Monday, Jan 30, 2023
-->
emerald court society ... now in a new controversy regarding bachelors

एमराल्ड कोर्ट सोसाइटी...अब बैचलर्स को लेकर नए विवाद में

  • Updated on 12/6/2022

नई दिल्ली, (टीम डिजिटल):दिल्ली से सटे नोएडा में ट्विन टावर के बाद सुपरटेक एमराल्ड कोर्ट सोसाइटी एक बार फिर चर्चा में है। इस बार एमराल्ड कोर्ट सोसाइटी अध्यक्ष के एक अजीबो गरीब फरमान के चलते सोसाइटी सुर्खियों में है। यह फरमान अध्यक्ष द्वारा फ्लैट मालिकों को ई मेल के जरिए भेजा गया है। फरमान में लिखा गया है कि फ्लैट मालिक अपना फ्लैट बैचलर्स, छात्र-छात्राएं या अविवाहित लोगों को किराए पर नहीं देंगे। अगर फ्लैट मालिकों ने ऐसे लोगों को फ्लैट दे रखा है तो उनसे 31 दिसम्बर तक फ्लैट को खाली करा लिया जाए। अध्यक्ष के इस फरमान के बाद विवाद खड़ा हो गया है। सोसाइटी में रहने वाले लोगों ने ही फरमान का विरोध शुरू कर दिया। यह मामला अब राज्य महिला आयोग तक भी पहुंच गया है। 


सोसाइटी के अध्यक्ष उदयभान सिंह ने फ्लैट ओनर को ई मेल भेजा है, जिसके मुताबिक किराए पर रह रहे बैचलर्स, छात्र-छात्राएं या फिर अविवाहित लोगों को 31 दिसम्बर तक फ्लैट खाली करवाना होगा। सोसाइटी के अध्यक्ष के इस आदेश के बाद विवाद खड़ा हो गया है। फरमान में साफ तौर पर लिखा है कि सोसाइटी में रहने वाले बैचलर और पेइंग गेस्ट के रूप में रहने वाले लोगों के 31 दिसम्बर तक सोसाइटी खाली कर दें। सोसाइटी में यह मेल 15 नवम्बर को सभी को भेजा गया है। इस नोटिस के बाद से कुछ लोग इसके पक्ष में हैं, तो कुछ विपक्ष में।  सुपरटेक एमराल्ड कोर्ट सोसाइटी के अपार्टमेंट ओनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष उदयभान सिंह तेवतिया ने बताया कि कि इस सोसाइटी में लोगों की शिकायतें आ रही थी कि जो भी बैचलर यहां पर रहते हैं, वे देर रात तक पार्टी करते हैं, म्यूजिक बजाते हैं। जिसकी वजह से आसपास के लोगों को दिक्कत होती है। अपार्टमेंट ओनर्स एसोसिएशन के कानून में भी यह सुविधा नहीं है। इसलिए सभी को नोटिस भेजा गया है। 31 दिसम्बर तक फ्लैट खाली करने के लिए कहा गया है। 

सोसाइटी के पूर्व अध्यक्ष ने नोटिस को बताया गलत
इसी सोसाइटी की अपार्टमेंट ओनर्स एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष रहे राजेश राणा ने बताया कि इस तरीके का नोटिस देना सभी को ठीक नहीं है। लोगों के मकान यहां पर हैं, उनका मेंटेनेंस जाता है। अगर वे किराए पर अपना मकान नहीं देंगे तो मेंटेनेंस कैसे दिया जाएगा। साथ ही साथ उन्होंने यह भी कहा कि हमारे भी बच्चे हैं, जब वह बाहर जाते हैं। अगर उन्हें अच्छे सोसाइटी में मकान नहीं मिलेगा तो वह कैसे रहेंगे और कैसे पढ़ पाएंगे। उन्होंने कहा कि अगर शिकायतें मिलती हैं तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। 
महिला आयोग की अध्यक्ष कर रही नोटिस की जांच 
फिलहाल इस नोटिस के मामले ने तूल पकडऩा शुरू कर दिया है और मामला राज्य महिला आयोग तक पहुंच गया है। नोएडा की सोसाइटी के कुछ पदाधिकारियों ने मामले की शिकायत राज्य महिला आयोग अध्यक्ष से की है। इस संबंध में राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष विमला बाथम का कहना है कि मामले का संज्ञान लिया गया है और जल्द ही इस मामले को सुलझा लिया जाएगा। 
नोएडा-ग्रेटर नोएडा में दो लाख से अधिक बैचलर्स रहते हैं किराए पर
सुपरटेक एमराल्ड कोर्ट सोसाइटी के अपार्टमेंट ओनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष के इस फरमान के बाद से नोएडा-ग्रेटर नोएडा में रहने वाले बैचलर्स में बैचेनी बढ़ गई है। बैचलर्स रॉनी सिंह का कहना है कि नोएडा-ग्रेटर नोएडा में दो लाख से अधिक बैचलर्स रहते हैं। सभी किराए के मकानों में रहते हैं। इस तरह नोटिस जारी किया जाना ठीक नहीं है। अगर बैचलर्स कुछ दिक्कत करते हैं तो इसकी शिकायत मकान या फ्लैट मालिक से करनी चाहिए। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.