और फिर इसे दिमाग में इंप्लांट कर दिया जाएगा। वहीं थ्रेड्स के इलेक्ट्रॉड्स न्यूरल स्पाइक्स को मॉनिटर करने में सक्षम रहेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.