Saturday, Jul 20, 2019

क्या 'प्रोजेक्ट शक्ति' के फर्जी आंकड़े हैं कांग्रेस की हार की असली वजह ! जानें पूरी कहानी

  • Updated on 6/19/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। 23 मई को 2019 के आम चुनावों के परिणाम घोषित हुए। भाजपा नीत राजग को बड़ा बहुमत हासिल हुआ जबकि आशा के विपरीत कांग्रेस को मिली करारी हार के बाद रात 10:40 बजे के बाद एक ई-मेल अपने बहुप्रचारित डाटा विश्लेषिकी विभाग के सदस्यों के इनबॉक्स में उतरा।

ई-मेल के लेखक प्रवीण चक्रवर्ती कांग्रेस के डाटा विभाग के प्रमुख थे। डाटा विभाग की फरवरी 2018 में स्थापना हुई। अंग्रेजी समाचार पत्र के पास इस ई-मेल की एक प्रति है और इसकी समीक्षा की गई है। चक्रवर्ती ने लिखा, ‘‘मैंने दिन का अधिकांश समय यह सोचकर बिताया है कि हम अलग-अलग तरीके से क्या कर सकते थे। हम सभी विश्लेषण और सर्वेक्षणों और इतने बड़े रुझान को क्यों नहीं पकड़ पाए। मुझे लगता है कि प्रत्येक को आपके योगदान और प्रयास पर वास्तव में गर्व होना चाहिए। हम एक कारण के लिए लड़े और जबकि यह अभी तक पूरा नहीं हुआ है, हम तब तक लड़ाई जारी रखेंगे जब तक कि यह पूरा न हो जाए।’

Image result for Rahul Gandhi

उस मेल में प्रमुख प्रश्न का उत्तर नहीं था। प्रोजैक्ट शक्ति, कांग्रेस की डाटा परियोजना व मोदी लहर को पढऩे में विफल क्यों रही? समाचार पत्र ने अपनी रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से लिखा है कि डाटा डिपार्टमैंट एक ‘ईको चैम्बर’ बन गया था। वह सिर्फ वही भाषा बोलता था जो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सुनना पसंद करते थे। 23 मई को चुनाव नतीजे सामने आने के बाद यह आंकड़ा पूरी तरह से गलत साबित हुआ। डाटा प्रोजैक्ट ‘शक्ति’, जिसे कांग्रेस की मजबूती के लिए तैयार किया गया था, उसी से कांग्रेस पार्टी को सबसे बड़ा धोखा मिला। 

‘शक्ति’ क्या है?
आम धारणा है कि शक्ति एक मोबाइल एप्लीकेशन है, जबकि यह सच नहीं है। शक्ति एक प्लेटफॉर्म है, जिसे कांग्रेस पार्टी के कार्यकत्र्ताओं के साथ आंतरिक संवाद स्थापित करने के लिए शुरू किया गया था। इसके जरिए पार्टी कार्यकत्र्ताओं के वोटर आई.डी. और उनके मोबाइल नंबर को ङ्क्षलक किए जाने का उद्देश्य था। इसके जरिए बिखरे संगठन को एकजुट करने की योजना थी। इसकी जिम्मेदारी पूर्व बैंकर प्रवीण चक्रवर्ती को सौंपी गई थी। शक्ति के जरिए पार्टी का शीर्ष नेतृत्व कार्यकत्र्ताओं के साथ सीधा संवाद स्थापित कर सकता था। इसकी शुरूआत पिछले साल हुई थी जब कांग्रेस पार्टी चुनाव की तैयारी कर रही थी।

Related image

क्यों फेल हुआ प्रोजैक्ट?
रिपोर्ट तैयार करने के लिए प्रोजैक्ट ‘शक्ति’ से जुड़े लोगों और कांग्रेस नेताओं के साथ बातचीत की गई। रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से लिखा गया है कि डाटा इक_ा करने के लिए जिला स्तर के पदाधिकारियों पर दबाव बनाया गया। उन्हें लगा कि जितने ज्यादा आवेदन करवा देंगे तो टिकट पक्का हो जाएगा। यहीं पर गलती हो गई। प्रोजैक्ट शक्ति के एक सूत्र ने बताया कि तेलंगाना के एक कांग्रेस नेता ने तो शक्ति के मैंबर बनाने के लिए एजैंसी हायर कर ली। 

Related image

करीब 70 प्रतिशत तक डाटा फर्जी
इस तरह देशभर से गलत डाटा की भरमार हो गई। सूत्रों के मुताबिक शक्ति डाटा में करीब 50-70 प्रतिशत डाटा फर्जी था। सिर्फ 30-35 प्रतिशत ही नॉर्मल कार्यकत्र्ता थे। इसका अंदाजा इसी बात से लग जाता है कि कांग्रेस पब्लिसिटी के लिए तैयार वीडियोज को पहले अपने कार्यकत्र्ताओं को दिखाना चाहती थी। इसके लिए शक्ति के सभी सदस्यों को एस.एम.एस. के जरिए यू-ट्यूब का ङ्क्षलक भेजा गया लेकिन इन वीडियोज में कुल 20-25 हजार व्यूज ही मिले, जबकि शक्ति के सदस्यों का बेस इससे कई गुना ज्यादा था।

