Saturday, Aug 13, 2022
-->
every person coming from britain will be genome sequencing due to corona new strain sohsnt

भारत में कोरोना के नए स्ट्रेन का खतरा, ब्रिटेन से आए हर शख्स के सैंपल की होगी जीनोम सीक्वेंसिंग

  • Updated on 12/23/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। ब्रिटेन (Britain) में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन (covid new strain) मिलने के बाद से भारत सरकार अलर्ट मोड है। ऐसे में कोविड-19 पॉजिटिव लोगों के सैंपल की जीनोम सीक्वेंसिंग को अनिवार्य कर दिया गया है। इस तकनीक के जरिए ये पता लगाया जा सकेगा कि सैंपल में मौजूद कोरोना का स्ट्रेन कौन-सा है। देश में अब तक महज चार हजार सैंपल की सीक्वेंसिंग ही हो सकी है जिनमें 10 अगल-अलग प्रकार के कोरोना मिले हैं।

भारत में Corona के नए रूप की हुई Entry,लंदन से आए यात्री में मिला संक्रमण, जांच के लिए भेजा नमूना

जीनोम सीक्वेंसिंग के जरिए होगी पहचान
ब्रिटेन में मिले कोरोना के नए स्ट्रेन को लेकर सीसीएमबी के निदेशक डॉ. राकेश मिश्रा का कहना है कि नए स्ट्रेन की पहचान आरटी-पीसीआर या किसी अन्य जांच के माध्यम से संभव नहीं इसकी पहचान सिर्फ जीनोम सीक्वेंसिंग के जरिए ही संभव है। उन्होंने इस तकनीक के बारे में अधिक जानकारी देते हुए बताया कि दुनियाभर में अब तक करीब तीन लाश सैंपल की जीनोम सीक्वेंसिंह हो चुकी है, जिसमे 17 अलग-अलग तरह के कोरोना की पहचान की गई है। 

Corona के नए रूप से 6 देशों में हड़कंप, 70 प्रतिशत ज्यादा तेजी से फैल रहा है यह स्ट्रेन

ब्रिटेन से दिल्ली लौट 5 लोग कोरोना पॉजिटिव
वहीं दूसरी ओर ब्रिटेन में कोविड-19 का नया स्ट्रेन मिलने के बाद दुनियाभर में हडकंप मच गया है। ऐसे में बीते सोमवार को लंदन से दिल्ली हवाई अड्डे पर पहुंचे चालक दल समते कुल 266 यात्रियों का कोविड-19 टेस्ट किया गया, जिसमें पांच सदस्य कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) पाए गए।

BioNTech का दावा- कोरोना वायरस म्यूटेशन को खत्म करने वाली वैक्सीन 6 हफ्ते में बना सकते हैं....

एनसीडीसी भेजे पॉजिटिव लोगों के सैंपल
भारत में कोविड-19 के लिए नियुक्त नोडल अधिकारी ने बताया कि कोरोना के नए स्ट्रेन की पहचान के लिए फिलहाल संक्रमित लोगों के सैंप्लस एनसीडीसी के लिए भेज दिए गए हैं। मालूम हो कि भारत सरकार ने ब्रिटेन से आने वाली सभी फ्लाइट्स पर 31 दिसंबर तक के लिए रोक लगा दी है।

एक हफ्ते में दिल्ली पहुंचेगी कोरोना वैक्सीन की पहली खेप, स्टोरेज के लिए कूल चैंबर्स तैयार

भारत में कोरोना के नए स्ट्रेन का कोई केस नहीं
दरअसल, ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन मिलने की खबर के बाद से भारत अलर्ट हो गया है। कोरोना के इस नए स्ट्रेन के बारे में देश के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल एम्स (AIIMS) के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया (Randeep Guleria) का कहना है कि भारत में इससे पहले इस प्रकार का कोई केस नहीं आया है। हालांकि अब सतर्क रहने की जरूरत है और कोरोना संक्रमण की जांच के साथ अब इसके जेनेटिक सीक्वेंस की भी जांच करनी होगी।

कोरोना के नए स्ट्रेन के डर से शेयर बाजार ने पलटी चाल, बाजार झटके से गिरा नीचे

कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग को लेकर कही ये बात
डॉक्टर गुलेरिया का कहना है कि ब्रिटेन से आने वाले लोगों की टेस्टिंग में खासतौर पर इस बात का ध्यान रखना होगा कि कही उनमें जो कोरोना वायरस है वो नए स्ट्रेन वाला न हो। अगर ऐसा वायरस उनमें मिलता है तो उनकी कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग पर ध्यान देना होगा। साथ ही उनकी मॉनिटरिंग भी करनी होगी। इस समय दुनिया के कई देशों की तुलना में भारत अच्छी स्थिति में है, इसलिए हमें सतर्क रहने की जरूरत है। 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.