Image result for Rahul Gandhi

‘शक्ति’ की कल्पना मूल रूप से एक आंतरिक संचार मंच के रूप में की गई थी लेकिन एकत्रित आंकड़ों के साथ यह ऑनग्राऊंड सर्वेक्षणों के लिए एक उपकरण बन गया। कांग्रेस नेताओं ने बताया कि इसका इस्तेमाल फीडबैक के लिए किया गया था। इसके साथ दो समस्याएं थीं-‘एक खराब डाटा और दूसरी कई वास्तविक पार्टी कार्यकत्र्ताओं द्वारा ईमानदार प्रतिक्रिया नहीं देना।’ इस सदस्य ने कहा, ‘‘पार्टी का कोई भी प्रतिबद्ध कत्र्ता आपको वास्तविकता नहीं बताएगा।’’ 
कुछ कांग्रेस सदस्यों ने आरोप लगाया कि यहां तक कि गठबंधनों के फैसले भी शक्ति सर्वेक्षणों से प्रभावित थे। 
चक्रवर्ती के बारे में एक अन्य अधिकारी ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि जब उन्होंने डाटा संग्रह में काम किया तो उन्होंने अच्छा काम किया। तो क्या हुआ अगर डाटा गलत था? यह (डाटा संग्रह) हमेशा एक गन्दा मामला है। समस्या तब शुरू हुई जब उन्होंने सर्वेक्षण करने के लिए कथित तौर पर इस पर भरोसा किया।’’

Related image

चक्रवर्ती का 23 मई का ई-मेल इस प्रकार समाप्त हुआ, ‘‘एक बार जब चीजें सुलझ जाती हैं तो विभाग के लिए एक विजन तैयार करने और योजना बनाने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष के साथ मेरी बातचीत होगी। तब तक, यह केवल उचित है कि हम शक्ति पंजीकरण जैसी चीजों को रोक कर रखें। ’’

उद्देश्य से भटक गया शक्ति
रिपोर्ट के मुताबिक शक्ति की शुरूआत कांग्रेस पार्टी के आंतरिक संवाद प्लेटफॉर्म के रूप में हुई थी लेकिन फर्जी डाटा के साथ इसे ऑन-ग्राऊंड सर्वे और फीडबैक के लिए इस्तेमाल किया जाने लगा। एक तो फर्जी डाटा और दूसरा कार्यकत्र्ताओं का गैर-ईमानदार जवाब...कांग्रेस पार्टी के लिए यह घातक साबित हुआ।

एक अधिकारी ने कहा, ‘‘ऐसा इसलिए था क्योंकि डाटा एनालिटिक्स विभाग और विशेष रूप से प्रवीण (चक्रवर्ती), इसके अध्यक्ष डाटा के साथ कभी भी आगे नहीं बढ़ रहे थे। शक्ति के लिए एक निरीक्षण समिति के सुझाव थे...उस विचार को चक्रवर्ती ने खंडित किया था।’’ 

अधिकारी ने कहा, ‘‘शक्ति तक पहुंच को काफी नियंत्रित किया गया था और टीम के भीतर भी एक सदस्य को पता नहीं था कि दूसरा क्या कर रहा है और डाटा एनालिटिक्स विभाग ने विलियम चितला द्वारा लिखित एक ई-मेल भेजा था, जो चक्रवर्ती के एक करीबी सहयोगी और बेंगलूर के एक आई.टी. उद्यमी थे, जिन्होंने ‘शक्ति डाटा सुरक्षा नीति’ का वर्णन किया था।’’ चितला ने लिखा, ‘‘नई शक्ति डाटा सुरक्षा नीति के अनुसार, हम असैंबली निर्वाचन क्षेत्र स्तर के पंजीकृत उपयोगकत्र्ताओं को डाऊनलोड के लिए डाटा प्रदान नहीं करेंगे। इसकी बजाय हम डाउनलोड करने के लिए बूथलेवल शक्ति पंजीकृत उपयोगकर्ता डाटा प्रदान करेंगे।

Image result for Rahul Gandhi

इससे कुछ तिमाहियों में खतरे की घंटी बज गई। वरिष्ठ अधिकारी ने पहले कहा कि एक निजी व्यक्ति जो पार्टी का पदाधिकारी भी नहीं है, वह विभाग के पदाधिकारियों को निर्देश भेज रहा है। चक्रवर्ती के साथ इस व्यक्ति ने अपना सब कुछ ठिकाने लगा दिया। जब चितला से संपर्क किया, तो उन्होंने किसी भी प्रकार की टिप्पणी से इंकार करते हुए कॉल को काट दिया। यह स्पष्ट नहीं है कि चितला कांग्रेस के सदस्य हैं या नहीं। 

पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने कहा कि सोशल मीडिया विभाग को शक्ति से अनुरोधित डाटा नहीं मिला है और इसलिए पूर्व में एक समानांतर टाटा एनालिटिक्स ऑप्रेशन चला। 

विभाग ने ब्रिटिश सर्वेक्षण एजैंसी यू-गॉव द्वारा एक सर्वेक्षण भी शुरू किया। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता के लिए काम करने वाले एक सलाहकार ने कहा कि शीर्ष नेताओं ने राफेल फाइटर जैट सौदे पर विवाद के बारे में ज्यादा नहीं बोला। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.